Biography of Ankit Bhati – Ola के संस्थापक अंकित भाटी की जीवनी

Ankit Bhati – अंकित भाटी Ola cabs  संस्थापक और मुख्य प्रौद्योगिकी अधिकारी के रूप में जाने जाते हैं। उन्होंने वर्ष 2010 में अपने साथी भाविश अग्रवाल के साथ Ola कंपनी की स्थापना की थी। इसके साथ ही अंकित भाटी ANI टेक्नोलॉजी के सह संस्थापक भी है। आज के हमारे इस लेख में हम Biography of Ankit Bhati – Ola के संस्थापक अंकित भाटी की जीवनी के बारे में जानकारी लेंगे।

भारत में, कार कैब जैसे उद्योग में इन्होंने अपना बड़ा ही नाम कमाया है। ज्यादातर हम कहीं भी किसी भी जगह घूमने जाते हैं हमें किराए पर गाड़ियों की आवश्यकता होती है। और नई जगह पर गाड़ियां किराए पर लेना काफी ही मुश्किल भरा होता है। लेकिन, भाविश अग्रवाल और अंकित भाटी दोनों ने मिलकर के इसी आईडिया पर एक स्टार्टअप शुरू किया। यह स्टार्टअप देखते ही देखते पूरे भारत में पांव पसार चुका है। इन्होंने अपने स्टार्टअप में एंड्राइड एप्लीकेशन एवं अन्य प्लेटफार्म के जरिए अपनी वेबसाइट लांच की। जहां पर आप जाकर के अपने लिए गाड़ी किराए पर ले सकते हैं। इनका यह आईडिया उन लोगों को बेहद ही पसंद आया जो घूमना पसंद करते हैं। आप कोई भी शहर क्यों ना जाए? Ola की सहायता से आप कहीं भी गाड़ी किराए पर ले सकते हैं। अंकित भाटी को Ola कंपनी के सह संस्थापक के रूप में जान जाता है। चलिए जानते हैं इनके जीवन के बारे में।

Biography of Ankit Bhati – Ola के सह संस्थापक अंकित भाटी की जीवनी

अंकित भाटी का जन्म वर्ष 1987 में जोधपुर में हुआ है। वह वर्तमान समय में बेंगलुरु, कर्नाटका भारत में रहते हैं। उनमें बचपन से ही बहुत प्रतिभा थी। जो एक कोने में बैठ करके अपना समय कोडिंग में बिताते हैं। वाह अपना खाली समय अपने दोस्तों के साथ वीडियो गेम खेलने में बिताना पसंद करते हैं। अंकित भाटी टि्वटर, इंस्टाग्राम और फेसबुक सही सोशल मीडिया के सभी प्लेटफार्म में सक्रिय रूप से मौजूद है।

अपने स्कूल के दौरान उन्हें, दूसरे गतिविधियों में उतनी ज्यादा रुचि नहीं थी। जैसे कि खेलकूद डांस इत्यादि। उन्हें इन सबसे ज्यादा कंप्यूटर में अधिक रूचि थी। अंकित अपना ज्यादातर समय कंप्यूटर सेंटर में ही बिताया करते थे। अंकित भाटी को दूसरे लोगों की तुलना में अपने आप खाली समय किसी खेल को खेलते वक्त बिताने के बदले, कंप्यूटर पर अधिक रूचि थी इसलिए वह अपना ज्यादातर समय कंप्यूटर के सामने बैठकर ही बिताते थे।

धीरे धीरे अंकित भाटी उस कंप्यूटर सेंटर के एडमिन भी बन गए। कंप्यूटर सेंटर में अब रोज जाया करते थे। कंप्यूटर सेंटर में उन्हें गेम खेलना आपकी पसंद था। अंकित भाटी को वेबसाइट बनाने का भी काफी शौक था और अपने कॉलेज के दिनों में पैसे कमाने के लिए, उन्होंने कई सारे फ्रीलांस प्रोजेक्ट भी किए हैं।

