5 Motivational Stories – पांच प्रेरणादायक कहानी जो आपको जीवन में आगे बढ़ने में मदद करेगी

5 Motivational Stories – पांच प्रेरणादायक कहानी जो आपको जीवन में आगे बढ़ने में मदद करेगी अक्सर कई बार हम अपने जीवन में असफल हो जाते हैं। हमारा मन मस्तिक इस आधार में खो जाता है और हमारे मन में काफी निराशा आ जाती है। हम कई बार कड़ी मेहनत करते हैं लेकिन हर बार हमें असफलता ही मिलती है। इसलिए हमें बार-बार किसी भी कार्य को करने के लिए लगातार प्रयास करते रहना होता है।

प्रेरणादायक कहानियां ऐसी कहानियां होती है जो हमें निराशा और असफलता से निकाल कर हमारे मन में एक प्रेरणा का दीया जला देता है। आज के हमारे इस लेख में हम आप लोगों को ऐसे ही 5 प्रेरणादायक कहानियां बताने वाले हैं। जो अवश्य रूप से आपके मन में एक नई प्रेरणा की ज्योति जला देगा।

आप इन कहानियों से सीख ले कर के फिर से अपनी सफलता के लिए आगे बढ़ेंगे। हमने यह उन पांच बेहतर कहानियों को सम्मिलित किया है। जो आपके मन में एक नई शक्ति और नया आत्मविश्वास भर देगी। Motivational Stories – पांच प्रेरणादायक कहानी

5 Motivational Stories – पांच प्रेरणादायक कहानी जो आपको जीवन में आगे बढ़ने में मदद करेगी

1. आलस्य आपको कहीं नहीं ले जाएगा

” प्राचीन समय में, एक राजा ने अपने आदमियों को एक सड़क पर शिलाखंड रखने को कहा था। फिर राजा झाड़ियों के पीछे छुप गया, और देखता रहा कि क्या कोई पत्थर को रास्ते से हटा देगा। राजा के कुछ सबसे धनी व्यापारी और दरबारी वहां से गुजरते हैं।

सड़क पर पड़े शिलाखंड को देखते हैं और उस शिलाखंड को बिना हटाए वहां से चले जाते हैं। कई सारे लोग राजा पर सड़क साफ ना रखने का आरोप लगाते हैं। लेकिन, उनमें से किसी भी व्यक्ति द्वारा पत्थर को हटाने के लिए कुछ भी नहीं किया गया।

एक दिन एक किसान सब्जी लेकर के बाजार जा रहा था। उसने देखा कि एक पत्थर सड़क के बीचो बीच रखा हुआ है। उसने अपनी सब्जी की टोकरी एक तरफ रखी, और उस पत्थर को वहां से हटाने की कोशिश करने लगा। उसने उस पत्थर को सड़क के किनारे कर दिया। उसने देखा कि सड़क के बीचो-बीच पर रखे पत्थर के नीचे एक थैली भी रखी हुई थी।

किसान ने उस थैली को टटोल करके देखा। उसमें सोने के सिक्के थे। उसमें एक पर्ची भी रखी हुई थी जिस पर लिखा था यह सिक्के उस व्यक्ति के लिए है जो इस पत्थर को हटाएगा।

इस कहानी से हमें क्या सीख मिलती है? :- इस कहानी से हमें क्या सीख मिलती है कि आलस्य हमेशा आपके सफलता के रास्ते में बाधक होता है। किसी भी कार्य को किसी दूसरे व्यक्ति के ऊपर ना छोड़ कर के हमें उस कार्य को खुद करना होगा। तभी हम सफल हो पाएंगे। Motivational Stories – पांच प्रेरणादायक कहानी

2. शिकायत करने में अपना समय बर्बाद ना करें?

एक बार की बात है किसी गांव में एक बुद्धिमान व्यक्ति रहता था। लोग अक्सर एक ही समस्या के बारे में उसके पास बार-बार शिकायत करते थे। एक दिन, उसने उन्हें एक चुटकुला सुनाने का फैसला किया और वह सभी हंसी के ठहाके लगाने लगे।

कुछ मिनटों के बाद, उसने उन्हें वही चुटकुला सुनाया और उनमें से कुछ ही लोग वह चुटकुला सुनकर के मुस्कुराए। फिर उसने तीसरी बार वही चुटकुला सुनाया, लेकिन तीसरी बार चुटकुला सुनाए जाने पर कोई भी व्यक्ति का चुटकुला सुनकर के नाही हंसा और न ही मुस्कुराया।

फिर बुद्धिमान व्यक्ति ने मुस्कुराते हुए लोगों से कहा – ‘आप एक ही मजाक पर बार-बार नहीं हंस सकते, तो आप हमेशा एक ही समस्या के बारे में क्यों रोना रोते हो’।

इस कहानी से हमें क्या सीख मिलती है? :- इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि हम अक्सर अपनी जिंदगी में एक ही परेशानी को बता कर के अपनी असफलता का राग लोगों को बतलाते हैं। हम अपनी जिंदगी में उस असफलता को भुलाकर के आगे बढ़ जाना होता है। हमें उसके निदान के बारे में सोचना चाहिए। ना कि हम बार-बार अपनी असफलता को याद करके उसे ही समस्या बना लेते हैं।

