What Causes Thunder and Lightning? किस वजह से बिजली चमकते और गरजते हैं?

यह आम बात है बरसात के मौसम में बिजली के चमकने और गड़गड़ाहट की आवाज आपने भी सुनी होगी। लेकिन इसके पीछे की क्या वजह है? इसके बारे में क्या आपने कभी सोचा है? विज्ञान बिजली की गड़गड़ाहट और चमकने के पीछे क्या कारण हो सकता है? आज के हमारे इस लेख में हम इसी बारे पर चर्चा करने वाले हैं कि What Causes Thunder and Lightning? किस वजह से बिजली चमकते और गरजते हैं?

आमतौर पर बिजली का चमकना और उसकी गड़गड़ाहट प्राकृतिक रूप से दुनिया भर में होती है। जब भी जोर से बारिश या तूफान आने की संभावना होती है तो बिजली जोर से गड़गड़ाहट की आवाज के साथ तेज रोशनी आसमान में चारों तरफ बिखेर देता है। बिजली का गर्जना एक प्राकृतिक घटना है। लेकिन इन सबके बावजूद भी हम मे बहुत सारे लोग इस बारे में नहीं जानते हैं कि बिजली कैसे गरज करके चमकती है? आज के हमारे इस लेख में हम इसी बारे में चर्चा करेंगे और यह जानने की कोशिश करेंगे कि बिजली क्यों चमकती है? इसके पीछे का विज्ञान में क्या कहता है?

What Causes Thunder and Lightning? किस वजह से बिजली चमकते और गरजते हैं?

बादलों की बिजली का चमकना तब शुरू होता है एक जब किसी तरह का तूफान उठता है। आसमान में बादलों के बीच वातावरण आस्थिर असामान्य होता है। आसमान में जहाज ठंडी हवा और गर्म हवा आपस में मिलती है। गर्म हवा ऊपर उठती है और जैसे ही ठंडी हवा के पास पहुंचती है, यहां पानी के बूंदों के रूप में बदल जाती है। इस पूरी प्रक्रिया को संवहन कहा जाता है।

ऊपर आसमान में तापमान और वातावरण एकदम से असामान्य होता है इस चलते कभी वहां का तापमान गर्मी के वजह से भर जाता है तो कभी काफी ठंडा भी हो जाता है। इस वजह से बारिश की बूंदे कभी-कभी बर्फ के रूप में भी बदल जाती है।

गर्म हवा का अपड्राफ्ट इतना तेज होता है कि यह Comulonimbus बादल बनाना शुरू कर देता है। इस तरह के बादल को आमतौर पर गरजने वाले बादल के रूप में जाना जाता है। इस तरह के बादल से ओलावृष्टि, गरज और प्रकाश का कारण बनता है।

आकाश में अत्यधिक बिजली चमकने के पीछे का कारण यह Comulonimbus Cloud ही होते हैं। यह तब होता है जब सभी जमीन में पानी के छोटे छोटे कान बहुत तेज गति से बादलों के अंदर चारों तरफ घूमने लगते हैं और एक दूसरे से टकराते हैं। इस वजह से इन बादलों की बूंदों द्वारा विद्युत आवेश पैदा होता है। जब यह बादल आपस में टकराते हैं तो विद्युत आवेश के चलते जोर से गड़गड़ाहट की आवाज और बिजली और रोशनी आकाश में चमकती हुई दिखाई देती है।

एक बार जयपुर विद्युत आवेश बादल में निर्मित हो जाता है तो धनात्मक प्रोटोन बादल के शीर्ष पर बनते हैं और ऋण आत्मक प्रोटोन नीचे एकत्रित हो जाते हैं। बिल्ड अप सकारात्मक रूप से चार्ज हो जाता है और इसे जोड़ने की आवश्यकता होती है। जिससे गरज के साथ बारिश होती है।

बिजली क्या होता है?

