What is GST? (Goods and services tax) – जीएसटी या वस्तु एवं सेवा कर संपूर्ण जानकारी

0
99

What is GST in Hindi ? GST या वस्तु एवं सेवा कर क्या है? संपूर्ण जानकारी वस्तु एवं सेवा कर या जीएसटी भारत सरकार की नई प्रत्यक्ष कर व्यवस्था है, GST का full form – (Goods and services tax) वस्तु एवं सेवा कर, होता है। इसे एक जुलाई 2017 से लागू किया गया था। लेकिन जीएसटी क्या है? और यह वर्तमान टैक्स संरचना को कैसे सुधार देगा? या जीएसटी के बारे में अभी भी बहुत सारे लोग नहीं जानते हैं? आज के हमारे इस लेख में हम लोग आप लोगों को जीएसटी के बारे में बताएंगे। हमने अपने इस आर्टिकल में जीएसटी संबंधित सारे जानकारियां उपलब्ध कराने की कोशिश की है।

What is GST in Hindi -जीएसटी क्या है?

वस्तु एवं सेवा कर (GST) एक व्यापक, बहुस्तरीय, गंतव्य आधारित कर है जो प्रत्येक मूल्य में जोड़ पर लगाया जाएगा।इसे समझने के लिए, हमें इस परिभाषा के तहत शब्दों को समझना होगा। आइए हम बहुस्तरीय शब्द के साथ शुरू करें।कोई भी वस्तु निर्माण से लेकर के अंतिम उपभोक्ता कई चरणों के माध्यम से गुजरता है। पहला चरण है कच्चे माल को खरीदना, दूसरा चरण उत्पादन या निर्माण होता है। फिर, सामग्री के भंडारण या वेयरहाउस में डालने की व्यवस्था है। इसके बाद, उत्पाद रिटेलर या फुटकर विक्रेता के पास आता है। अंतिम चरण में, रिटेलर आपको या अंतिम उपभोक्ता को अंतिम बाल बेजता है। आप इसे थोड़ा नीचे दिए गए चित्र के जरिए समझ सकते हैं।

ऊपर ऊपर दिए गए चित्र से आपको यह समझ में आ गया होगा, जीएसटी किस तरह से लागू किया जाएगा और यह एक बहु स्तरीय टैक्स होगा। आप सोच रहे होंगे कि कैसे?उदाहरण :- मान लीजिए कि कोई व्यक्ति एक पैंट बनाना चाहता है। इसके लिए उसे धागा खरीदना होगा, यह धागा निर्माण के बाद एक पैंट बन जाएगा, तो इसका मतलब है, जब यह एक पैंट में बुना जाता है, धागे का मूल्य बढ़ जाता है। फिर, निर्माता इसे वेयरहाउसिंग एजेंट को भेजता है जो प्रत्येक पैंट में लेबल और टैग जोड़ता है। यह मूल्य का एक और संवर्धन हो जाता है। इसके बाद वेयरहाउस उस रिटेलर को बेचता है जो प्रत्येक शर्ट को अलग से पैकेज करता है, पैंट के विपणन में निवेश करता है। इस प्रकार निवेश करने से प्रत्येक शर्ट के मूल्य में बढ़ोतरी होती है।इस तरह से प्रत्येक चरण में मौद्रिक मूल्य जोड़ दिया जाता है जो मूल रूप से मूल्य संवर्धन होता है। इस मूल्य संवर्धन पर जीएसटी लगाया जाता है।परिभाषा में एक और शब्द है जिसके बारे में हमें बात करने की आवश्यकता है – गंतव्य आधारित (transportation) पूरे विनिर्माण श्रंखला के दौरान होने वाले सभी लेनदेन पर जीएसटी लगाया जाता है। इससे पहले, जब एक उत्पाद का निर्माण किया जाता था, तो केंद्र के विनिर्माण पर उत्पाद शुल्क या एक्सरसाइज ड्यूटी लगता था। तो राज्य वेट जोड़ता था, फिर बिक्री के अलग अस्तर पर एक वेट लगता था। अब, बिक्री के हर स्तर पर जीएसटी लगाया जाएगा। मान्य के पूरे विनिर्माण प्रक्रिया राजस्थान में हो रही है और कर्नाटका में अंतिम बिक्री हो रही है। चुकी जीएसटी खपत के समय लगाया जाता है,इसलिए राजस्थान राज्य को उत्पादन और वेयरहाउसिंग के चरणों में राजस्व मिलेगा।लेकिन जब उत्पाद राजस्थान से बाहर हो जाता है और कर्नाटका में अंतिम उपभोक्ता तक पहुंच जाता है तो राजस्थान को राजस्व नहीं मिलेगा। इसका मतलब यह है कि कर्नाटका अंतिम बिक्री पर राजस्व अर्जित करेगा, क्योंकि यह गंतव्य आधारित कर है। इसका मतलब यह है कि कर्नाटका अंतिम बिक्री पर राजस्व अर्जित करता है।

वस्तु एवं सेवा कर इतना महत्वपूर्ण क्यों है?

