Server क्या होती है? कैसे काम करता है? Types of server in hindi

0
439

दोस्तों अगर आप इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं तो आपने एक कई बार यह तो सुना होगा की शायद इंटरनेट का server डाउन है। इसलिए फलना पेज, या फलना चीज को download होने में टाइम लग रहा है। इसके अलावा भी जब कभी किसी नौकरी के लिए ऑनलाइन फॉर्म निकलती है और एक साथ कई सारे लोग उस नौकरी के लिए फॉर्म को भरते हैं,तब अक्सर लोगों के मन से आपने यह जरूर सुनने में आया होगा कि शायद सर्वर डाउन है। इस चलते फॉर्म ऑनलाइन जमा करने में दिक्कत हो रही है।

अगर आप कभी बैंकिंग कार्य हेतु, बैंक जाते हैं तो कई बार बैंक कर्मचारियों के द्वारा आपको, यह चीज भी सुनने को मिली होगी। आज सर्वर डाउन है, इस चलते आपके पैसे दूसरे अकाउंट में ट्रांसफर नहीं हो सकते। तो आपने कहीं ना कहीं server सब तो जरूर सुना होगा।

लेकिन क्या आपने कभी सोचा है! यह server क्या होता है? कैसे काम करता है? Computer technology में server शब्द की शुरुआत आज से कई साल पहले की गई थी। Internet से जुड़े ज्यादातर मशीनें चीजें server के द्वारा ही सूचनाओं के आदान प्रदान करने में बहुत ही बड़ी भूमिका निभाती है। तो चलिए जानते हैं कि आखिर sarvar क्या होती है? कैसे काम करती है?

Server क्या होता है? – What is server in Hindi

Computer के क्षेत्र में, server hardware या software का एक सहयोग है। जिसे storage data के आदान-प्रदान के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इसे client की सेवा के लिए डिजाइन किया गया है।

लेकिन जब हम केवल server शब्द का इस्तेमाल करते हैं तो इसका मतलब एक तरह के computer से होता है। जोकि server operating system को चालू रख रहा हो सकता है। लेकिन साधारण तौर पर server का अर्थ सेवा प्रदान करने में सक्षम किसी विशेष प्रकार के software या related hardware से होता है।

अगर हम सर्वर को दूसरे शब्दों में समझें तो server एक तरह का computer program या device हो सकता है। यह system को किसी स्थानीय क्षेत्रीय नेटवर्क (LAN – LOCAL AREA NETWORK) या इंटरनेट पर मौजूद विस्तृत क्षेत्र नेटवर्क (WAN- WIDE AREA NETWORK) पर data सूचना के आदान-प्रदान के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इस तरह से हम server को computer network का एक हिस्सा मान सकते हैं। जोकि network resources को manage कर सकने में सक्षम होता है। किसी भी data server में server program चलाने वाले physical computer को भी सर्वर के रूप में ही गिना जाता है।

Server एक कंप्यूटर की तरह ही होता है और दुनिया में बहुत सारे अलग-अलग क्षमताओं के server मौजूद है। आप किसी साधारण से दिखने वाले desktop computer or laptop पर भी server के प्रोग्राम install कर देते हैं। तो यह भी किसी एक server की तरह काम करता है। इस तरह के server को तकनीकी भाषा में non dedicated server भी कहते हैं। वहीं कुछ server को 24×7 चालू रखा जाता है, तब इस तरह के server को dedicated server कहते हैं। Dedicated server का इस्तेमाल ज्यादातर web server के रूप में किया जाता है। इंटरनेट पर हम जो कुछ भी सर्च करते हैं। या किसी भी वेबसाइट पर जाते हैं, ऐसी सारी सूचनाएं dedicated server पर काम करती है।

Server कैसे काम करता है?

मैं इसे एक उदाहरण के जरिए समझाना चाहता हूं। आप सब ने YouTube का इस्तेमाल वीडियो आदि देखने के लिए तो जरूर किया होगा। आप अपने मनपसंद video देखने के लिए YouTube search bar पर उस वीडियो के बारे में कुछ टाइप करते हैं।

आपके द्वारा टाइप किया गया, सूचना पहले सरवर में जाता है। वहां से data इकट्ठा करके आपके सामने उनसे संबंधित सूचनाएं अभी के संदर्भ में वीडियो की list दिखाता है।

इससे आपको जो वीडियो देखना है उसे संबंधित सारे वीडियो YouTube, search list में आ जाते हैं और इस तरह से आप अपनी पसंद का वीडियो देख पाते हैं।

आपको यह समझ में आ गया होगा कि server किस तरह से कार्य करता है। Server सूचनाओं की जानकारी, सूचनाओं का संग्रहण, को एक जगह से दूसरी जगह तक पहुंचाने का कार्य करती है। Internet पर हम जितने भी काम करते हैं, जैसे कि file downloading, internet browsing, sending mail, social networking site, इसके अलावा और भी बहुत सारे काम, इन सभी कार्यों में server हमें सूचनाओं के आदान-प्रदान में सहायता प्रदान करता है।