आकाश में बादलों के बीच तेज गड़गड़ाहट के साथ रोशनी की बौछार हमें देखने को मिलती है। इसे ही आसमानी बिजली कहते हैं।

जब प्रोटोन बादल में बनते हैं तो वे अपने चारों ओर विपरीत आवेशित प्रोटोन को आकर्षित करते हैं। बादलों में मौजूद धनात्मक आवेशित कण अपने नीचे मौजूद ऋण आत्मक आवेशित कण को आकर्षित करते हैं। इस वजह से उनके बीच में टकराव होता है। इस टकराव के कारण हमें आसमान में आसमानी बिजली चमकते हैं और गढ़ गढ़ आते हुए नजर आती है।

जब यह बिजली आसमान में चमकती है तो यह अपने आप को नकारात्मक कण में बदलने के लिए धरती पर गिरती है। यह ठीक वैसा ही है जैसा कि आप एक स्थिर झटके का अनुभव करते हैं।

आसमान में बिजली की गड़गड़ाहट क्यों होती है?

थंडर (Thunder) या बिजली की गड़गड़ाहट के बारे में हमने पहले ही ऊपर थोड़ी बहुत जानकारी दी है। आसमान में जब दो तरह के बादल जिनमें से एक धनात्मक आवेशित होता है और दूसरा ऋण आत्मक आवेशित होता है। इस तरह के बादल एक दूसरे को अपनी तरफ आकर्षित करते हैं। जब इन बादलों के बीच में टकराव होता है तो थंडर या गड़गड़ाहट की आवाज के साथ रोशनी की बौछार बादलों के बीच में होती है।

साधारण एवं सामान्य शब्दों में कहे तो गड़गड़ाहट बिजली द्वारा निर्मित कंपनी की आवाज होती है। बादलों में आवेशित ऋण आत्मक और धनात्मक आवेशित कण की मात्रा बहुत ज्यादा होती है। दोनों की टकराने पर बहुत ही ज्यादा मात्रा में ऊर्जा का निर्वाहन होता हैं। इस वजह से बिजली के चमकने पर तेज रोशनी के साथ जोर से कंपन या गड़गड़ाहट की आवाज पैदा होती है।

बिजली की गड़गड़ाहट या कंपन की ध्वनि तरंगों के रूप में हमारे कानों तक पहुंचते हैं। इसके परिणाम स्वरूप हमें एक गड़गड़ाहट की आवाज सुनाई देती है। अगर आप बिजली गिरने वाली जगह से काफी करीब है तो आपको दरार या चाबुक की आवाज सुनाई दे सकती है।

आसमान में बिजली चमकते समय हमें रोशनी पहले दिखाई देता है गड़गड़ाहट की आवाज बाद में ऐसा क्यों?

तूफानी मौसम में जब भी हम आसमान की तरफ देखते हैं तो हमें आकाश में चमकते हुए बिजली दिखाई देती है। लेकिन, बिजली की गड़गड़ाहट की आवाज हमें कुछ सेकंड बाद सुनाई देती है। ऐसा क्यों है?

ऐसा इसलिए है क्योंकि बिजली या रोशनी की गति ध्वनि की तुलना में काफी अधिक होती है। इसीलिए आसमान में जब भी बिजली चमकती और गड़गड़ाहट आती है तो पहले हमें रोशनी नजर आती है। उसके बाद हमें ध्वनि या कंपन की आवाज सुनाई देती है।

प्रकाश तरंगें काफी तेज गति से भी आशा करती है इसलिए हमें गड़गड़ाहट सुनने से पहले आसमान में रोशनी का फ्लैशलाइट नजर आता है।

लोगों के बीच में कई सारे मिथक भी है जैसे कि अगर आप बिजली की चमक ने और गरजने के बीच का समय गिरेंगे तो आप यह बता सकते हैं कि तूफान कितनी दूर है? लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं होता? यह मिथक सरासर गलत है।

दुनिया में सबसे ज्यादा बिजली कहां गिरती है?

