5 Business Loan for Women Entrepreneur – महिलाओं के लिए 5 बिजनेस लोन

हमारे भारत जैसे देश में, महिलाएं भी पुरुषों से कम नहीं है। महिलाएं भी पुरुषों के साथ में एक कदम से कदम मिलाकर के चल रही है। भारत में ऐसे कई महिलाएं हैं जिन्होंने अपना खुद का बिजनेस स्थापित किया है। आज हर उस महिला को जो अपना खुद का बिजनेस शुरू करना चाहती है उसे सरकार द्वारा काफी प्रोत्साहित किया जा रहा है। अगर आप एक महिला हैं और आप भी अपने लिए अपना खुद का जब बिजनेस स्थापित करना चाहते हैं। इसके लिए दी जाने वाली सुविधाएं एवं आप बिजनेस स्थापित करने के लिए मिलने वाले लोन के बारे में आज के हमारे इस लेख में बात करने वाले हैं। 5 Business Loan for Women Entrepreneur – महिलाओं के लिए 5 बिजनेस लोन

महिलाओं को बिजनेस बढ़ाने के लिए राष्ट्रीयकृत बैंक सहित भारत के अन्य वित्तीय संस्थान विभिन्न तरह के लोन योजनाओं की पेशकश करते हैं। महिलाओं को दिए जाने वाले लोन काफी आकर्षक होते हैं। जिसके तहत महिलाओं को कम ब्याज दर में लोन मुहैया करवाया जाता है। इसके साथ ही इस लोन में लगने वाला प्रोसेसिंग फी भी अधिकांश मामलों में शून्य होता है। महिलाओं को इस तरह का लोन बिना किसी थर्ड पार्टी गारंटी के दी जाती है। इसी के साथ ही इस योजना के अंतर्गत दिया जाने वाला लोन लंबी अवधि के साथ-साथ सुविधाजनक रीपेमेंट की सुविधा भी होती है। आज के हमारे इस लेख में हम इसी तरह के 5 बिजनेस लोन के बारे में बात करने वाले हैं।

5 Business Loan for Women Entrepreneur – महिलाओं के लिए 5 बिजनेस लोन

अलग-अलग बैंकों द्वारा महिला उद्यमियों के लिए अलग-अलग प्रकार के लोन की पेशकश की जाती है। हमने अपनी इस लेख में अलग-अलग बैंक द्वारा दिए जाने वाले महिला बिजनेस लोन के बारे में जानकारी उपलब्ध कराई है। इसके अंतर्गत हमने निम्नलिखित बैंकों के लोन को सम्मिलित किया है।

  • SBI का स्त्री शक्ति पैकेज
  • भारतीय महिला बैंक द्वारा दिए जाने वाला सिंगार और अन्नपूर्णा लोन
  • सिंडीकेट बैंक द्वारा सिंड महिला शक्ति लोन
  • देना बैंक द्वारा महिला उद्यमियों के लिए शक्ति योजना
  • सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया द्वारा सेंट कल्याणी लोन

SBI स्त्री शक्ति पैकेज योजना

भारत जैसे देश में महिलाओं को आगे बढ़ाने के लिए सरकार ने कई सारे महत्वपूर्ण कदम उठाएं है। इसी के अंतर्गत भारत सरकार ने एसबीआई के माध्यम से स्त्रियों के लिए लोन की सुविधा उपलब्ध कराने हेतु स्त्री पैकेज योजना की शुरुआत की है। इस योजना के अंतर्गत लाभ उठाते हुए कोई भी स्त्री अपना खुद का कारोबार शुरू कर सकती है।

स्त्री शक्ति पैकेज योजना के तहत सरकार महिलाओं को आर्थिक सहायता प्रदान करती है। जिसके जरिए बाप ने खुद का उद्योग या बिजनेस शुरू कर सकती है। इस पैकेज के अंतर्गत महिलाओं को 2500000 रुपए तक का लोन दिया जाता है।

लेकिन स्त्री शक्ति स्कीम के अंतर्गत आपको कुछ जरूरी बातों को भी ध्यान रखना है। अगर आप भी एक महिला है एवं एसबीआई द्वारा दिए जाने वाले लोन का लाभ उठाना चाहते हैं तो आपको इसके बारे में कुछ बातें जान लेना जरूरी है।

महिलाओं के लिए अपना कारोबार स्थापित करना काफी मुश्किल भरा होता है। सरकार द्वारा इसलिए महिला उद्यमी स्कीम के अंतर्गत इस योजना को शुरू किया गया है। ताकि कोई भी स्त्री अपना खुद का कारोबार स्थापित कर सके। इससे जुड़ी महत्वपूर्ण बातें :-

एसबीआई स्त्री शक्ति पैकेज योजना के अंतर्गत निम्नलिखित कुछ महत्वपूर्ण बातें हैं जिनके बारे में आपको जानना बेहद जरूरी है।