कंप्यूटर में दिलचस्पी के अलावा, उन्हें साइकिल चलाने और घूमने फिरने का भी काफी शौक है। वह ज्यादातर साहसिक यात्राएं करना पसंद करते हैं। उन्होंने अपने दोस्तों के साथ बहुत सारी एडवेंचर टूर भी किया है। उन्होंने अपने वेबसाइट olatrips.com पर अपने एडवेंचर टूर कि कई सारे फोटो भी शेयर किए हैं।

अंकित बचपन से ही चाहते थे कि वह चीजों को आसान एवं सरल बनाएं, ताकि इसका लाभ सामान्य लोग भी उठा सके। इसलिए अंकित भाटी Ola cabs के अपने विचार के साथ उन्होंने एक नए प्लेटफार्म की शुरुआत की है। जिसकी सहायता से लोग कहीं भी जाए बड़ी आसानी से अपने लिए गाड़ियां किराए पर ले सकते हैं।

Education of Ankit Bhati – अंकित भाटी की शिक्षा

वर्ष 2004 में, अंकित भाटी ने मैकेनिकल इंजीनियरिंग में बीटेक के लिए भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) मे दाखिला लिया। मैकेनिकल इंजीनियरिंग लेने के पीछे, वह पहले से यह जानते थे कि यह क्षेत्र उन्हें ऊंचाई पर ले जाएगा, वह है कंप्यूटर प्रोग्रामिंग और तकनीकी।

बाद में उन्होंने CAD और ऑटोमेशन में एम्टेक की डिग्री भी हासिल की है। इसी के साथ उन्होंने वर्ष 2010 में मास्टर डिग्री पूरी की। कॉलेज के दिनों में उन्होंने पैसा बनाने के लिए वेबसाइट बनाने में फ्री लाइंस प्रोजेक्ट पर भी काम किया है। मुंबई में अपनी उच्च शिक्षा पूरी करने के बाद अंकित भाटी ने बेंगलुरु, कर्नाटका में ANI टेक्नोलॉजी की स्थापना की। हालांकि, उदय लो प्रोफाइल इमेज रखने के लिए जाना जाता है क्योंकि उन्हें शायद ही किसी इवेंट या प्रोडक्ट लॉन्च पर देखा जाता है।

अंकित भाटी का निजी जीवन

अंकित भाटी ने वर्ष 2009 में कई फ्रीलांस प्रोजेक्ट पर काम करना शुरू किया। भाटी ने कई स्टार्टअप जैसे वेलकम, मेक सेंस, QED42, इत्यादि में काम किया है। अप्रैल 2021 में ही भाटी ने वेंचर कैटालिस्ट के रूप में नोएडा स्थित एंटीक स्टार्टअप Qin1 को फंड दिया है।

वह अपनी खुद की कंपनी शुरू करने और अपने आधिकारिक पेशेवर जीवन को छोड़ने के लिए पहले से ही काफी ज्यादा प्रेरित है। उन्होंने नवंबर 2010 में Ola cabs के साथ में इसकी शुरुआत की।

अंकित भाटी एक कंप्यूटर प्रोग्राम है, और उन्होंने ग्राउंड ट्रांसपोर्टेशन उद्योग में बहुत बड़ा योगदान दिया है। 59 देशों में स्थित 633 कंपनियों में उनके 6231 कर्मचारी एवं सहयोगी है। इसके अलावा पिछले वर्ष 1722 नए कर्मचारी उनके कंपनी में जुड़े हैं।

अंकित भाटी ओला जैसे कंपनी के सह संस्थापक और पूर्व सीटीओ अधिकारी के रूप में 7 जनवरी 2022 तक उन्होंने काम किया है। एक नई स्टार्टअप लॉन्च करने के बाद उन्हें निक नाम से जाने जाने वाला स्टार्टअप को सास स्टार्टअप के रूप में संचालित करने के लिए डिजाइन किया गया है। जिसे निमेष जोशी द्वारा स्थापित किया गया है। और इस स्टार्टअप में उनका साथ दिया नागराजन ने। दोनों ही संस्थापक ओला के अधिकारी थे और वीपी और हेड ऑफ स्टडीज एंड बिजनेस डेवलपमेंट, और वीपी और सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग और एआई के प्रमुख थे। कथित तौर पर एमनिक DevOps, toolchain स्पेस पर काम करेगी।

