E-Uparjan क्या है? पूरी जानकारी हिंदी में

भारत सरकार द्वारा किसानों के लिए नीति नई योजनाएं लाई जाती रहती है। ऐसी ही एक योजना साल 2021 में लाई गई है। जिसे E-Uparjan का नाम दिया गया है। भारत सरकार द्वारा विभिन्न राज्यों के सभी किसानों के लिए आरंभ किया गया यह एक ऑनलाइन पोर्टल है। आज हमारे इस लेख में हम E-Uparjan क्या है? पूरी जानकारी हिंदी में मे देने वाले हैं।

केंद्र सरकार द्वारा सभी राज्यों के लिए शुरू की गई E-Uparjan ऑनलाइन पोर्टल है। इस पोर्टल की सहायता से राज्य के किसानों का धान किसान के समर्थक पूर्वक भाव में खरीदा जाता है। इसके लिए इच्छुक किसान को अपने संबंधित राज्य के लिए अधिकारिक E-Uparjan वेबसाइट पर रजिस्टर करना होता है। जिससे किसान समर्थक कीमत पर अपने फसल की बिक्री सरकार को कर सके। उसकी पूरी जानकारी हम अपने इस लेख में देने वाले हैं।

E-Uparjan क्या है? पूरी जानकारी हिंदी में

केंद्र सरकार द्वारा सभी राज्यों के लिए शुरू किया गया यह एक तरह का ऑनलाइन पोर्टल है। जहां पर किसान E-Uparjan वेबसाइट पोर्टल की सहायता से समर्थन मूल्य सरकार के पास अपने फसल का रख सकते हैं। इसके लिए कोई भी किसान अपने संबंधित राज्य के अधिकारिक ई उपार्जन पोर्टल पर जाकर के रजिस्ट्री करवा सकता है।

हर राज्य में हर साल किसानों से धान की खरीद बिक्री की जाती है और उन्हें मार्केट भाव से अधिक समर्थन मूल्य भाव पर सरकार द्वारा खरीदा जाता है। सरकार द्वारा यह पूरी प्रक्रिया को पूरी तरह से ऑनलाइन कर दिया गया है।

अगर आप एक किसान है तो आप भी अपने राज्य की ई उपार्जन पोर्टल पर जा करके अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं। उदाहरण के तौर पर अगर आप बिहार राज्य से संबंधित है और बिहार राज्य में ई उपार्जन के माध्यम से अधिकतम समर्थन मूल्य अपने पशुओं का जाते हैं तो आपको अपने वेबसाइट के ब्राउज़र पर यह एड्रेस टाइप करना होगा uparjan.bihar.gov.in वैसे ही अगर आप झारखंड राज्य से संबंध रखते हैं तो आप uparjan.jharkhand.gov.in लिखकर के संबंधित राज्य की आधिकारिक वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं।

अगर आपको अपने राज्य की ई उपार्जन पोर्टल खोजने में दिक्कत आ रही है। तो आप सीधे e-uparjan की अधिकारिक वेबसाइट और अपने राज्य का नाम लिखकर के गूगल सर्च इंजन पर खोज सकते हैं।

किसान E-Uparjan पोर्टल से किस तरह से लाभ उठा सकते हैं?

केंद्र सरकार द्वारा सभी राज्यों के लिए ई उपार्जन पोर्टल की शुरुआत की गई है। जहां पर किसान अपना रजिस्ट्रेशन करवा करके अपने फसलों का समर्थन मूल्य प्राप्त कर सकते हैं। इससे किसानों का किस तरह से फायदा होगा इस बारे में हम नीचे चर्चा करने वाले हैं।

  • E – Uparjan पोर्टल की सहायता से सभी राज्यों को किसानों को अपनी फसलों का समर्थन मूल्य उचित भाव पर प्राप्त होता है।
  • राज्यों के किसानों को अधिक मात्रा में धान किया अपनी फसल बेचने का मौका मिलता है।
  • किसान बाजार भाव से उचित कीमत पर अपनी फसल को बेच सकते हैं।
  • यहां पर किसानों को खुदरा बाजार की तुलना में अधिक लाभ मिलता है और इसमें समय की बचत भी होती है। क्योंकि, यह पोर्टल ऑनलाइन होने के चलते किसानों का समय बर्बाद नहीं होता।
  • ऑनलाइन पोर्टल होने के चलते, किसानों की खड़ी फसल दिखने में समय नहीं लगता।
  • अपनी फसल को बेचने के लिए किसी भी बिजोलिया की आवश्यकता नहीं होती है। ई उपार्जन पोर्टल सरकार द्वारा पूरी तरह से मुफ्त है।

E – Uparjan की पूरी प्रक्रिया क्या है?