  • यह योजना पूरे देश भर में सभी गरीब एवं निर्धन महिलाओं के लिए लागू किया गया है। इस योजना के अंतर्गत महिलाओं को देश के सभी सरकारी एवं गैर सरकारी बैंकों में लोन दिया जाएगा।
  • इस योजना के अंतर्गत रिटेल से जुड़े व्यापार के लिए ₹50000 से ₹200000 तक की राशि लोन में दी जाती है।
  • महिला उद्यमी या महिला व्यवसाय के लिए 50000 से 200000 तक का लोन हासिल किया जा सकता है।
  • अगर महिलाएं MSME के अंतर्गत अपने कंपनी का रजिस्टर करवाती है तो उन्हें ₹50000 से 2500000 रुपए तक का लोन दिया जाएगा।

इस योजना के अंतर्गत मिलने वाला लाभ

  • इस योजना का लाभ उठा कर के देश की सभी महिलाएं अपना खुद का कारोबार स्थापित कर सकती है और आत्मनिर्भर बन सकती है।
  • यह योजना आत्मनिर्भर भारत मिशन को पूरा करने में एक महत्वपूर्ण रोल अदा करेगा।
  • देश में महिलाओं को कारोबार स्थापित करने के लिए पुरुषों के बराबर मौका हासिल होगा।
  • महिलाओं के लिए शुरू की गई यहा योजना काफी कम ब्याज दर पर उपलब्ध है।
  • योजना के जरिए महिलाएं भी अपने परिवार के लिए सहारा बन पाएगी।

भारतीय महिला बैंक द्वारा दिया जाने वाला सिंगार एवं अन्नपूर्णा लोन

महिला उद्यमियों को मजबूत बनाने के लिए केंद्र सरकार और निजी सेक्टर दोनों ही वित्तीय सहायता उपलब्ध कराते रहते हैं। महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए इस योजना की शुरुआत की गई है। हाल फिलहाल में भारतीय महिला बैंक को स्टेट बैंक ऑफ इंडिया द्वारा अधिकृत कर लिया गया है।

अन्नपूर्णा योजना भारतीय स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की एक विशेष तरह की लोन योजना है। इस योजना के अंतर्गत महिलाओं को विशेष तौर पर अपना खुद का व्यापार और व्यवसाय स्थापित करने के लिए लोन दिया जाता है। इस योजना के अंतर्गत महिला उद्यमी को ₹50000 तक का लोन की सुविधा दी जाती है। इसके साथ ही इस योजना के अंतर्गत बिना गारंटी के महिलाओं को बैंक 10 लाख रुपए तक का लोन देती है।

इस योजना के अंतर्गत ऐसी महिलाएं जो अपना खुद का व्यापार स्थापित करना चाहती है उनको लोन दिया जाता है। इस योजना में कैटरिंग व्यवसाय के लिए 50000 तक का लोन प्रदान किया जाता है।

सिंडिकेट बैंक द्वारा दिया जाने वाला सिंड महिला लोन

सिंडिकेट बैंक द्वारा महिला सशक्तिकरण के लिए सिंडिकेट बैंक महिला लोन दिया जाता है। इस योजना के अंतर्गत उन्होंने महिला कारोबारियों को देशभर में लोन दिया है।

इसमें महिलाएं माइक्रो स्मॉल और मीडियम आकार के बिजनेस शुरू कर सकती है। इस योजना के अंतर्गत महिला उद्यमियों को कम रेट पर 5 करोड़ तक का लोन मुहैया करवाया जाता है। अगर कोई महिला केवल 10 लाख रुपए तक का लोन लेती है तो उसे 10.25% ब्याज देना होता है। वही कोई महिला अपने कारोबार स्थापित करने के लिए 10 लाख से ज्यादा रुपए का लोन लेती है तो उसे 0.25% की छूट दी जाती है।

लोन मार्जिन के रूप में 15% लोन देना होता है। इस लोन सुविधा के साथ क्रेडिट कार्ड की सुविधा भी दी जाती है। सिंडिकेट बैंक द्वारा दिए जाने वाले या लोन 7 से 10 साल के लिए दिया जाता है।

देना बैंक द्वारा दिए जाने वाला महिला शक्ति लोन

महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने और उनका सशक्तिकरण के मकसद से देना बैंक ने भी महिलाओं के लिए एक आकर्षक लोन बनाया है। जिसे देना शक्ति योजना का नाम दिया गया है। इस योजना के अंतर्गत व्याधि कम ब्याज दर में 20 लाख रुपए तक का लोन महिलाओं को अपना कारोबार स्थापित करने के लिए दिया जाता है।

  • इस योजना के अंतर्गत महिला उद्यमियों को कम ब्याज दर में लोन मुहैया करवाया जाता है। साथ ही ब्याज दर में 0.25% तक की रियायत दी जाती है।
  • इस लोन को लेने वाली महिला को 10 साल तक का अधिकतम समय दिया जाता है।
  • यह लोन कृषि, विनिर्माण, खुदरा व्यापारी या छोटे उद्यमी के साथ-साथ रिटेल ट्रेडर्स और माइक्रो क्रेडिट पर भी मिलता है।
  • कृषि इत्यादि क्षेत्र के लिए यह राशि 20 लाख रुपए है।