अंकित भाटी की सफलता

अंकित भाटी ने आईआईटी मुंबई के पास अपने पुराने अपार्टमेंट में रहते हुए बहुत संघर्ष किया है। ओला वेबसाइट को कोडिंग करने के लिए इन्होंने इसी अपार्टमेंट में रहते हुए कई सारे परीक्षण भी किया है। उन्होंने उन दिनों को स्पष्ट रूप से याद किया जब वह साइबर कैफे जाने के लिए अपनी जेब से बचाते थे। वह इंटरनेट की दुनिया को और भी बेहतरीन ढंग से समझने के लिए चैट रूम में अपना समय बिताना पसंद करते थे।

जब अंकित भाटी ने आईआईटी मुंबई ज्वाइन किया तो उन्होंने अपना ज्यादातर समय कंप्यूटर सेंटर में बिताया। टेक्नोलॉजी बहुत बदल गई है और वह दैनिक आधार पर चुनौतियों से निपटने के लिए प्रयासरत रहते हैं। उनके 10 वर्षों के लंबे अनुभव ने उन्हें कई तकनीकी गड़बड़ियों का सामना करने के लिए प्रेरित किया है, हालांकि वे टीम पर प्रयास करने का प्रबंधन करते हैं। उन्हें डाटा के महत्त्व का पता चला जिसमें उन्होंने Ola के लिए तकनीकी गड़बड़ियों और ड्राइवर भागीदारों से निपटने में मदद मिली है।

Ankit Bhati and ANI Technologies

अंकित भाटी ANI, टेक्नोलॉजी के संस्थापक के रूप में भी जाने जाते हैं। उन्होंने वर्ष 2010 में अपने कॉलेज के वरिष्ठ भाविश अग्रवाल के साथ कंपनी की स्थापना की है। ANI टेक्नोलॉजी प्राइवेट लिमिटेड ऑनलाइन परिवहन कंपनी है। यह कैब बुकिंग, राइटिंग और किराए पर लेने की सेवा प्रदान करता है। OLA cabs ए एन आई टेक्नोलॉजी का पोर्टल है और यह दुनिया भर में ग्राहकों को सेवा प्रदान करती है।

Ola कंपनी को 3 दिसंबर वर्ष 2010 को भाविश अग्रवाल और अंकित भाटी द्वारा शुरू किया गया था। शुरुआत में ओला को olatrips.com पर हॉलिडे पैकेज और वीकेंड ट्रिप ऑफर करने के लिए लांच किया गया था। बाद में यह आईडिया उनका एक व्यवसाय के रूप में बदल गया। जिसे हम आज Ola cabs के रूप में जानते हैं।

Ola cabs के अंतर्गत काम करते हुए अंकित भाटी अपने ग्राहकों और भागीदारों के लिए एक तेज, सुविधाजनक और सहज अनुभव सुनिश्चित करने के लिए Ola cabs के मुख्य टेक्निकल अधिकारी के रूप में उन्होंने काम किया है। अंकित भाटी ने कहा था कि कोला में उनकी सुबह की शुरुआत सूचनाओं को समझने से होती थी। यह अनुष्ठान एक रूप से हर दिन ओला द्वारा पेश की जाने वाली सवारी में अंत दृष्टि प्राप्त करने के साथ शुरू हुआ और उन में से किसने सबसे अधिक करसन प्राप्त किया है।

इसके अलावा, उन्होंने ग्राहकों की जरूरतों, ड्राइवरों की रेटिंग, ड्राइवरों के लिए सबसे तेज मार्ग का पता लगाना, ड्राइवरों द्वारा एक बिंदु तक पहुंचने में लगने वाले समय की गणना करना, क्या कोई यात्री सवारी साझा करने के लिए तैयार होगा और इन सभी चीजों की देखरेख करना इन्हीं की जिम्मेवारी थी। इन सभी जटिलताओं में अंकित भाटी ने Ola कंपनी के सामने आए परेशानियों को समझा और इसका हल निकाला।

Ola cabs भारत में सबसे तेजी से बढ़ने वाला कंपनी और स्टार्टअप में से एक है। कंपनी की तकनीकी टीम में आज 1000 से भी अधिक लोग काम करते हैं।

