Insurance क्या होता है? What is insurance in Hindi

साधारण तौर पर आपने आपस में बातचीत करते वक्त कई लोगों के मुंह से बीमा के बारे में जरूर सुना होगा। आखिर में बीमा क्या होती है? आज हम अपने इस पोस्ट पर बीमा के बारे में तकनीकी पहलू एवं उसके इतिहास के बारे में जानेंगे। अगर आपसे साधारण शब्दों में बीमा के बारे में पूछे तो आप क्या कहेंगे? आप साधारण सा जवाब देंगे? लेकिन हम यहां आज आपको इसके विभिन्न प्रकार और बीमा से संबंधित और भी कई जानकारियां हैं विस्तार से उपलब्ध कराने वाले हैं। What is insurance in Hindi ? बीमा क्या होता है?

What is insurance in Hindi – बीमा क्या होता है?

ज्यादातर लोग अपनी जिंदगी में दो तरह की जीवन बीमा या फिर बीमा करवाते हैं। पहला जीवन बीमा और दूसरा साधारण बीमा यह बीमा किसी भी व्यक्ति की व्यक्तिगत सुरक्षा के लिए जरूरी होती है। बीमा या insurance , बीमा पॉलिसी बांड द्वारा किए गए उस अनुबंध को कहते हैं जिसमें एक व्यक्ति या इकाई को बीमा कंपनी से घाटे के खिलाफ वित्तीय सुरक्षा मिलती है।

कोई भी बीमा कंपनी अपने बीमा धारक से प्रीमियम वसूल ती है। जिसके माध्यम से वह धन इकट्ठा करती है। जिससे ग्राहकों के जोखिम का भुगतान किया जाता है। इंश्योरेंस पॉलिसी का उपयोग किसी ऐसे बड़े या छोटे वित्तीय घाटे के जोखिम के खिलाफ बचाव के लिए किया जाता है जो बीमित व्यक्ति या उसकी संपत्ति को नुकसान पहुंचा सकता है। या ऐसे घाटा जो किसी तीसरे पक्ष के कारण होने वाली क्षति या चोट से हो सकता है।

जैसा कि हमने ऊपर बताया ज्यादातर लोग ज्यादातर दो तरह की बीमा करते हैं। पहला जीवन बीमा और दूसरा साधारण बीमा। जीवन बीमा से तात्पर्य यह है कि व्यक्ति अपने जीवन की सुरक्षा, के लिए जीवन बीमा करवाता है। यानी कि व्यक्ति की अचानक मृत्यु या किसी दुर्घटना में उसकी मृत्यु होने पर बीमा पॉलिसी के अंतर्गत बीमित व्यक्ति द्वारा नामांकित किए गए व्यक्ति या परिवार को उसकी धनराशि प्राप्त होती है।

वही व्यक्ति साधारण बीमा भी करवाता है। जैसे की व्यापार के लिए दुकान की बीमा, वाहन परिवहन के लिए बीमा, स्वास्थ्य बीमा, और भी बहुत सारे बीमा व्यक्ति साधारण बीमा के तौर पर करवाते हैं। तो यह रही बीमा की बात, तो चलिए चलते हैं हम इसके इतिहास की तरफ कि कैसे बीमा या insurance की शुरुआत की गई। इसके पीछे क्या इतिहास है इन सारे चीजों को हम नीचे विस्तार से जानेंगे।

History of insurance in Hindi – बीमा का इतिहास

जब भी हम यहां बीमा के बारे में बात करते हैं, तो हम इसे व्यापारिक इतिहासिक हिस्सों में दो भाग में बांट सकते हैं। पहला जब वस्तुओं के आदान-प्रदान में व्यापार होता था और दूसरा मुद्रा के प्रचलन के बाद जबकि व्यापार का आधार मुद्राओं से लेनदेन से होने लगा।