इस सवाल के जवाब मे हम दोनों ही सवालों का जवाब देने वाले हैं पहला यह कि दुनिया में सबसे ज्यादा बिजली कहां गिरती है? और दुनिया में सबसे ज्यादा बिजली चमकने की घटना कहां होती है?

हम आपको यह बता दें कि पृथ्वी पर सबसे ज्यादा बिजली चमकने और गरजने वाले अस्थान के रूप में भूमध्य रेखा पर स्थित स्थलों के बीच में होता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि भूमध्य रेखा के सात जलवायु के कारण गर्म और ठंडी हवाएं दोनों ही अधिक रहती है।

इस कारण से उत्तरी और दक्षिणी दोनों ध्रुवों पर आंधी तूफान का अनुभव करना बहुत ही आसानमान्य बात है। भूमध्य रेखा को पृथ्वी पर सबसे स्थिर स्थान के रूप में जाना जाता है। भूमध्य रेखा पर ही स्थित अलग-अलग स्थल पर सबसे ज्यादा बिजली गिरने की घटनाएं होती है।

मध्य अफ्रीका में कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य को गरज के साथ बिजली चमकने कि राजधानी के रूप में जाना जाता है। क्योंकि यहां अत्यधिक मात्रा में बिजली चमकने और गिरने की घटनाएं होती है। कांगो के पहाड़ी गांव कीफुका मैं हर साल औसतन 160 बार बिजली चमकती है जो कि 247 एकड़ में गिरती है।

इसके अलावा उच्च स्तर की आंधी और तूफान का अनुभव करने वाले अन्य स्थान में वेनेजुएला और भारत का नंबर आता है।

विश्व में बिजली गरजने और सबसे खूबसूरत बिजली गिरने की घटना कहां होती है?

केवल भूमध्य रेखा पर ही नहीं पृथ्वी पर ऐसे और भी बहुत से जगह है जहां गरज और गड़गड़ाहट और रोशनी के साथ काफी उच्च मात्रा में बिजली चमकने की घटना होती है। लेकिन दुनिया में एक ऐसी भी जगह है जहां पर बिजली गिरने और चमकने की घटना के लिए मशहूर है।

वेनेजुएला स्थित माराकईबो झील में हर साल औसतन 247 एकड़ वर्ग किलोमीटर में 250 बार बिजली चमकने और गिरने की घटना होती है। इस घटना को प्राकृतिक घटना कैटाटुंबो बिजली या माराकईबो बीकन के रूप में जाना जाता है।

यह एक ऐसी जगह है जहां पर दो नदियां म्हाराकईबो और कैटाटुंबो नदी आपस में मिलती है। हर साल लगभग 260 तूफान यहां पर आते हैं। माराकईबो झील के नाम सबसे ज्यादा बिजली गिरने का गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड इन है। अक्टूबर के महीने में इस झील में हर मिनट 28 बिजली चमकने की घटना होती है।

निष्कर्ष

आज के हमारे इस लेख में हमने आप सभी लोगों को इस बारे में जानकारी उपलब्ध कराने की कोशिश की है कि What Causes Thunder and Lightning? किस वजह से बिजली चमकते और गरजते हैं? इसके अलावा हमने बिजली गिरने के विभिन्न पहलुओं के बारे में भी अपने इस लेख में चर्चा किया है।

गड़गड़ाहट के साथ बिजली का चमकना एक प्राकृतिक घटना है जो ज्यादातर आद्रता भरी जलवायु वाले क्षेत्रों में अधिक देखने को मिलती है। यह एक ऐसी घटना है जो दुनिया भर में हर जगह होती है। बिजली वातावरण में तनाव के कारण निर्माण होने वाली एक रोशनी या झटका है, और गड़गड़ाहट बिजली गिरने पर उत्पन्न होने वाली तेज आवाज या कंपन को कहते हैं।

दोस्तों उम्मीद करता हूं कि आज का हमारा यह लेख आप सभी लोगों को पसंद आया होगा। इससे संबंधित अगर आप के कुछ सवाल एवं सुझाव है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बता सकते हैं।