Music Teacher कैसे बने?

संगीत या म्यूजिक सुनना किसको पसंद नहीं है। आप में से बहुत सारे ऐसे लोग भी हैं जो संगीत में अपना एक अलग ही कैरियर बनाना चाहते हैं। अगर आप संगीत में रुचि रखते हैं और संगीत के क्षेत्र में ही अपना करियर बनाना चाहते हैं। भले ही आप एक अच्छे पार्श्व गायक के रूप में फिल्म इंडस्ट्री में अपनी जगह नहीं बना पाए हैं। लेकिन आप एक अच्छे म्यूजिक या संगीत टीचर बन करके इस क्षेत्र में काफी अच्छा नाम कमा सकते हैं। आज के हमारी इस लेख में हम इसी बारे में बात करेंगे कि आप किस तरह से म्यूजिक या संगीत के क्षेत्र में नाम कमा सकते हैं और इससे जुड़े Music Teacher कैसे बने? बन सकते हैं।

Music Teacher कैसे बने?

एक संगीत टीचर या म्यूजिक टीचर कौन होता है? एक म्यूजिक टीचर वह होता है जो संगीत या म्यूजिक सिखाता है। बहुत से बड़े बड़े स्कूलों में अलग से अन्य विषयों की तरह ही संगीत के टीचर भी रखे जाते हैं। जो बच्चों को शिक्षण के साथ-साथ संगीत के बारे में जानकारी एवं उन्हें सिखाते भी है।

एक संगीत अध्यापक को अंग्रेजी में Music Teacher भी कहा जाता है। किसी स्कूल या किसी संस्थान में म्यूजिक टीचर या संगीत अध्यापक बनने के लिए आपके पास में कुछ सर्टिफिकेट होना बेहद जरूरी होता है। तभी आप इन संस्थानों में एक म्यूजिक टीचर के रूप में काम कर सकते हैं।

म्यूजिक टीचर बनने के लिए जरूरी योग्यता

अगर आप संगीत की दुनिया में कदम रखते हैं तो केवल संगीत सीख लेने से ही नहीं होता। अगर आप इस क्षेत्र से जुड़ी हुई नौकरियां करने जाते हैं तो इसके लिए आपके पास में सर्टिफिकेट भी होना चाहिए।

  • आप किसी विशेष संस्थान से संगीत में डिप्लोमा कर सकते हैं। जिस तरह से लोग किसी एक विशेष विषय में डिप्लोमा करते हैं उसी तरह से आप भी संगीत में डिप्लोमा कर सकते हैं। भारत में ऐसे बहुत से संस्थान है जो कि संगीत में डिप्लोमा की डिग्री देते हैं।
  • डिप्लोमा की डिग्री के अलावा संगीत में स्नातक या 1 साल का सर्टिफिकेट कोर्स भी उपलब्ध है। आप इन दोनों कोर्स को करके भी एक म्यूजिक टीचर की नौकरी के लिए आवेदन दे सकते हैं।
  • 12वीं तक की पढ़ाई खत्म करने के बाद आप बीए प्रतिष्ठा के रूप में संगीत विषय से स्नातक की पढ़ाई भी कर सकते हैं। यह डिग्री अधिकतर स्कूलों में एक संगीत टीचर के लिए माननीय होती है।
  • एक संगीत अध्यापक बनने के लिए आपको कम से कम 10वीं या 12वीं पास होना अनिवार्य होता है। अगर आप संगीत टीचर के लिए किसी विश्वविद्यालय या विद्यालय में आवेदन दे रहे हैं तो आपके पास में संगीत में डिप्लोमा या सर्टिफिकेट इन इंस्ट्रूमेंट में डिप्लोमा होना जरूरी है।
  • साथ ही में, अगर आपने बीए प्रतिष्ठा के रूप में संगीत में स्नातक की डिग्री ली है तो भी आप संगीत टीचर के लिए आवेदन दे सकते हैं।
  • अगर आप किसी विश्वविद्यालय में एक संगीत टीचर के लिए आवेदन देना चाहते हैं तो कम से कम आपके पास में पर स्नातक या पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री संगीत में होनी चाहिए।

म्यूजिक टीचर कैसे बने?

जैसा कि हमने इस बारे में यह जिक्र किया है कि एक संगीत टीचर बनने के लिए आपके पास में संगीत की डिग्री होना बेहद जरूरी है। अगर आप संगीत की दुनिया में अपना एक अलग नाम एवं उसी क्षेत्र में कैरियर के बारे में सोच रहे हैं तो एक म्यूजिक टीचर बनने के लिए आपको निम्नलिखित शर्तों के साथ में एक संगीत टीचर बनने की तैयारी करनी चाहिए।