पुराने समय में जब मुद्राओं का प्रचलन शुरू नहीं हुआ था। तब भी समाज में यदि किसी का घर किसी आपदा से नष्ट हो जाता था, तो गांव समाज के लोग मिलकर के उस नुकसान की भरपाई करते थे। आज भी इस तरह का प्रचलन देखने को मिलता है। वही आधुनिक दुनिया में बीमा या insurance के इतिहास के बारे में बात की जाती है तो, ऐसा माना जाता है आधुनिक रूप से बीमा का इतिहास यूरोप से शुरू हुआ है।

जब व्यापारी समुद्र के रास्ते से अपना माल दूसरे देशों को भेजना शुरू किया गया था।व्यापारियों को तूफान और समुद्री डाकू से अपने सामान की सुरक्षा करनी पड़ती थी। इस चलते आप यह कह सकते हैं कि वे एक तरह से अपनी सुरक्षा एवं सम्मान को बचाने के लिए सेना को पैसे दिया करते थे। जो एक तरह से उनके लिए बीमा के रूप में कार्य करती थी। ताकि उन्हें उनके सामान को क्षति ना हो सके।

वही जब मुद्रा से व्यापार शुरू हुआ तो लोग अपनी मुद्रा संपत्ति, धन सोना चांदी इत्यादि चीजों को सुरक्षित रखने के लिए किसी सुरक्षित जगह पर जमाया इकट्ठा करते थे। उनके सुरक्षा के बदले में लोग उनसे धन लेते थे। जिसमें उनकी संपत्ति एवं धन को यदि कोई नुकसान होता था तो इसके बदले में उन्हें संपूर्ण राशि प्राप्त होती थी। यह भी एक तरह का बीमा ही था। तो देखा जाए तो इतिहास में प्रारंभिक इतिहास में व्यापारिक गतिविधियों से लेकर के अभी तक बीमा किसी ना किसी रूप में लिया जाता रहा है।

Insurance या बीमा लेने की क्या-क्या फायदे होते हैं?

इंश्योरेंस या बीमा एक कॉन्ट्रैक्ट या अनुबंध होता है, जो बीमित व्यक्ति को जोखिम या घाटे होने पर इंश्योरेंस या बीमा कंपनी द्वारा जोखिम या घाटे की भरपाई की जाती है। यदि किसी व्यक्ति ने लाभार्थी के तौर पर एक या एक से अधिक व्यक्ति को नामांकित किया है, तो राशि समान रूप से वितरित कर दी जाती है। Insurance लेने के निम्नलिखित फायदे आपको पहुंचते हैं:-

  • वित्तीय सहायता मिलती है।
  • बीमित व्यक्ति के साथ कुछ दुर्घटना होने पर दुर्घटना कवर भी मिलता है।
  • इसके अलावा बीमित व्यक्ति को अतिरिक्त लाभ भी किया जाता है।
  • बीमित व्यक्ति चिंता फिकर जिंदगी जी सकता है।

चलिए एक-एक करके हम इन सारे बिंदुओं पर विस्तार से चर्चा करते हैं।

वित्तीय सहायता

बहुत से लोग अपनी वित्तीय सहायता पूरी करने के लिए बीमा करवाते हैं। इसमें अपने खर्चे को पूरा करने, ऋण चुकाने, खोए हुए सामान को पुनः प्राप्त करने, बच्चों की शिक्षा, वाहन परिवहन इत्यादि खरीदने, इत्यादि चीजों में वित्तीय सहायता प्राप्त करने के लिए भीमा लेते हैं।

यह परिस्थिति तब उत्पन्न होती है, जब कोई व्यक्ति अपना रोजगार खो देता है। ऐसी स्थिति में उसके पास पैसे कम पड़ जाते हैं। ऐसी स्थिति में उसे वित्तीय सहायता की आवश्यकता पड़ती है।

अचानक मृत्यु भी एक कारण हो सकता है। घर में एकल व्यक्ति द्वारा घर संभालना, बहुत मुश्किल होता है। भविष्य में होने वाली ऐसी घटना से बचने के लिए ताकि परिवार में किसी भी तरह की तंगी ना हो इसलिए लोग बीमा करवाते हैं। ताकि अचानक मृत्यु होने से उनके परिवार में तंगी एवं वित्तीय संकट पैदा ना हो।

