जो बिडेन की जीवनी – Biography of Joe Biden in Hindi

0
887
Joe Biden biography in Hindi

जो बाइडेन (Joe Biden) एक जाने-माने अमेरिकी राजनेता है। जो संयुक्त राष्ट्र अमेरिका में साल 2009 से साल 2017 तक उपराष्ट्रपति के पद पर उन्होंने कार्य किया है। वह 47वें उपराष्ट्रपति है और बराक ओबामा के साथ दो बार साथ में चुनाव लड़ भी चुके हैं। आज हम अपने इस लेख में जो बाइडेन के जीवन के बारे में जानेंगे। Biography of Joe Biden in Hindi

उन्होंने साल 1972 में सीनेटर का पदभार संभाला। सबसे कम उम्र में सीनेट चुनाव जीतने वाले व्यक्ति के रूप में भी यह जाने जाते हैं। साल 2020 में यह अमेरिका के डेमोक्रेटिक राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार है और ट्रंप के ऑपोजिट चुनाव में खड़े हुए हैं।

जो बिडेन की जीवनी – Joe Biden biography in Hindi

अमेरिका के इस महान राजनीतिक का जन्म पेंसिलवेनिया में हुआ था। इनका जन्म 20 नवंबर 1942 को हुआ है। इनके पिता जोसेफ बाइडेन भाटियों की सफाई के काम के अलावा पुरानी कारों के विक्रेता थे। इनकी माता कैथरीन यूजेनिया एक साधारण गृहणी थी। यह अपने सभी भाई बहनों में सबसे बड़े थे। इनके एक बहन और दो भाई है।

जो बिडेन का संक्षिप्त जीवन परिचय – Joe Biden Introduction

पूरा नामजोसेफ रॉबीनेट बाइडेन
जन्म तिथि20 नवंबर 1942
पिताजोसेफ बाइडेन
माता का नामकैथरीन यूजेनिया
पत्नीजिल बाइडेन
वर्तमान आयु77 वर्ष
जन्म स्थानपेंसिलवेनिया, स्कैंटन, यूनाइटेड स्टेट
राष्ट्रीयताअमेरिकन
राशिवृश्चिक
गृह नगरस्कैंटन, यूनाइटेड स्टेट
स्कूलसेंट पॉल एलिमेंट्री स्कूल, आरकमेरे
स्कूल एवं कॉलेजयूनिवर्सिटी आफ डेलावेयर, सिरकाश यूनिवर्सिटी
शैक्षणिक योग्यताबीए जूरिस डॉक्टर
पैशाराजनेता, लॉयर (वकील)
राजनीतिक पार्टीडोमेस्टिक पार्टी यूनाइटेड स्टेट
भाई बहनएक बहन दो भाई है
बच्चेतीन बच्चे हैं
उपराष्ट्रपति47 वें उपराष्ट्रपति 2009 से साल 2017 तक
नेटवर्क9 मिलियन डॉलर की कुल संपत्ति

जो बिडेन की शिक्षा – Education of Joe Biden

बता दें कि उन्होंने अपने शुरुआती शिक्षा अपने ग्रह नगर स्कैंटन, यूनाइटेड स्टेट के सेंट पॉल एलिमेंट्री स्कूल से पूरी की और बाद में साल 1955 में जब वह 13 वर्ष के थे तब उनका सारा परिवार मेफिल्ड डेलावेयर चला गया।उन्होंने वहां पर फिर सेंट हेलेंस स्कूल से अपनी पढ़ाई जारी रखी लेकिन उनका सपना डेलावेयर के प्रसिद्ध विश्वविद्यालय आरकमेरे मैं दाखिला लेना था। जो कि बाद में उन्होंने ले लिया।क्या अपनी पढ़ाई का खर्च उठाने के लिए स्कूल की खिड़कियां होने के साथ-साथ बगीचे में भी काम करते थे। इस विश्वविद्यालय में जो बाइडेन एक होनहार छात्र के रूप में जाने जाते थे। उन्होंने यहां फुटबॉल, जैसे खेलों में भी बढ़-चढ़कर के हिस्सा लिया है।इस विश्वविद्यालय में उन्होंने इतिहास पॉलिटिकल साइंस की पढ़ाई के साथ-साथ फुटबॉल भी खूब खेला है। बाद में उन्हें राजनीतिक में काफी रूचि लगने लगी।इसके बाद उन्होंने बीए की पढ़ाई करने के बाद जूरिस डॉक्टर की डिग्री ली।