अंकित भाटी से जुड़े विवाद

वर्ष 2017 में, Ola cabs अपने प्रतिद्वंदी उबर ईट्स के लिए फूड डिलीवरी स्टार्टअप फूडपांडा का अधिग्रहण किया। भाविश अग्रवाल और अंकित भाटी के बीच कुछ गंभीर विवाद तब पैदा हुए जब अंकित ने Ola cabs के माध्यम से फूडपांडा के माध्यम से भोजन पहुंचाने के अनुबंध पर सहमति व्यक्त की थी।

यह भी बताया गया कि भाविश अग्रवाल के पास Ola Cabs जरिए भोजन का वितरण करना बहुत बड़ी समस्या थी। भाविश अग्रवाल ने अंकित को ओला इलेक्ट्रिक्स में प्रतिबंधित करने पर फिर से अटकलें लगाई गई। अंकित ए एन आई टेक्नोलॉजी के माध्यम से इसका एक छोटा सा हिस्सा था। ओला इलेक्ट्रिक देशभर में इलेक्ट्रिक चार्जिंग स्टेशन का नेटवर्क बनाने की भावेश की परियोजना है। भावेश अग्रवाल ने ओला इलेक्ट्रिक का 92.5 प्रतिशत खरीदा है। तभी अंकित ने कंपनी से दूरी बनाने का फैसला किया। हालांकि, Ola के संस्थापकों की दूरी और विभाजन जहां तक अफवाह है, निराधार अफवाहों के अलावा और कुछ भी नहीं है। यह सारी बातें भाविश अग्रवाल ने एक रिपोर्ट में कहा है।

अंकित भाटी के पास वर्तमान समय में ओला कंपनी के 762000 शेयर है। जो कंपनी में लगभग 25% हिस्सेदारी के बराबर है। इसके अलावा अंकित भाटी के पास 166000 शेयर भी है जोकि Ola कंपनी के अमेरिकी परिचालन में 6% हिस्सेदारी के बराबर है।

अंकित भाटी और AMNIC स्टार्टअप

वर्ष 2017 के अंत में अंकित भाटी ने Ola से अपनी दूरी बनाना शुरु कर दी थी। आखरी बार अंकित भाटी Ola play के एक कार्यक्रम के दौरान दिखाई दिए थे। 2017 के अंत तक उन्होंने अपने ओला के साथ काम करना लगभग छोड़ने का फैसला कर लिया था। लेकिन इसे लेकर के किसी भी तरह का अधिकारिक बयान नहीं आया है। जैसा कि हमने ऊपर बताया कि अंकित भाटी अभी भी ओला के साथ जुड़े हुए हैं और उनके पास लगभग 30% हिस्सेदारी है।

ज्यादातर मीडिया रिपोर्ट कहते हैं कि उस दौरान अंकित भाटी ने बस एक छोटा सा ब्रेक लिया था। उस दौरान अंकित भाटी ने एक नए स्टार्टअप AMNIC के लिए योजना बनाई है। जिसे अंकित भाटी ने ओला के दो अन्य अधिकारियों निमेष जोशी और सत्य नागराजन के साथ मिलकर के स्थापित किया है। 8 जनवरी 2022 को प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार AMNIC टेक्नोलॉजी, Devops toolchain स्पेस में Saas सेगमेंट पर केंद्रित है। इसके अलावा मीडिया रिपोर्ट में यह भी कहा गया कि हम Amnic कंपनी अपने सीड राउंड के हिस्से के रूप में Sequoia Capital से शिष्य के रूप में $15 मिलियन से $20 मिलियन जुट आएगा।

Zauba Corp के पास पहले से ही या कंपनी 3 जून वर्ष 2021 से सूचीबद्ध है। जो कंप्यूटर से संबंधित अन्य गतिविधियों में शामिल है। जैसे कि अन्य कंपनियों की वेबसाइट का रखरखाव और मल्टीमीडिया प्रस्तुतियां बनाना इत्यादि। हालांकि कथित संस्थापकों से पुष्टि अभी भी नहीं आई है।