Cloud storage क्या होती है? इसका इस्तेमाल कैसे किया जाता है?Cloud storage in hindi

0
127

अगर आप इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं तो कई बार आपने cloud storage के बारे में सुना होगा। लेकिन क्या आपको पता है? Cloud storage क्या होती है? इसका इस्तेमाल किस लिए किया जाता है। Cloud storage का इस्तेमाल आप किस लिए करते हैं? Cloud storage in hindi

आज के हमारे इस लेख में हम लोग इसके बारे में चर्चा करने वाले हैं। जहां तक data storage की बात करें तो पहले हमारे पास ऐसे ही कई विकल्प थे, जिनकी मदद से हम photo, images, files और ना जाने क्या-क्या चीजें। Floppy disk, CD and DVD इत्यादि चीजों पर save करके रखते थे।

समय बदलने के साथ-साथ हमारे data को जमा सुरक्षित रखने के लिए कई सारे नए नए उपकरण भी आते रहे। Floppy disk, CD DVD इत्यादि चीजों के बाद लोग अपने डाटा को सेव करने के लिए दूसरे विकल्प चीजें जिनमें शामिल है, flash drive या pen drive का इस्तेमाल करना शुरू किया। यही तक नहीं लोगों ने अपने computer पर मौजूद data डाटा को सुरक्षित रखने के लिए external hard drive आदि चीजों का उपयोग करने लगे।

लेकिन जैसे-जैसे इंटरनेट की दुनिया बढ़ती जा रही है, वैसे वैसे लोगों के पास जरूरत के data जैसे कि video, song, images, document, etc. भी बढ़ते जा रहे हैं। ऐसे में अभी तक मौजूद data, save करने की परंपरागत विधियां कम पड़ती जा रही है।

ऐसे में cloud storage एक नई तकनीक है। जिससे कि आप अपने data को इंटरनेट पर सुरक्षित रख सकते हैं। यह एक ऐसी service है, जिसका इस्तेमाल करके आप अपनी data को remotely maintain, manage और उसका backup बना सकते हैं।

Cloud storage की मदद से कोई भी व्यक्ति अपनी फाइल data को एक तरह से online store करके रख सकता है। जिसकी मदद से वह दुनिया की किसी भी कोने से अपने data को access कर सकता है। वही आंकड़ों की बात करें तो पिछले कुछ दशकों में cloud storage का इस्तेमाल करने वाले लोगों की संख्या दुगनी से बढ़ती जा रही है। Cloud storage का इस्तेमाल अब बड़ी-बड़ी कंपनियां से लेकर के कई देश की सरकारें भी करने लगी है। तो बिना देर किए चलिए जानते हैं की cloud storage आखिर क्या होता है?

Cloud storage क्या है? – (What is cloud storage in Hindi)

अगर साधारण भाषा में बात किया जाए, तो cloud storage एक ऐसी सेवा है । जिसकी मदद से आप अपना डाटा (तस्वीर खोया डॉक्यूमेंट) अपनी डिवाइस पर रखने के बजाय आप किसी जगह server पर Store करके रखते हैं।

जिससे कि आप इन documents को कहीं से भी ऑनलाइन एक्सेस कर पाते हैं। इसके लिए हम एक साधारण सा उदाहरण देते हैं। क्योंकि इसका इस्तेमाल आप सब लोगों में से बहुत सारे लोगों ने किया होगा। Google pixel lab, का इस्तेमाल आपने अपनी जिंदगी में अपने स्मार्टफोन पर एक ना एक बार तो जरूर किया होगा। यह इस तरीके से आपके द्वारा smartphone पर् save किए गए फोटो को एक cloud storage मुहैया करवाता है। जिससे कि आप सब अपने फोटो को वहां अपलोड करके किसी भी smartphone, computer इत्यादि चीजों से एक्सेस कर सकते हैं।

Cloud storage का एक और बेहतरीन उदाहरण है, Google drive जैसे कि या नाम से ही स्पष्ट है कि गूगल का यह एक cloud storage सेवा है। गूगल के एंड्रॉयड फोन में या पहले से ही इंटीग्रेटेड होता है। गूगल ड्राइव में आप अपने जीमेल की आईडी और पासवर्ड से लॉगिन कर सकते हैं। यहां पर आप विभिन्न प्रकार के डॉक्यूमेंट, फोटो, इमेजेस, एंड्राइड ऐप, पीडीएफ फाइल, एक्सेल फाइल इत्यादि डाक्यूमेंट्स को अपलोड करके रख सकते हैं। जब आपको इनकी जरूरत हो आप सीधे desktop computer पर लॉगिन करके इन्हें access कर पाते हैं। सबसे दिलचस्प और मजेदार बात यह है कि कोई भी फाइल एवं डॉक्यूमेंट जिसको आप cloud storage पर स्टोर करते हैं। उसे दुनिया भर में किसी भी कोने से आप access कर पाते हैं।

क्लाउड स्टोरेज का इतिहास -History of cloud storage

Cloud storage की शुरुआत साल 1960 में युसूफ कारल रॉबनेट द्वारा शुरू किया गया था। उन्होंने अपने ARPANET के कार्य के दौरान इसे विकसित किया था। इसके पीछे उनका यह मकसद था कि लोग कहीं से भी किसी भी वक्त अपना data हासिल कर सके। इसके लिए उन्होंने 20 से ज्यादा कंप्यूटर को आपस में जुड़ा था। इसी व्यवस्था का उपयोग करते हुए cloud storage की शुरुआत हुई थी।