3. छतिग्रस्त आत्मा अभी भी लायक है

एक बार की बात है, ” एक दुकान का मालिक अपने दरवाजे पर लिखवाता है कि यहां कुत्ते के पिल्ले बिक्री के लिए उपलब्ध हैं”। इस तरह की चीजें अपने दुकान पर लिखवाने से ग्राहक काफी आकर्षित होते हैं। ज्यादातर छोटे बच्चे कुत्ते पालने का काफी शौक होता है।

दुकान पर ऐसा लिखा देख कर के एक बच्चा काफी आकर्षित होता है और दुकान के मालिक के पास पहुंचता है। वह दुकान के मालिक से पूछता है ” आप कुत्ते के पिल्लों को कितने में बेचने जा रहे हैं” ?

दुकान के मालिक ने उस छोटे लड़के को बताया कि मैंने अपने स्टोर में ₹3000 से लेकर ₹10000 तक के कुत्ते के पिल्ले को रखा है। यह इनकी कीमत है।

यह सुनकर छोटा लड़का अपना जेब टटोल ता है। उसके जेब में कुल ₹100 होते हैं। इसके बाद वह लड़का दुकान के मालिक को कहता है, क्या मैं कुत्ते के बच्चों को देख सकता हूं?

दुकान का मालिक थोड़ा मुस्कुराया और उसने अपने दुकान में काम करने वाली एक महिला को बुलवाया और उस छोटे बच्चे को दुकान में मौजूद कुत्ते के पिल्ले को दिखाने को कहा।

छोटा बच्चा जब दुकान में कुत्तों के पिल्लों को देख रहा था तो उसकी नजर एक ऐसे कुत्ते के बच्चों पर गई जो काफी पीछे चल रहा था। छोटे बच्चे ने फौरन उस लंगड़े कुत्ते के बच्चे को पकड़ लिया, और उसने कहा – ‘ इस कुत्ते के बच्चे को क्या हुआ है?’

दुकान के मालिक ने बताया कि पशु चिकित्सक ने छोटे पिल्ले की जांच की थी और पाया था कि उसके पास रीढ़ की हड्डियों में कुछ दिक्कत है। जिस वजह से या कुत्ता हमेशा लंगड़ रहेगा।

छोटे लड़के ने कहा – ‘ मुझे वही कुत्ते का बच्चे को खरीदना है’। दुकान के मालिक ने कहा, ‘ नहीं, तुम उस छोटे कुत्ते को नहीं खरीदना चाहते। अगर तुम सच में उसे चाहते हो, तो मैं उसे तुम्हें दे दूंगा।’

छोटा लड़का काफी परेशान हो गया। उसने सीधे दुकान के मालिक की आंख में देखा, अपनी उंगली की ओर इशारा करते हुए कहा – ” मैं नहीं चाहता कि तुम उसे मुझे दो। वह छोटा कुत्ता अन्य सभी कुत्तों के बराबर है और मैं पूरी कीमत चुकाऊंगा। वास्तव में मेरे पास केवल अभी ₹100 हैं और मैं हर महीने आपको ₹100 दूंगा जब तक कि मैं उसका भुगतान नहीं कर देता।’

इस पर दुकान के मालिक ने जवाब दिया, ‘ तुम सच में इस छोटे से कुत्ते को नहीं खरीदना चाहते। वह कभी भी दूसरे कुत्तों के पिल्लों की तरह आपके साथ दौड़ने और कूदने और खेलने में सक्षम नहीं होगा।’

फिर छोटा लड़का दुकान में मौजूद एक कोने की तरफ चला गया। वहां पर उसने अपनी पेंट ऊपर की तो दुकानदार आश्चर्य में रह गया। छोटे लड़के के एक पाव में ब्रास की एक पट्टी लगी हुई थी। वह छोटा लड़का अपने बाएं पैर से अपंग था। उसने दुकान के मालिक की तरफ देखा और धीरे से जवाब दिया, ‘ ठीक है, मैं खुद इतना अच्छा नहीं दौड़ता, और छोटे पिल्ले को किसी ऐसे व्यक्ति की आवश्यकता होगी जो यह समझता हो!’ Motivational Stories – पांच प्रेरणादायक कहानी

4. अतीत की असफलता को कभी भी भविष्य में पीछे मुड़ के ना देखे

एक बार की बात है एक आदमी हाथियों के झुंड के पास से गुजर रहा था, वह अचानक रुक गया। हाथियों का झुंड एक चिड़ियाघर का था। उस आदमी ने देखा इन विशालकाय जीवो को केवल उनके सामने के पैर छोटी सी रस्सी से बांधी गई थी। इन हाथियों को काबू में रखने के लिए कोई भी जंजीर से जकड़ी नहीं गई थी। ना ही वहां कोई पिंजरा था। इससे यह स्पष्ट था कि हाथी कभी भी, अपने बंधनों को तोड़ सकते थे, लेकिन किसी कारण से हाथी ऐसा नहीं कर रहे थे।