आपने अब तक जीएसटी के बारे में समझ लिया होगा,तो हम देखते हैं कि यह वर्तमान टैक्स संरचना को और अर्थव्यवस्था को बदलने में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।वर्तमान समय में, भारतीय कर संरचना दो भागों में विभाजित की गई है।

  • प्रत्यक्ष कर
  • अप्रत्यक्ष कर

प्रत्यक्ष कर – Direct tax

प्रत्यक्ष कर या डायरेक्ट टैक्स वह है जिसमें देनदारी किसी और को नहीं दी जा सकती। इसका एक उदाहरण आयकर है,जहां आप आय अर्जित करते हैं और केवल आप उस पर कर का भुगतान करने के लिए उत्तरदाई होते हैं।

अप्रत्यक्ष कर – Indirect tax

अप्रत्यक्ष करों के मामले में,टैक्स की देनदारी किसी अन्य व्यक्ति को दी जा सकती है। इसका मतलब यह है कि जब दुकानदार अपने बिक्री पर वेट देता है, तो यह अपने ग्राहकों को देता दे सकता है।इसलिए ग्राहक आइटम की कीमत और वेट पर भुगतान करता है, ताकि दुकानदार सरकार को वैट जमा कर सके। मतलब धड़कना केवल उत्पाद की कीमत का भुगतान करता है, बल्कि उसे कर दायित्व भी देना पड़ता है। और इसलिए, जब वह किसी आइटम को खरीदना है तो उसे अधिक खर्च करना होता है।यह इसलिए होता है क्योंकि दुकानदार को जब वह आइटम थोक व्यापारी से एक खरीदता है तो, उसे कर का भुगतान करना पड़ता है। वह राशि वसूल करने के साथ ही सरकार को भुगतान किए गए , वेट की भरपाई के लिए वह अपने घर को देयता दे सकता है। जिसे अतिरिक्त राशि का भुगतान करना पड़ता है। लेन-देन के दौरान दुकानदार के लिए अपनी जेब से जो भी भुगतान करना होता है,उसके लिए रिफंड का दावा करने का दूसरा तरीका नहीं है और इसलिए, उसके पास ग्रह की देयता को पारित करने के अलावा कोई विकल्प नहीं होता है।

How GST works – जीएसटी कैसे काम करेगा?

सरकारी सख्त निर्देशों और प्रावधानों के बिना एक देशव्यापी कर सुधार काम नहीं कर सकता है।जीएसटी परिषद ने इस नए कर व्यवस्था को तीन चरणों में विभाजित करके इसे लागू करने का एक विधि तैयार किया है। यह कैसे काम करता है? इसके बारे में हम लोग नीचे विस्तार में आप लोगों को बताएंगे.जब जीएसटी लागू किया जाता है, तो इसमें तीन तरह के tax होते है:-सीजीएसटी (CGST):- जहां केंद्र सरकार द्वारा राजस्व एकत्र किया जाता है।

एसजीएसटी (SGST):-राज्य में बिक्री के लिए राज्य सरकार द्वारा राजस्व एकत्रित किया जाता है।आईजीएसटी (IGST):- जहां अंतर राज्य बिक्री के लिए केंद्र सरकार द्वारा राजस्व एकत्रित किया गया।ज्यादातर मामलों में नए शासन के तहत कर संरचना निम्नानुसार हो सकती है।

जीएसटी का एक मुख्य फायदा यह है कि इससे अन्य कई अप्रत्यक्ष कर दूर हो जाते हैं। जीएसटी लागू होने के बाद वर्तमान में लगने वाले सभी कर हटा लिए जाएंगे। यदि जीएसटी प्रभाव में आता है तो उत्पाद कर, चुंगी कर, विक्रीकर सी आई एन वेट, सेवा कर, कुल बिक्री करा नहीं लगेंगे, यह सभी कर जीएसटी के तहत आते हैं।

आसान व्यापार जीएसटी का उद्देश्य एक देश, एक कर है। इस प्रकार सभी राज्यों में एक समान कर लगेगा। इससे राज्यों के बीच होने वाली आस्वास्थ् प्रतियोगिता को रोका जा सकेगा,वे लोग जो राज्यों के बीच व्यापार करते हैं उनके लिए यह एक अच्छा बात है।जीएसटी उन लोगों को सहायता प्रदान करता है जो अन्य राज्यों में अपनी शाखाएं खोलना चाहते हैं।