दुर्घटना कवर

आज की भाग दौड़ भरी जिंदगी में दुर्घटना किसी को बोलकर नहीं आती। दुर्घटना होने पर किसी व्यक्ति का अंग, या दूसरे अंग क्षतिग्रस्त हो जाते हैं। ऐसी स्थिति में फिर से रिकवर होने में काफी समय लगता है। ऐसे में हॉस्पिटल के खर्चे, दवाइयों के खर्चे काफी ज्यादा आते हैं। इससे निपटने के लिए लोग बीमा करवाते हैं। ताकि दुर्घटना आदि होने पर उन्हें और उनके परिवार को वित्तीय सहायता मिल सके।

बीमा कराने के अतिरिक्त लाभ

अगर आप बीमा लेते हैं तो, केवल आपको वित्तीय सहायता ही नहीं बल्कि अन्य अतिरिक्त लाभ भी प्राप्त होता है। जिसमें दुर्घटना कवर, अन्य बीमारी जैसे कि पथरी, लकवा, गूंगापन, बहरापन, अपंगता आदि होने पर भी आपको अतिरिक्त लाभ के रूप में वित्तीय सहायता या इलाज के लिए पैसे मिलते हैं।

यदि किसी कर्मचारी के पास बड़ा उधार है तो ऐसी स्थिति में बीमा किया गया धन परिवार को एक अतिरिक्त वित्तीय सहायता प्रदान करता है। जो काफी हद तक उसके परिवार को सुरक्षा एवं संतुलित जीवन जीने के लिए काफी होता है।

चिंता मुक्त जीवन लाइफस्टाइल

मृत्यु किसी को क्या करके नहीं आती, मृत्यु एक कठोर सत्य है। ऐसे में अगर कर्मचारी की अकाल मृत्यु हो जाती है। ऐसी स्थिति में बीमा पॉलिसी कर्मचारी की मृत्यु के बाद उसके परिवार को उसके पुराने जीवन स्तर पर जीने के लिए वित्तीय सहायता एवं मदद प्रदान करती है।

What is insurance in Hindi – बीमा कितने प्रकार की होती है (Types of insurance in Hindi)

बीमा भविष्य में होने वाली किसी आकस्मिक घटना से निपटने का एक हथियार है। कोई भी व्यक्ति या नहीं चाहता कि आने वाले भविष्य में उसके साथ कौन सी दुर्घटना हो सकती है। ऐसी स्थिति में, भविष्य में होने वाली आकस्मिक घटना की भरपाई के लिए लोग बीमा करवाते हैं।

बीमा का अर्थ जोखिम पर सुरक्षा होता है। विभिन्न कंपनी द्वारा दो तरह की बीमा दी जाती है। यह बीमा पॉलिसी निम्नलिखित नामों से जानी जाती है:-

  1. जीवन बीमा
  2. साधारण बीमा

जीवन बीमा क्या है? – What is Life insurance in Hindi

जीवन बीमा (Life insurance) पॉलिसी के अंतर्गत बीमित व्यक्ति की आकस्मिक मृत्यु होने पर, बीमित व्यक्ति के परिवार के लोगों को या आश्रितों को मुआवजा राशि प्रदान की जाती है।

अगर घर की मुखिया का आकस्मिक मृत्यु हो जाती है, ऐसी स्थिति में घर चलाना काफी मुश्किल भरा होता है। परिवार के मुख्य व्यक्ति की पत्नी, बच्चे, माता पिता आदि को आर्थिक संकट का सामना करना पड़ता है। भविष्य में ऐसी विडंबना से बचने के लिए लोगों को बीमा पॉलिसी जरूर लेनी चाहिए। जब भी कोई व्यक्ति अपने लिए विधि योजना बनाता है, तब से सुपथम Life insurance या जीवन बीमा लेने की सलाह दी जाती है। ताकि भविष्य में किसी भी विकट परिस्थिति में उसके परिवार की सहायता आर्थिक रुप से की जा सके।