  • संगीत टीचर बनने के लिए सबसे पहले किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से आपको दसवीं तक की पढ़ाई पास होना पड़ेगा।
  • दसवीं पास करने के बाद किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से Certificate in Music या Certificate in Instrument डिप्लोमा कोर्स कर सकते हैं।
  • 12वीं तक की पढ़ाई करने के बाद आप स्नातक विषय के रूप में संगीत प्रतिष्ठा का विषय का चुनाव कर सकते हैं।
  • संगीत में डिप्लोमा डिग्री कोर्स करने के बाद आपको संगीत टीचर के लिए निकलने वाले आवेदन के लिए अप्लाई करना होगा।
  • समय-समय पर म्यूजिक टीचर की भर्ती के लिए आवेदन और एप्लीकेशन निकलती रहती है। इसीलिए आप इंटरनेट या समाचार पत्रों के माध्यम से इन वैकेंसी यों के लिए अप्लाई कर सकते हैं।
  • इन सबके अलावा अब खुद एक म्यूजिक ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट खोल करके इन लोगों को संगीत सिखाने का काम भी कर सकते हैं।

एक म्यूजिक टीचर की आमदनी कितनी होती है?

अगर आप किसी स्कूल या विद्यालय में एक संगीत के टीचर के रूप में नौकरी पाने में सफल हो जाते हैं। तो एक सरकारी विद्यालय में सामान्यता एक संगीत टीचर को ₹30000 से ₹50000 प्रति माह की तनख्वाह दी जाती है। हालांकि कुछ प्राइवेट संस्थानों में इससे अधिक या लगभग इतनी ही तनख्वाह दी जाती है। एक म्यूजिक टीचर का वेतन शहर और संस्थान पर निर्भर करता है। विभिन्न शहरों में म्यूजिक टीचर का वेतन अलग-अलग हो सकता है।

म्यूजिक टीचर बनने के लिए विभिन्न कोर्स कहां से करें

जैसा कि हमने आप सभी लोगों को इस बारे में ऊपर जानकारी दी है कि आप दसवीं कक्षा पास करने के बाद आप विभिन्न डिग्री और डिप्लोमा कोर्स में दाखिला ले सकते हैं। हम नीचे कुछ संस्थानों का नाम बता रहे हैं जहां से आप इन विश्वविद्यालयों से म्यूजिक टीचर बनने के लिए डिग्री या डिप्लोमा कोर्स कर सकते हैं।

  • Academy of Indian classical music Banarasi
  • Madras music Academy
  • Delhi school of music and drama
  • Bengal music College Kolkata
  • School of performing arts at IPs Academy Indore
  • Raja Mansingh Tomar music and art University Gwalior

 

Sharing Is Caring:

दोस्तों में, facttechno.in का संस्थापक हूं। मैं अपनी इस ब्लॉग पर टेक्नोलॉजी और अन्य दूसरे विषयों पर लेख लिखता हूं। मुझे लिखने का बहुत शौक है और हमेशा से नई जानकारी इकट्ठा करना अच्छा लगता है। मैंने M.sc (Physics) से डिग्री हासिल की है। वर्तमान समय में मैं एक बैंकर हूं।

राजा राममोहन राय

राजा राममोहन राय

राजा राममोहन राय भारतीय समाज सुधारक, विद्वान, और समाजशास्त्री थे। वे 19वीं सदी के प्रमुख राष्ट्रीय उद्यमी और समाज सुधारक थे। उन्होंने समाज में अंधविश्वास, बलात्कार, सती प्रथा, और दाह-संस्कार…

महर्षि दयानंद सरस्वती

महर्षि दयानंद सरस्वती की जीवनी

महर्षि दयानंद सरस्वती, जिन्हें स्वामी दयानंद सरस्वती के नाम से भी जाना जाता है, 19वीं सदी के महान धार्मिक और समाज सुधारक थे। उन्होंने आर्य समाज की स्थापना की, जो…

एपीजे अब्दुल कलाम की जीवनी

एपीजे अब्दुल कलाम की जीवनी

ए. पी. जे. अब्दुल कलाम, भारतीय राष्ट्रपति और भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के पूर्व अध्यक्ष के रूप में प्रसिद्ध थे। उनका जन्म 15 अक्टूबर 1931 को तमिलनाडु के रामेश्वरम…

डॉ भीमराव आंबेडकर जीवनी

डॉ भीमराव आंबेडकर जीवनी

डॉ. भीमराव आंबेडकर, भारतीय संविधान निर्माता, समाजसेवी और अधिकारिक हुए। उनका जन्म 14 अप्रैल 1891 को महाराष्ट्र के एक दलित परिवार में हुआ था। उन्होंने अपने जीवन में अनेक क्षेत्रों…

कालिदास का जीवन परिचय

कालिदास का जीवन परिचय

कालिदास भारतीय साहित्य का एक प्रमुख नाम है जिन्हें संस्कृत का महाकवि माना जाता है। उनका जन्म और जीवनकाल निश्चित रूप से नहीं पता है, लेकिन वे आधुनिक वास्तुगामी मतानुसार…

तुलसीदास की जीवनी

तुलसीदास का जीवन परिचय

संत तुलसीदास एक महान हिंदी साहित्यकार और संत थे, जिन्होंने अपनी शान्त और उदार व्यक्तित्व से भारतीय समाज में गहरा प्रभाव डाला। उन्होंने अपनी कविताओं के माध्यम से धार्मिक और…

Leave a Comment