जीएसटी के क्या फायदे हैं – what are the benefits of GST

जीएसटी के क्या-क्या फायदे हो सकते हैं उन्हें हमने नीचे क्रमबद्ध तरीके से बताया है।

व्यवसाय और उद्योग के लिए

  • सरल अनुपालन:-एक्सीडेंट और व्यापक सूचना प्रौद्योगिकी प्रणाली भारत में जीएसटी व्यवस्था का आधार होगा, अंता सभी करदाताओं सेवाएं जैसे कि पंजीकरण, भुगतान आदि करदाताओं को ऑनलाइन उपलब्ध होगी जिससे अनुपालन सरल और पारदर्शी होगा
  • कर दरों और दांतों में एकरूपता:- माल एवं सेवा कर या सुनिश्चित करेगा कि प्रत्यक्ष कर दरें और ढांचे समुचित देश में एक जैसा होंगे, जिससे व्यवसाय और सरलता बढ़ेगी। अन्य शब्दों पर, जीएसटी से देश में व्यवसाय करना कर निरपेक्ष होगा, भले ही व्यवसाय करने का स्थान कोई भी हो।
  • क्रम प्रपात का विलेपन :- समूचे मूल्य संखला और राज्य की सीमाओं में निर्भर क्विट की प्रणाली से यह सुनिश्चित होगा कि करो का न्यूनतम क्रम प्राप्त हो। इससे व्यवसाय करने की छुपी लागते कम होगी।
  • अधिक प्रतिस्पर्धात्मक:- व्यवसाय करने की लेनदेन संबंधी लागतो में कमी होने से व्यापार और उद्योग के लिए अधिक प्रतिस्पर्धा का मार्ग खुलेगा।
  • वीनिर्माताओं और निर्यातकों को लाभ: प्रमुख केंद्रीय और राज्य करो का जीएसटी में सम्मेलन, न्यू स्ट माल और सेवाओं का संपूर्ण और समृद्धि तुलन और केंद्र बिक्री को चरणबद्ध रूप से हटाना स्थानीय रूप से विनिर्मित माल और सेवाओं की लागत को कम करेगा। इससे अंतरराष्ट्रीय बाजार में भारतीय माल और सेवाओं की प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी और भारतीय निर्यात को बढ़ावा मिलेगा।

केंद्र और राज्य सरकारों के लिए लाभ

  • लगान में सरल और सुविधा: केंद्र और राज्य स्तर पर बहुत सारे प्रकार के प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष कर लगाए जाते हैं। एक सुरक्षित और चोर सूचना प्रौद्योगिकी प्रणाली की मदद से जीएसटी कॉल लगाना केंद्र और राज्य स्तर पर अब तक लगाया जा रहे अन्य सभी अप्रत्यक्ष करों की तुलना में ज्यादा सरल साबित होगा।
  • अपवचन पर बेहतर नियंत्रण : जीएसटी एक सुधीर सूचना प्रौद्योगिकी अवसंरचना के चलते बेहतर कर अनुपालन में प्रमाणित होगा।मूल्यवर्धन की संख्या में एक चरण से दूसरे चरण में निर्दिष्ट कर क्रेडिट के निर्बाध अंतर के कारण, जीएसटी के प्रारूप में एक अंत नहीं हिलता तंत्र है।
  • उच्च राजस्व दक्षता: जीएसटी से सरकार के कर राजस्व के संग्रहण की लागत में कमी आने की आशा है, जिससे उच्च राजस्व अध्यक्षता फलीभूत होगी।

क्या आपको जीएसटी पंजीकरण की आवश्यकता होगी?

जीएसटी सभी व्यवसायो पर लागू है , इन सेवाओं में निम्नलिखित चीजें शामिल होंगी।

व्यवसाय में शामिल है – व्यापार, वाणिज्य, निर्माण, पेशे, व्यवसाय या किसी अन्य सामान कार्यवाही, इसकी पसारिया प्रायिकता के बावजूद, इसमें व्यवसाय शुरू करने या बंद करने के लिए माल/सेवाओं की आपूर्ति भी शामिल है।

सेवाओं का मतलब वस्तु के अलावा कुछ भी है। यह संभावना है कि सेवा है और समान एक अलग जीएसटी दर होगी।

जीएसटी सभी व्यक्तियों पर लागू होगी

व्यक्तियों में शामिल है: व्यक्तियों, एचयूएफ (हिंदू अविभाजित परिवार), कंपनी, फॉर्म, एलएलपी, सहकारी सोसायटी, सोसाइटी, ट्रस्ट इत्यादि। हालांकि जीएसटी कृषक विशेषज्ञों पर लागू नहीं होगी।