साधारण बीमा क्या होता है? – What is General insurance in Hindi

साधारण बीमा के अंतर्गत आप रोजगार या व्यापार से संबंधित विभिन्न चीजों का बीमा करवाते हैं। यह उतना ही जरूरी है जितना कि आपका जीवन होता है। इसे हम एक उदाहरण के जरिए समझाना चाहते हैं। मान लीजिए कि एक दुकानदार जो अपने साइकिल पर कुछ सब्जियां बेचा करता है। लेकिन यहां साइकिल उसके रोजगार के लिए एक साधन है। दुकानदार की दुकान साइकिल ही है, साइकिल के माध्यम से ही वह सब्जियां बेचता है। भविष्य में अगर उसकी साइकिल खराब या दुर्घटना ग्रस्त हो जाती है तो इसका सर उसके व्यापार पर पड़ सकता है।

वही जब हम इस तरह की चीजों को व्यापक रूप से देखते हैं। तो इसका असर हमारे निजी जिंदगी में भी आर्थिक तंगी, व्यापार को पुनः स्थापित करना इत्यादि समस्याएं उत्पन्न करता है। ऐसे में लोग ऐसी परिस्थिति से बचने के लिए अपने व्यापार से लेकर के विभिन्न कीमती चीजों को बीमा करवाते हैं। साधारण बीमा के अंतर्गत आपको निम्नलिखित बीमा दी जाती है।

  1. घर बीमा (Home insurance)
  2. वाहन बीमा (Motor insurance)
  3. स्वास्थ्य बीमा ( Health insurance)
  4. यात्रा बीमा (Travel insurance)
  5. फसल बीमा (Crop insurance)
  6. कारोबार उत्तरदायित्व बीमा (Business liability insurance) etc.

यह सारी चीजें साधारण बीमा के अंतर्गत आती है। लोग अपनी जरूरत के हिसाब से साधारण बीमा चुनते हैं। घर बीमा, घर को किसी आपदा या लड़ाई और दंगा में होने वाले नुकसान से भरपाई करने के लिए घर बीमा लिया जाता है। वही फसल बीमा लगाई गई फसल को नुकसान और भरपाई के लिए लिया जाता है। इसी तरह से मोटर वाहन को किसी भी दुर्घटना पर होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए वाहन बीमा दिया जाता है।

आपको हमारे इस लेख से बीमा संबंधित जानकारी जरूर मिल गई होगी। हमने यहां साधारण भाषा में आप लोगों को भी मां से संबंधित जानकारी एवं उसका इतिहास और बीमा कितने तरह के होते हैं? इसके अलावा बीमा लेने के क्या-क्या फायदे होते हैं? इन सारे विषयों पर जानकारी उपलब्ध कराई है।

निष्कर्ष

दोस्तों आज के हमारे इस लेख से आपको जरूर कुछ नया सीखने को मिला होगा। उम्मीद करता हूं कि आप को हमारे द्वारा दी गई या जानकारी जरूर पसंद आई होगी। हमने अपने आज के इस पोस्ट पर बीमा यानी कि insurance से संबंधित जानकारी उपलब्ध कराई है। What is insurance in Hindi

अगर आपको हमारे द्वारा दी गई है जानकारी पसंद आई है तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं। इससे संबंधित अगर आपकी कुछ सवाल है तो आप हमें कमेंट बॉक्स पर कमेंट करके बता सकते हैं। ऐसी नई जानकारियों के लिए आप हमें सब्सक्राइब कर सकते हैं।

About the author: Sids Dodrai

दोस्तों मैं इस ब्लॉक का संस्थापक हूं, मुझे इंटरनेट से जुड़ी और नई नई जानकारियां काफी पसंद है, इसलिए मैं ब्लॉगिंग के माध्यम से आप सभी को अच्छी से अच्छी जानकारी उपलब्ध कराने की कोशिश करता हूं।,??

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DMCA.com Protection Status