Server कितने प्रकार के होते हैं?- Types of server in Hindi

सरवर को उसके कार्य के हिसाब से विभिन्न प्रकारों में विभाजित किया गया है। जैसे कि ब्राउज़िंग के लिए एक अलग तरह का सर्वर का इस्तेमाल किया जाता है। वही mailing के लिए एक दूसरे तरह का सर्वर का इस्तेमाल होता है। सरवर के इस्तेमाल किए आधार पर इन्हें निम्नलिखित कैटेगरी में बांटा गया है।

  1. Web server
  2. Email server
  3. File server
  4. Application server
  5. Audio and video server
  6. Chat server
  7. Fax server
  8. FTP server
  9. Groupware server
  10. IRC server
  11. List server
  12. Mail server
  13. News server
  14. Proxy server
  15. Telnet server etc.

इन सारे सरवर का इस्तेमाल इंटरनेट पर अलग-अलग कार्य के लिए उनकी आवश्यकता अनुसार किया जाता है। एक उदाहरण ले लीजिए जैसे कि, :- social media site पर आप login करते हो, यहां पर एक अलग ही प्रकार के server का इस्तेमाल होता है। इस उदाहरण से आपको समझ में आई क्या होगा की विभिन्न प्रकार के server का इस्तेमाल अलग-अलग तरह से किया जाता है। हम नीचे कुछ विशेष प्रकार के server, के बारे में विस्तृत से जानकारी देने वाले हैं।

वेब सर्वर (web server)

Web server में इंटरनेट पर मौजूद जितनी भी जानकारी एवं सूचनाएं (data) मौजूद रहती है। यह सभी सूचनाएं एवं जानकारी एक तरह से web server से जुड़ी रहती है। कोई भी व्यक्ति इन सूचनाओं तक पहुंचने के लिए web browser का इस्तेमाल करता है। अगर आप संक्षेप में समझाएं तो Web services से सूचनाएं निकालने के लिए आप web browser जैसे कि Google Chrome, Firefox, Opera इत्यादि web browser application का इस्तेमाल करते हो। एक तरह से web browser , वेब सर्वर से connect होने के लिए tool मुहैया करवाती है। Browser और server के बीच का conversation करने के लिए HTTP (hypertext transfer protocol) का इस्तेमाल करती है। जिससे कि आसानी से सूचनाएं browser तक पहुंच पाती है।

जितनी भी संस्थाएं है, जैसे कि Facebook, other social media, institution, Bank etc. यह सभी का एक अपना server होता है। जहां पर से data सूचनाएं एवं जानकारी save, Store और transfer की जाती है।

ईमेल सर्वर (email server)

जैसा कि हमने ऊपर बताया है कि सर्वर का इस्तेमाल user की उपयोगिता के अनुरूप विभाजित किया गया है। Email server का नाम सुनते साथ ही आपके मन में इसके बारे में कुछ जानकारी तो जरूर आ गई होगी।

Email server, message भेजने और receive करने में सहायता करता है। उदाहरण के तौर पर आप अपना Gmail account को ही ले लीजिए। इसमें आप किसी को email भेज सकते हो, साथ ही में email प्राप्त करते हो। इसमें आपकी email से संबंधित सारी जानकारी data जमा रहती है। Email server का यही काम होता है। जब भी आप किसी व्यक्ति को email send करते हो तो SMTP PROTOCOL का इस्तेमाल करते हैं। जिसके माध्यम से वह दूसरे व्यक्ति के email account तक पहुंच जाता है।

फाइल सर्वर (file server)

File server इंटरनेट के माध्यम से document file transfer करने में सहायता प्रदान करता है। फाइल सर्वर किसी भी कंप्यूटर के सभी फाइल को जमा एवं manage करता है। साथ ही में user द्वारा किसी भी फाइल के भेजे हुए file request की एक copy, user तक उपलब्ध कराने में सहायता करता है।

एप्लीकेशन सर्वर (Application server)

Application server दो या दो से अधिक एप्लीकेशन को एक साथ जोड़ करके किसी भी user के बीच उपलब्ध कराता है।

दो या दो से अधिक अलग अलग application को एक साथ जोड़ करके middleware software का इस्तेमाल करके। यह user तक data उपलब्ध कराने में सक्षम होता है। इसके लिए यूजर web browser का form इस्तेमाल करना होता है। जो कि उसके web browser पर display होती है।

ऑडियो और वीडियो सरवर (audio and video server)

Audio and video server की मदद से कोई भी यूजर को multimedia platform में वह क्षमताएं प्राप्त होती है जिसकी मदद से वह audio and video को online broadcasting streaming कर सकता है।

इसके लिए आप social media का example ले सकते हैं।आजकल लोग अपने सोशल मीडिया पर live आते हैं। जोकि audio and video server के चलते हो पाना संभव हो सका है।