उस आदमी ने उन हाथियों के पास खड़ा एक प्रशिक्षक को देखा और उत्सुकता से उसने पूछा – ‘ यह हाथ ही काफी बलशाली है, फिर भी इन्हें पतली रस्सी से क्यों बांधा गया है? यह बलशाली जानवर कभी भी इसे तोड़ कर के चिड़ियाघर में उत्पात मचा सकता है।’

यह सुनकर के उस ट्रेनर ने कहा, ‘ जब यह बहुत छोटे होते हैं और बहुत छोटे होते हैं तो हम उन्हें बांधने के लिए एक ही आकार की रस्सी का उपयोग करते हैं और उस उम्र में, क्या पतली सी राशि उन्हें पकड़ने एवं उन्हें बांधे रखने के लिए पर्याप्त है। जैसे-जैसे वे बड़े होते हैं, उन्हें विश्वास होता है कि वह अलग नहीं हो सकते यानी कि मैं कभी भी उस पतली सी रस्सी को तोड़ नहीं सकते। उनके मन में यह बात घर कर गई है, यही वजह है कि वह कभी भी इस रस्सी को तोड़ कर के मुक्त होने की कोशिश नहीं करते।’

वह आदमी चकित रह गया। यह जानवर किसी भी समय अपने बंधनों से मुक्त हो सकते हैं, लेकिन क्योंकि उनका मानना था कि वह बचपन से ही उस पतली सी रस्सी को तोड़ने का प्रयास कई बार कर चुके हैं लेकिन हाथी कभी उसे तोड़ ना सका। बड़े हो जाने के बाद भी उनके मन में यह बात घर कर गई है कि वह कभी उस रस्सी को तोड़ नहीं सकता। हालांकि, बड़े होने के बाद वह काफी बलशाली भी हो गया है। बचपन यानी कि भूतकाल में मिली उनकी असफलता में ही हाथी फस कर रह गए हैं। Motivational Stories – पांच प्रेरणादायक कहानी

5. संघर्ष आप को मजबूत बनाता है

एक बार की बात है, एक आदमी को एक तितली मिली जो अपने कोकून से निकल रही थी। वह आदमी यह नजारा देखकर के आश्चर्यचकित रह गया। वहां बैठ गया और घंटों तक तितली को देखता रहा क्योंकि वह एक छोटे से छेद के माध्यम से खुद को मजबूर करने के लिए संघर्ष कर रही थी।

फिर, उस तितली ने संघर्ष करना आरंभ किया साथ में अचानक प्रकृति करना बंद कर दिया और ऐसा लग रहा था कि वह तितली अपने ही कोकून के जाल में फंस गई है।

इसलिए, उस आदमी ने तितली की मदद करने का फैसला किया। उसने किसी की एक जोड़ी ली और कोकून के शेष हिस्से को काट दिया। तितली तब आसानी से निकली, हालांकि उसका शरीर सुजा हुआ था और छोटे, सिकुड़े हुए पंख थे।

उस आदमी ने इसके बारे में कुछ नहीं सोचा, और वह वहीं बैठकर तितली को सहारा देने के लिए पंखों के बढ़ने की प्रतीक्षा कर रहा था। हालांकि, ऐसा कभी नहीं हुआ। तितली ने अपना शेष जीवन उड़ने में असमर्थ, छोटे पंखे और सूजे हुए शरीर के साथ रेंगते हुए बिताया।

आदमी के दयालु हृदय के बावजूद, वह यह नहीं समझ पाया कि सीमित कोकून और छोटे छेद के माध्यम से खुद को बाहर निकालने की कोशिश करने वाली तितली उस कोकून के अंदर अपने शरीर को मजबूत कर रही थी। तितली के शरीर से तरल पदार्थ को अपने पंखों में मजबूर करने का भगवान का तरीका था। जिससे की तितली मजबूती पाकर इस खुले आसमान में उड़ पाती।

निष्कर्ष

आज के हमारे इस लेख में हमने आप लोगों को पांच प्रेरणादायक कहानियां बताई है। 5 Motivational Stories – पांच प्रेरणादायक कहानी जो आपको जीवन में आगे बढ़ने में मदद करेगी । यह प्रेरणादायक कहानी आपको आपके जीवन में आगे बढ़ने के लिए मदद करेगी।

अगर आपको हमारी यह कहानी पसंद आई है तो आप इसे अपने दोस्तों, परिवार वालों के साथ में अवश्य ही शेयर करें।


Published on सितम्बर 7, 2021

About Admin Desk

Admin Desk हम हिंदी भाषा में यहां सरल शब्दों में आपको ज्ञानवर्धक जानकारियां उपलब्ध कराने की कोशिश करते हैं। ज्यादातर जानकारी है इंटरनेट पर अंग्रेजी भाषा में मौजूद है। हमारा उद्देश्य आपको हिंदी भाषा में बेहतर और अच्छी जानकारी उपलब्ध कराना है।