कृषि में फूलों की खेती, बागवानी, रेशम उत्पादन, फलों, फसलो, घास या बगीचे के उत्पादन शामिल है। लेकिन डेयरी फार्मिंग (दूध का व्यापार), मुर्गी पालन, स्टॉक प्रजनन, फल या संगमरमर या पौधे के पालन में शामिल नहीं है।

जीएसटी पंजीकरण की आवश्यकता कब होती है

जीएसटी पंजीकरण प्राप्त करने के लिए पैन कार्ड होना अनिवार्य है।हालांकि और निवासियों व्यक्ति सरकार द्वारा अनिवार्य अन्य दस्तावेजों के आधार पर जीएसटी पंजीकरण प्राप्त कर सकते हैं।

एक पंजीकरण प्रत्येक राज्य के लिए आवश्यक होगा,करदाता राज्य में अपने अलग-अलग बिजनेस वर्टिकल के लिए अलग-अलग पंजीयन प्राप्त कर सकते हैं।

इसके अलावा भी कई मामले हैं जहां पर जीएसटी पंजीकरण करवाना अनिवार्य होता है जिसे हमने सूचीबद्ध तरीके से नीचे दिया है।

  • माल, सेवाओं की अंतर राज्य आपूर्ति करने वाले
  • कोई भी व्यक्ति जो एक कार योग्य क्षेत्र में माल सेवाओं की आपूर्ति करता है और इसमें व्यवसाय का कोई निश्चित स्थान नहीं है, जिसे आकस्मिक कर योग्य व्यक्ति के रूप में संदर्भित किया जाता है। ऐसे व्यक्ति को जारी किए गए पंजीकरण 90 दिनों की अवधि के लिए वैध है।
  • कोई भी व्यक्ति जो माल और सेवाओं की आपूर्ति करता है और भारत में व्यापार का कोई निश्चित स्थान नहीं है।
  • एजेंट या किसी अन्य व्यक्ति जो अन्य पंजीकृत कर योग्य व्यक्ति की ओर से आपूर्ति करता है।
  • वितरक या इनपुट सेवा वितरक,इस व्यक्ति के पास आपूर्तिकर्ता के कार्यालय के रूप में एक ही पेन है। यह व्यक्ति आपूर्तिकर्ता के एक अधिकारी हैं, वह सीजीएसटी, एसजीएसटी, आईजीएसटी के लोन को वितरित करने के लिए आपूर्ति और टैक्स चालान को प्राप्त करता है।
  • ई-कॉमर्स ऑपरेटर
  • ई-कॉमर्स ऑपरेटर के माध्यम से आपूर्ति करने वाले व्यक्ति जिनमें ब्रांडेड सेवाएं को छोड़ कर के
  • एग्रीगेटर जो अपने ब्रांड नाम के तहत सेवाएं प्रदान करता है।
  • भारत में एक व्यक्ति को भारत से बाहर एक जगह से ऑनलाइन सूचना और डेटाबेस पहुंचा या पुनर्प्राप्ति सेवाओं की आपूर्ति करने वाला व्यक्ति

जीएसटी के लिए पंजीकरण कैसे करें?

जीएसटी के लिए पंजीकरण एक काफी आसान प्रक्रिया है।नीचे दिए गए चित्र में जीएसटी के लिए पंजीकरण करने की प्रक्रिया के बारे में बताया गया है जिसे आप पढ़ सकते हैं।

जीएसटी जीएसटी के लिए पंजीकरण करने के लिए आवश्यक दस्तावेज

  1. फोटो
  2. करदाता का संविधान
  3. व्यापार स्थान के सबूत
  4. बैंक खाता विवरण
  5. प्राधिकरण फॉर्म

जीएसटी के तहत पंजीकृत नहीं होने पर दंड

कोई भी अपराधी जो टैक्स का भुगतान नहीं कर रहा या भुगतान नहीं करता है, उसे देखकर राशि का 10% (जिसमें 10000 न्यूनतम राशि है) जुर्माना देना होगा। जहां एक संकलित करवचन देखा गया है वहां अपराधी को देय कर राशि का 100% जुर्माना देना होगा।

लेकिन, अन वास्तविक त्रुटियों के लिए, जुर्माना कर का 10% निर्धारित किया गया है।

Conclusion

दोस्तों हमारे इस लेख में हम लोगों ने आप लोगों को जीएसटी क्या होती है? What is GST in Hindi, type of GST deducted, how GST helpful, how to to registration for new GST number, आदि चीजों के बारे में बताया है।दोस्तों अगर आपको यह जानकारी पसंद आई है तो आप इसे सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते हैं। इससे संबंधित अगर आपकी कोई सवाल है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं।

Interesting fact about ISRO – इसरो के बारे में रोचक तथ्य

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here