पहला cloud storage platform की शुरुआत व्यवसायिक रूप से साल 1994 में AT&T द्वारा शुरू किया गया था जिसे पर्सनल लिंक सर्वर (personal linked server) का नाम दिया गया।

इंटरनेट पर व्यवसायिक तौर पर cloud storage की शुरुआत Amazon द्वारा Web services के लिए क्लाउड स्टोरेज सर्विसेज AWS S-3 के नाम से साल 2006 में शुरू किया गया था। इसके साथ ही इनके साथ मिलकर के अन्य कंपनियां जिन्होंने AWS S-3 के साथ मिलकर के क्लाउड स्टोरेज की सुविधा प्रदान की ऐसे कंपनियों में Dropbox, Pinterest smugmug आदि कंपनियां प्रमुख थी।

आज की तकनीक – Latest technology used for cloud storage

Cloud storage की आधुनिक तकनीकी में अब काफी विकास किया जा चुका है। पहले चाहा data, computer आधारित पर निर्भर था। अब इसमें काफी विकास होने के बाद इसे अब digital data pool मैं संग्रहित किया जाता है। भौतिक वातावरण आमतौर पर एक hosting company द्वारा manage और संचालित किया जाता है। Cloud storage मोहिया करवाने वाली कंपनियां data को उपलब्ध कराने एवं उसकी सुरक्षा के लिए संपूर्ण रूप से जिम्मेदार रहते हैं। बड़ी बड़ी संस्था, बड़ी बड़ी कंपनी, यहां तक कई देशों की सरकार भी, cloud storage का इस्तेमाल डाटा संग्रहण एवं सुरक्षित रखने के लिए करती है। इस कार्य हेतु यह संस्थाएं cloud storage बेचने वाली कंपनी से data space खरीदती है। या फिर इसे lease पर लेती है।

क्लाउड स्टोरेज के प्रकार – Types of cloud storage

हमने ऊपर cloud storage क्या होता है? इसके बारे में जानकारी दी है। अभी तक आपको यह समझ में आ गया होगा कि cloud storage क्या होता है? Cloud storage को विभिन्न प्रकार उनके इस्तेमाल के अनुसार category में बांटा गया है। यह category निम्नलिखित है :-

  1. Personal cloud storage
  2. Public cloud storage
  3. Private cloud storage
  4. Hybrid cloud storage

Cloud storage को इन चार भागों में बांटा गया है इसकी उपयोगिता एवं जरूरत के अनुसार इन्हें इन category में बांटा जाता है।

Personal cloud storage :-

ज्यादातर लोग इसे mobile cloud storage के नाम से जानते हैं। यह public cloud storage का एक हिस्सा है। जिसमें व्यक्तिगत डेटा को क्लाउड स्टोरेज में सुरक्षित किया जाता है। इसका इस्तेमाल व्यक्तिगत तौर पर किया जाता है। इसमें उपभोक्ता को data syncing की सुविधा भी प्रदान की जाती है जिससे कि उपभोक्ता किसी भी उपकरण का उपयोग करते हुए, अपने डाटा को access कर सके।

उदाहरण के तौर पर Google drive and Apple’s icloud.

Public cloud storage :-

इस क्लाउड स्टोरेज का इस्तेमाल साधारण तौर पर व्यक्तिगत तौर पर नहीं किया जाता है। जिस तरह से personal cloud storage का इस्तेमाल आप व्यक्तिगत तौर पर कर सकते हैं। लेकिन, public cloud storage का इस्तेमाल ज्यादातर enterprises, company आदि ज्यादा इस्तेमाल करते हैं। यहां पर सुरक्षित रखे गए डाटा का सुरक्षा का जिम्मा enterprises के ऊपर नहीं होता है। बल्कि, cloud storage मुहैया करवाने वाली कंपनी इसका सारा जिम्मा उठाती है।

Private cloud storage :-

यह एक ऐसा क्लाउड स्टोरेज है जहां पर enterprises और cloud storage provider दोनों मिलकर के cloud storage में जमा data के लिए जिम्मेदार होते हैं। यानी कि इस तरह के क्लाउड स्टोरेज की जिम्मेवारी दोनों ही के ऊपर होती है। और इस चलते इसकी देखरेख का जिम्मा दोनों पर ही होता है।

Hybrid cloud storage :-

यह क्लाउड स्टोरेज personal cloud storage और private cloud storage का combination होता है। इस तरह के cloud storage का उपयोग ज्यादातर बैंकिंग संबंधी क्षेत्रों में देखने मिलता है। इस तरह के क्लाउड स्टोरेज में कुछ डाटा अति संवेदनशील होने के चलते private cloud storage में सुरक्षित रखा जाता है। वहीं कुछ data को public cloud storage में रखा जाता है। ताकि आसानी से उसे access किया जा सके।

निष्कर्ष

दोस्तों आज के हमारे इस लेख में हमने आप लोगों को यह बताने की कोशिश की है कि cloud storage क्या होता है? What is cloud storage in Hindi? इसका इस्तेमाल किस लिए किया जाता है? आशा करता हूं कि आपको हमारे आज के लेख से जरूर कुछ ना कुछ सीखने को मिला होगा। अगर आपको हमारी यह जानकारी पसंद आई है तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें। इससे संबंधित अगर आपकी कुछ सवाल है तो आप हमें कमेंट करके पूछ सकते हैं।

IRCTC Android App से online ticket booking कैसे करें?

What is computer in Hindi – कंप्यूटर क्या है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here