Sukanya Samriddhi Yojana Hindi – सुकन्या समृद्धि योजना

Sukanya Samriddhi Yojana Hindi – सुकन्या समृद्धि योजना भारत की एक छोटी बचत योजनाओं में से एक में गिनी जाती है। इसकी शुरुआत “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ” के अभियान के साथ शुरू की गई थी। जिसके अंतर्गत माता-पिता या कानूनी अभिभावक कन्या के नाम से खाता खोल सकते हैं इस योजना के अंतर्गत खाता खुलवाने के लिए बच्ची की आयु सीमा 10 वर्ष से कम होनी चाहिए। यह खाता किसी भी डाकखाने और सरकारी बैंक में खोले जा सकते हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना के क्या है फायदे?

अगर आपके घर में छोटी बच्ची है और आप उसकी पढ़ाई या शादी के वक्त एकमुश्त मदद पाने के लिए केंद्र सरकार की सुकन्या समृद्धि योजना में निवेश करने के बारे में सोच रहे हैं। तो आज आप सही जगह आए हैं। आज के हमारे इसलिए तुम्हें हम सुकन्या समृद्धि योजना के फायदे एवं इससे जुड़ी अन्य महत्वपूर्ण जानकारी के बारे में बात करने वाले हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना का लाभ उठाने के लिए आपके घर में छोटी बच्ची की न्यूनतम आयु 10 साल से कम होनी चाहिए। 10 साल से कम उम्र की बेटी की उच्च शिक्षा और शादी के लिए बचत करने के लिए हादसे केंद्र सरकार की सुकन्या समृद्धि योजना एक अच्छी निवेश योजना है। निवेश के इस बेहतरीन विकल्प से पैसे लगाने से आपको इनकम टैक्स में भी राहत मिलती है।

जो लोग शेयर बाजार के जोक मुझसे दूर रहकर के एवं सरकारी बैंकों के फिक्स्ड डिपॉजिट के ब्याज दरों में गिरावट के कारण काफी परेशान है, तो उन लोगों के लिए यह योजना काफी लाभदायक है अगर उनके घर में 10 साल से कम उम्र की छोटी बच्ची है तो वे लोग उसके नाम से सुकन्या समृद्धि योजना ले सकते हैं।

What is Sukanya Samriddhi Yojana – सुकन्या समृद्धि योजना क्या है?

सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) बेटियों के लिए केंद्र सरकार की एक छोटी बचत योजना है। इस योजना की शुरुआत केंद्र सरकार के अभियान बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ स्कीम के तहत की गई थी। छोटी बचत योजना में सुकन्या समृद्धि योजना सबसे बेहतर ब्याज देने वाली योजना मानी जाती है।

सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत वर्तमान समय में 7.6% की दर से ब्याज दिया जा रहा है। इसके साथ ही आपको आपके इनकम टैक्स पर 80 (D) के अंतर्गत छूट भी दी जाती है। जब इस योजना की शुरुआत की गई थी उस समय इस योजना के अंतर्गत 9.2% की ब्याज दर दी जा रही थी।

बहुत कम रकम के साथ खुलने वाला सुकन्या समृद्धि योजना खाता दरअसल उन लोगों के लिए काफी लाभकारी है जो छोटी-छोटी बचत के जरिए अपने बच्चे की शादी या उसकी उच्च शिक्षा के लिए पैसे जमा करना चाहते हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना का लाभ कैसे उठा सकते हैं?

सुकन्या समृद्धि योजना के तहत आपको डाकघर या किसी सरकारी बैंक में खाता खुलवाना पड़ता है। इस योजना के तहत आप लड़की बच्ची जिसकी उम्र 10 साल से कम हो के लिए खाता खुलवाते हैं। इस योजना के अंतर्गत 10 साल से कम उम्र के बच्ची के लिए अगर आप सुकन्या समृद्धि योजना लेते हैं तो आप को कम से कम ₹250 से जमा के साथ, यह खाता खुलवाना होता है।

चालू वित्त वर्ष में सुकन्या समृद्धि योजना के तहत अधिकतम 1.5 लाख रुपए जमा कराए जा सकते हैं। सुकन्या समृद्धि योजना के तहत एक अकाउंट किसी पोस्ट ऑफिस या किसी सरकारी बैंक में अधिकृत शाखा में ही खोला जा सकता है।

सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत कितने सालों तक पैसे जमा करने पड़ते हैं?

सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत खाता खोलने के बाद आप लड़की बच्ची के 21 साल के होने या 18 साल की उम्र के बाद उसकी शादी होने तक पैसे जमा कर सकते हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना खाते से 18 साल की उम्र के बाद बच्चे की उच्च शिक्षा के लिए खर्च के मामले में 50 फ़ीसदी तक रकम निकाली जा सकती है।

सुकन्या समृद्धि योजना खाता खोलने के लिए योग्यता एवं नियम

  • सुकन्या समृद्धि योजना खाता बच्ची के माता-पिता या कानूनी अभिभावक द्वारा अपनी लड़की बच्ची के नाम से ही खोला जा सकता है।
  • सुकन्या समृद्धि योजना का लाभ उठाने के लिए आपको यह खाता 10 साल की उम्र ( बच्ची की उम्र) से पहले ही खोलना होता है।
  • इस नियम के मुताबिक एक बच्ची के लिए केवल एक ही खाता खुल सकता है।
  • एक ही बच्ची के लिए दो खाता नहीं खोला जा सकता है।
  • सुकन्या समृद्धि योजना खाता खोलने के बाद लड़की बच्ची के 21 साल के होने या 18 साल की उम्र के बाद उसकी शादी होने तक चलाया जा सकता है।

सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत खाता खोलते वक्त कौन कौन से दस्तावेज या डॉक्यूमेंट की आवश्यकता होती है?

सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत अगर आप अपनी बच्ची के लिए खाता खुलवाने के बारे में सोच रहे हैं, तो इसके लिए आपको निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता हो सकती है :-

  1. बच्ची का जन्म प्रमाण पत्र
  2. इसके अलावा बच्ची का पहचान पत्र अगर हो तो
  3. बच्ची का पहचान पत्र के अंतर्गत आप बच्ची का आधार कार्ड दे सकते हैं।
  4. माता पिता का पहचान पत्र ( आधार कार्ड, वोटर आईडी, ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट इत्यादि)
  5. माता पिता का आवासीय प्रमाण पत्र इसके अंतर्गत आप आधार कार्ड, वोटर आईडी और पासपोर्ट दे सकते हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना में कितने रुपए जमा कर सकते हैं?

सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत अगर आप खाता खुलवाने के बारे में सोच रहे हैं, तो इसकी शुरुआत आप ₹250 हर महीने और इसके बाद ₹100 के गुणांक में पैसे जमा कर सकते हैं।

किसी एक वित्तीय वर्ष में कम से कम आपको ₹250 जमा करना अनिवार्य होता है। इसके अलावा आपको इस बात का भी ध्यान रखना है कि सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत एक बार में किसी भी एक वित्तीय वर्ष में 1.5 लाख रुपए से अधिक जमा नहीं कर सकते हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना खाते में रकम खाता खोलने के दिन से 15 साल तक जमा कराया जा सकता है। वही 9 साल की किसी बच्ची कि अगर आप सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत खाता खुलवा रहे हैं तो इस मामले में 24 साल की उम्र तक पैसे जमा करने पड़ते हैं। बच्चे की उम्र 24 से 30 साल तक की हो जाएगी तब तक सुकन्या समृद्धि योजना का खाता मैच्योर हो जाएगा, उस में जमा रकम पर आपको ब्याज मिलता रहेगा।

सुकन्या समृद्धि योजना में रकम सही समय पर जमा नहीं कर पाए तो क्या होगा?

यह सवाल अक्सर कई लोगों के मन में आते हैं, अगर सुकन्या समृद्धि योजना मेरा काम सही समय पर जमा नहीं किया जाए तो क्या होगा? सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत खोले गए खाते में अगर रकम सही समय पर जमा नहीं किए गए तो उस पर ₹50 की सालाना जुर्माना लगाई जाती है।

आप ₹50 जुर्माना सालाना भर कर के फिर से सुकन्या समृद्धि योजना के खाते को नियमित कर सकते हैं। इसके साथ ही हर साल के लिए कब से कम जमा कराए जाने वाली राशि जो कि न्यूनतम ₹250 है। उसे भी सुकन्या समृद्धि योजना के खाते में जमा कराया जाता है।

अगर आप जुर्माना जमा नहीं करते हैं तो सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत खोले गए खाते पर आपको बचत बैंक खाते के समान ब्याज मिलता रहेगा, जो कि वर्तमान समय में लगभग 4% है। अगर आपके सुकन्या समृद्धि योजना खाते पर ब्याज ज्यादा दे दिया जाता है तो इस स्थिति में संबंधित बैंक किया पोस्ट ऑफिस आप को दिए गए ब्याज को वापस से ले सकता है।

सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत पैसे कैसे जमा कर सकते हैं?