जैसा कि हम इस बारे में ऊपर जिक्र कर चुके हैं कि ई उपार्जन पोर्टल सरकार द्वारा शुरू की गई योजना है। इस योजना के अंतर्गत किसान अपने फसल को अपने समर्थक भाव पर बाजार में बिक्री कर सकते हैं। लेकिन फिर भी ई उपार्जन योजना की पूरी प्रक्रिया समझने के लिए आप निम्नलिखित बिंदुओं को ध्यान में रख सकते हैं।

  1. किसी भी राज्य के किसान के पास ई उपार्जन पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करने से पहले उसके पास अधिकतम मात्रा में फसल होनी चाहिए।
  2. छोटे किसान जो काफी कम मात्रा में फसल उगाते हैं उनके लिए यह पोर्टल उतनी लाभकारी नहीं है।
  3. अधिकतम मात्रा में फसल उगाने वाले राज्य के किसानों को अपने राज्य के ई उपार्जन पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करवाना अनिवार्य है।
  4. इसके अलावा किसानों को अपने जमीन का विवरण और अपने फसल का उत्पादन विवरण इस पोर्टल के माध्यम से देना होता है।
  5. एक बार आप सफलतापूर्वक रजिस्ट्रेशन करवा लेते हैं तो आपका रजिस्टर्ड मोबाइल पर एक एसएमएस भेज दिया जाता है।
  6. किसान को धान केंद्र या लैंम्पस पर अपनी फसल जमा करना अनिवार्य होता है।

E- Uparjan का मुख्य उद्देश्य क्या है?

केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई प्यारे योजना राज्य सरकार तथा राज्य के किसानों के लिए एक पोर्टल उपलब्ध कराती है। यह ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से एक किसान फसल के दावों की कीमत समर्थक पूर्वक भाव पर किसानों को उपलब्ध कराना है। राज्य के किसान अपने राज्य के ई उपार्जन पोर्टल पर जाकर के ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं।

किसान अपने फसल का रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं और बाजार में किसान समर्थन मूल्य भाव पर अपनी फसल की बिक्री कर सकते हैं। देखा जाए तो ई उपार्जन पोर्टल की सहायता से किसान समर्थन मूल्य पर अपने फसल को सरकार को बिक्री करते हैं। ई उपार्जन पोर्टल की सहायता से किसान को अपनी फसल की बिक्री करने में सहायता मिलती है।

E – Uparjan पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन किस प्रकार करें?

संबंधित राज्य के किसान ई उपार्जन पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करने के लिए अपने राज्य के ई उपार्जन पोर्टल पर जाकर के रजिस्ट्रेशन करना होता है। हम उदाहरण के जरिए पूरी प्रक्रिया कि आप किस तरह से ई उपार्जन पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं इसकी जानकारी उपलब्ध करा रहे हैं।

E-Uparjan Portal

Step 1 – सबसे पहले आप अपने इंटरनेट ब्राउजर पर आपके राज्य से संबंधित E-Uparjan की आधिकारिक वेबसाइट को खोल लेना है। जैसे उदाहरण के लिए हमने uparjan.jharkhand.gov.in को खुला है।

यहां पर आपको किसान पंजीकरण का विकल्प दिखेगा। जैसा कि हमने ऊपर फोटो में दिखाया है। इस पर आप भी कीजिए।

Step 2 – जैसी आप किसान पंजीकरण पर क्लिक करेंगे तो आपके पास एक नया रजिस्ट्रेशन फॉर्म जोकि किसान रजिस्ट्रेशन फॉर्म होगा उसे भरना होगा। यहां पर आपको निम्नलिखित जानकारी भरनी होती है।

  • District – आप किस राज्य के किस जिले के हैं।
  • MPS Centre – आपका एमपीएस सेंटर कौन सा है।
  • Name – आपका नाम
  • Mobile Number – आपका मोबाइल नंबर
  • आधार कार्ड नंबर
  • पासवर्ड आपको यहां पर बनाना होगा
  • Repassword पासवर्ड जो आपने बनाया है उसे पुनः यहां पर डालें।
Farmer Registration Form

सभी जानकारी दर्ज करने के बाद आप नीचे दिए गए चेक बॉक्स पर tick करना है फिर आप सबमिट बटन पर क्लिक कर दे। इस तरह से आप घर बैठे ई उपार्जन पोर्टल पर पंजीकरण कर सकते हैं।

किसान अपना भुगतान कैसे देख सकते हैं?

ई उपार्जन पोर्टल पर आप अपना भुगतान भी बड़ी आसानी से देख सकते हैं। ई उपार्जन पोर्टल पर ही आपको भुगतान देखने की सुविधा दी जाती है। भुगतान देखने के लिए आप निम्नलिखित स्टेप अपना सकते हैं।

  • रजिस्टर्ड किसान अपना भुगतान देखने के लिए अपने राज्य से संबंधित अधिकारी वेबसाइट ई उपार्जन पोर्टल पर जाना होगा।
  • यहां पर उन्हें किसान भुगतान से संबंधित एक टैब दिखाई देगा। जहां पर क्लिक करके वह अपना भुगतान देख सकते हैं।
  • भुगतान देखने के लिए आपको किसान कोड या Farmer ID डालनी होती है।
  • जब आप ई उपार्जन पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करते हैं तब आपको किसान कोड दी जाती है। आप अपना किसान कोड यहां डाल कर के अपने भुगतान के बारे में जानकारी ले सकते हैं।