इसके अलावा भी audio and video server का इस्तेमाल TV broadcast industry मैं भी किया जाता है। Video surveillance, audio video surveillance and security, इत्यादि चीजों में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है।

Multimedia broadcasting and streaming एक ऐसी तकनीक है जिसके इस्तेमाल से यूजर data transporting करने में सक्षम होता है। ज्यादा बड़े बड़े multimedia को download कर पाना काफी मुश्किल भरा होता है। ऐसे में इन multimedia files के लिए online streaming एक बहुत ही अच्छा solution साबित होता है।

चैट सर्वर (Chat server)

Social media आने से पहले आप सभी ने जरूर chat website का इस्तेमाल तो जरूर किया होगा। इन्हीं में से एक chat application, गूगल की Google talk का तो आपने कभी इस्तेमाल किया होगा। यह भी chat server के ऊपर कार्य करती है।

Chat server की मदद से बहुत से यूजर कन्वर्सेशन कर पाते हैं। इसके साथ ही सूचनाएं एवं जानकारियों का आदान प्रदान कर सकने में सक्षम है। Chat server की मदद से आप chatting के अलावा, इसमें दूसरे अन्य features भी आजकल देखने को मिलते हैं, जैसे कि real time navigation, location, moving object इत्यादि।

फैक्स सर्वर (Fax server)

Fax server लोकल एरिया नेटवर्क (LAN -local area network) पर install रहता है। जो कि अन्य कंप्यूटर जो लोकल एरिया नेटवर्क से जुड़े होते हैं। उन्हें fax , send and receive करने में सहायता प्रदान करता है।

आजकल ज्यादातर Fax server का इस्तेमाल ऐसी बड़ी कंपनियां करती है। जिन्हें incoming and outgoing, telephone resources को कम करना होता है।

दूसरे तरीके से कभी-कभी Fax server को एक program के रूप में परिभाषित करता है, जिसकी मदद से message को send और receive किया जा सके। जोकि software का एक set होता है, जो server computer पर fax capable modem से जुड़ा होता है। जो कि टेलीफोन लाइन के माध्यम से software modem emulator T.38 से जुड़ कर के signal को IP network पर पहुंचाता है।

एफटीपी सर्वर (FTP server)

FTP server का फुल फॉर्म file transfer protocol होता है। यह कंप्यूटर में इस्तेमाल होने वाली एक ऐसी तकनीक है जो किसी भी user को फाइल transfer, move करने में सहायता प्रदान करता है।

FTP server किसी भी फाइल को एक जगह से दूसरी जगह transfer करने के लिए security, file safety, file control and file organised करने में सहायता प्रदान करता है।

प्रोक्सी सर्वर (Proxy server)

कंप्यूटर कंप्यूटर नेटवर्किंग में proxy server एक server application या appliance की तरह intermediary के रूप में client के request को server resource से data निकाल में सहायता प्रदान करता है।

Proxy server का इस्तेमाल requirement को filter करने के लिए, बेहतर appearance प्राप्त करने के लिए और connection को share out करने के लिए, इसके साथ ही proxy server किसी client program में exist करती है। जोकि web browser और external server में मौजूद रहता है।

Proxy server को भी विभिन्न प्रकारों में बांटा गया है।

  1. Open proxies
  2. Reverse proxies

ग्रुप वेयर सर्वर (Groupware server)

इस तरह के server को बनाने के पीछे मुख्य उद्देश्य यह था कि एक साथ कई user, jointly काम कर सके। फिर चाहे वह किसी भी जगह हो, इसके लिए internet या mutual internet का इस्तेमाल किया जाता है। Groupware server को collaborative software के नाम से भी जाना जाता है।

Groupware server का इस्तेमाल निम्नलिखित चीजों के लिए किया जाता है:-

  1. Communication :- जैसे कि एक साथ कई सारे लोग एक साथ जुड़कर phone call या IM chat कर सकते हैं।
  2. Conferencing: – इसके माध्यम से एक साथ मिलकर के किसी एक विशेष विषय पर कई सारे लोग जोड़ करके discussion कर सकने में सक्षम होते हैं।
  3. Co-ordination :- किसी भी कार्य को करने के लिए जहां एक से ज्यादा या अधिक लोगों की जरूरत होती है। वैसी स्थिति में co-ordination करके, उस कार्य को संपादित किया जा सकता है।

निष्कर्ष

दोस्तों मुझे यह उम्मीद है कि आपको आज के हमारे इस लेख से जरूर कुछ ना कुछ नया सीखने को मिला होगा।आज के हमारे इस लेख में हमने आप लोगों को यह बताने की कोशिश की है कि server क्या होता है?(what is server in Hindi) मैं यह आशा करता हूं कि आपको हमारी यह लेख जरूर पसंद आई होगी। अगर आपको हमारा यह लेख पसंद आया है तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें। इससे संबंधित अगर आपकी कुछ सवाल है तो आप हमें कमेंट करके पूछ सकते हैं।

Leave a Reply