सुकन्या समृद्धि योजना पर पैसे जमा करने के लिए आप सीधे नकद पैसे संबंधित बैंक किया पोस्ट ऑफिस में जमा कर सकते हैं। इसके अलावा आप चेक, डिमांड ड्राफ्ट या किसी ऐसे इंस्ट्रूमेंट का भी इस्तेमाल कर सकते हैं जिसे बैंक स्वीकार करती हो। इसके लिए रकम जमा करने वाले का नाम और जिसके नाम पर सुकन्या समृद्धि योजना का खाता है लिखा होना चाहिए।

इसके अलावा आप सुकन्या समृद्धि योजना में पैसे NEFT/RTGS/BHIM UPI, डिजिटल वॉलेट, जैसे कि phone pe, Google Pay, Paytm इत्यादि का इस्तेमाल करते हुए पैसों का हस्तांतरण अपने सुकन्या समृद्धि योजना खाते पर कर सकते हैं।

अगर आपने सुकन्या समृद्धि योजना खाते में रतन चेक या डिमांड ड्राफ्ट की मदद से जमा की है तो आपको इस बात का भी ध्यान रखना है कि पैसों का क्लीयरेंस होने के बाद ही आपको सुकन्या समृद्धि योजना के खाते में ब्याज दिया जाएगा। वहीं अगर आप पैसों का ट्रांसफर करके अपने खाते पर पैसे जमा करते हैं तो ब्याज की गणना उसी दिन से की जाती है।

सुकन्या समृद्धि योजना खाते पर ब्याज की गणना कैसे की जाती है?

सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत ब्याज की गणना तिमाही में ब्याज दर की गणना की जाती है। सुकन्या समृद्धि योजना खाते पर ब्याज दर जिस दर की तुलना में मैच्योरिटी की तुलना में 75 बेसिस प्वाइंट्स तक अधिक होता है।

सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत अब तक दिया गया ब्याज दर

सुकन्या समृद्धि योजना
  • अप्रैल 1 वर्ष 2014 – 9.1%
  • अप्रैल 1 वर्ष 2015 – 9.2%
  • अप्रैल 1 वर्ष 2016 – 8.6% से लेकर के 8.5%
  • जुलाई 1 वर्ष 2017 से दिसंबर 31 वर्ष 2017 तक – 8.3%
  • जनवरी 8 वर्ष 2018 से मार्च 31, 2018 तक – 8.1%
  • अक्टूबर 1 वर्ष 2018 से दिसंबर 31 वर्ष 2018 तक – 8.5%
  • जनवरी के 1 वर्ष 2019 से मार्च 31 वर्ष 2019 तक – 8.5%

मैच्योरिटी से पहले किन हालातों में सुकन्या समृद्धि योजना खाता बंद किया जा सकता है?

अगर सुकन्या समृद्धि योजना खाता धारक की मृत्यु हो जाती है तो उसका मृत्यु प्रमाण पत्र दिखा करके खाता को बंद किया जा सकता है। इसके बाद सुकन्या समृद्धि योजना खाते में जमा रकम बच्ची के अभिभावक को ब्याज सहित वापस कर दी जाती है।

वहीं दूसरे मामले में अगर सुकन्या समृद्धि योजना खाते को खोलने से 5 साल के बाद बंद किया जा सकता है। यह भी कई परिस्थितियों में की जा सकती है जैसे कि जीवन को खतरे वाली बीमारियों के मामले में।

इसके बाद भी अगर किसी दूसरी तरह की कोई समस्या या कारण होता है तो भी सुकन्या समृद्धि योजना खाते को बंद करने की इजाजत दी जा सकती है। लेकिन इस स्थिति में इस बात का ध्यान रहे कि इस पर मिलने वाला ब्याज दर आपको बचत खाते की ब्याज दर के बराबर दिया जाता है।

क्या मैं सुकन्या समृद्धि योजना खाते को किसी दूसरी जगह ट्रांसफर कर सकता हूं?

यह सामान्य सवाल है। इस तरह का सवाल ज्यादातर लोगों के मन में आते हैं अगर उन्होंने किसी दूसरी जगह पर सुकन्या समृद्धि खाता खुलवाया है। और वर्तमान समय में हुआ किसी और दूसरी जगह पर रह रहे हैं। वहां पर वह अपने सुकन्या समृद्धि योजना खाते को ट्रांसफर करवाना चाहते हैं।

ऐसी स्थिति में आपको हम बता दें कि सुकन्या समृद्धि योजना खाते को आप देश भर में कहीं भी ट्रांसफर कर सकते हैं। अगर खाताधारक खाता खोलने की मूल जगह से कहीं और शिफ्ट हो गया है तो। खाता ट्रांसफर फ्री ऑफ कॉस्ट यानी कि आपको इसके लिए किसी भी तरह का कोई शुल्क अदा नहीं करना पड़ता है।

खाते को ट्रांसफर करने के लिए अकाउंट होल्डर या उसके माता पिता या अभिभावक के शिफ्ट होने का सबूत दिखाना पड़ता है। अगर आप इस तरह का कोई भी प्रमाण पत्र नहीं दे पाते हैं तो आपको पोस्ट ऑफिस या फिर जहां पर आपने खाता खुलवाया है जैसे कि बैंक को आपको ₹100 शुल्क अदा करके खाता को ट्रांसफर करवा सकते हैं।

ध्यान रहे आपने सुकन्या समृद्धि योजना खाते को किसी बैंक में खुलवाया है और अगर वहां पर कोर बैंकिंग की सुविधा उपलब्ध है तो सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत खोले गए खाते को आप इलेक्ट्रॉनिक तरीके से आसानी से हस्तांतरित किया ट्रांसफर कर सकते हैं।

क्या सुकन्या समृद्धि योजना खाते से आंशिक रकम निकासी की जा सकती है?

सुकन्या समृद्धि योजना का खाता धारक को वित्तीय जरूरतों को पूरा करने के लिए योजना के अंतर्गत खाते से आंशिक निकासी दी जा सकती है। इसमें उच्च शिक्षा और शादी जैसे काम शामिल होते हैं।

इस योजना में पिछले वित्त वर्ष के अंत तक जमा रकम का 50% निकाला जा सकता है। सुकन्या समृद्धि योजना से या निकासी तभी संभव है जब खाताधारक की उम्र कम से कम 18 वर्ष होनी चाहिए।

खाताधारक रकम निकालने के लिए एक लिखित आवेदन अपने संबंधित सुकन्या समृद्धि योजना से निकासी के लिए किसी शिक्षण संस्थान में एडमिशन ऑफर, की रसीद, अगर शादी जैसा मामला है तो इसके लिए उसे संबंधित शाखा में आवेदन देना पड़ता है।

खाता खोलने के दिन से 21 साल पूरा होने तक लड़की बच्ची की शादी होने के बाद खाता मैच्योर हो जाएगा।

सुकन्या समृद्धि योजना से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें एवं शर्तें

  • खाताधारक की शादी खाता खोलने के 21 साल पूरा होने से पहले हो जाती है तो खाते में रकम जमा नहीं कराई जा सकती है।
  • अगर खाताधारक अगर 21 साल पूरा होने से पहले बंद कराया जा रहा है तो खाताधारक को एफिडेविट देना पड़ेगा कि खाता बंद करने के समय उसकी उम्र 18 साल से कम नहीं है।
  • मैच्योरिटी के समय पासबुक और विद रोल स्लिप पेश करने पर खाताधारक को ब्याज सहित जमा रकम वापस कर दी जाती है।
  • सुकन्या समृद्धि योजना के तहत खाता सिर्फ भारतीय नागरिकों के लिए खोले जा सकते हैं। यहां पर ध्यान रखने वाली बात यह है कि वह भारत में ही रह रहे हो और मैच्योरिटी के समय में भी वह भारत में ही रहते रहे हो।
  • अगर खाताधारक 18 वर्ष होने के बाद किसी दूसरे देश में चली जाती है। एवं वहां की नागरिकता हासिल कर लेती है तो उसे सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत जमा पैसों में ब्याज मिलना बंद हो जाएगा।

निष्कर्ष

आज के हमारे इस लेख में हमने आप लोगों को Sukanya Samriddhi Yojana Hindi – सुकन्या समृद्धि योजना के बारे में जानकारी प्रदान की है। अगर आप अपने घर में मौजूद किसी लड़की बच्ची के लिए सुकन्या समृद्धि योजना लेने के बारे में सोच रहे हैं तो जरूर आपको हमारे इस आर्टिकल से यह समझ में आ जाएगा कि आप को किस तरह से सुकन्या समृद्धि योजना का लाभ उठाना है।

हमें इस लेख में इसके अलावा सुकन्या समृद्धि योजना से जुड़ी उन सारी बातों पर भी चर्चा की है जो कोई भी सामान्य खाताधारक के मन में होते हैं। उम्मीद करता हूं कि आपको आज के हमारे इस लेख से जरूर कुछ नया सीखने को मिला होगा। इससे संबंधित अगर आपकी कुछ सवाल एवं सुझाव है तो आप हमें कमेंट बॉक्स पर कमेंट करके बता सकते हैं।