जो बाइडेन ने साल 1968 में अपनी लॉ की पढ़ाई पूरी की थी और उसके बाद उसे डेलावेयर में चले गए थे। जहां पर वह ला फॉर्म में प्रैक्टिस करने लगे। इसी दौरान वार्ड डोमेस्टिक पार्टी के सक्रिय सदस्य भी बन चुके थे। बाद में साल 1970 में उनको न्यूकासल काउंटी काउंसिल के लिए चुना गया था और उन्होंने उस पर कार्य करते हुए भी अपनी खुद की एक ला फॉर्म की शुरुआत की, बाद में साल 1972 में विश्व सीनेट का चुनाव जीते और लगातार छह बार सीनेटर चुने जाते रहे।

साल 1988 से साल 2008 तक वह डोमेस्टिक राष्ट्रीय पार्टी राष्ट्रपति बनने की दावेदारी भी जीते रहे थे। लेकिन दोनों ही बार वे असफल रहे।लेकिन साल 2008 में जब बराक ओबामा के आगे हार गए तब बाद में उन्होंने अमेरिका के उपराष्ट्रपति पद पर आसीन या गया था।

जो बिडेन का राजनीतिक जीवन – Political career of Joe Biden

जो बाइडेन नए साल 1968 में अपनी वकालत की पढ़ाई पूरी की थी और उसके बाद वे डेलावेयर चले गए थे। जहां से उन्होंने अपने वकालत की प्रैक्टिस करने के लिए अपना एक ला फार्म खुला और वही प्रैक्टिस करने लगे थे। इसी दौरान उन्होंने डेमोक्रेटिक पार्टी में सक्रिय सदस्य के रूप में सदस्यता ले ली। साल 1970 में उनको न्यूकासल काउंटी काउंसिल के लिए चुना गया था। बाद में फिर से साल 1972 में सीनेट का चुनाव जीते और लगातार छह बार सीनेटर चुने जाते रहे।

इसके बाद साल 1988 से साल 2008 तक डेमोक्रेटिक पार्टी से राष्ट्रपति पद के चुनाव की दावेदारी उन्होंने जीती थी। लेकिन दोनों ही वे असफल रहे। साल 2008 में जब बराक ओबामा के आगे जो बाइडेन हार गए तब बाद में उन्हें अमेरिका के उपराष्ट्रपति के पद से सम्मानित किया गया था। इस तरह जो बाइडेन 47 वें उपराष्ट्रपति बने थे।

साल 2020 में हो रहे राष्ट्रपति चुनाव में जो बाइडेन डॉनल्ड ट्रंप के विपरीत खड़े हुए हैं। अभी तक के आंकड़े यह बताते हैं कि जो बाइडेन , डॉनल्ड ट्रंप से वोटों की संख्या में आगे चल रहे हैं। हो सकता है, आने वाले समय में बाइडेन अमेरिका के राष्ट्रपति बन जाए।

जो बिडेन से जुड़ी कुछ रोचक तथ्य – Interesting facts about Joe Biden

  • जो बाइडेन को बचपन से ही हकलाने की आदत थी। इस चलते उन्हें स्कूल में उनके साथही बच्चे उनका मजाक उड़ाया करते थे।
  • जो बाइडेन ने साल 1972 में सीनेट का चुनाव सबसे कम उम्र में जीता था।
  • यह हर रोज अपने बेटों से मिलने विलिंगटन और वाशिंगटन के बीच जिस ट्रेन से सफर किया करते थे उसका नाम एमट्रेक था और उसी की वजह से या इस नाम से प्रसिद्ध हो गए थे।
  • साल 2015 में उनके बड़े बेटे ब्यू की मौत हो गई थी, उसे ब्रेन कैंसर था।
  • साल 2020 से पहले Joe Biden दो बार राष्ट्रपति चुनाव में उतरे हैं। दोनों ही बाहर वे चुनाव हार गए।
  • इन्होंने अपने जीवन में दो बार शादियां की है।

जो बिडेन से जुड़े कुछ विवाद

  • इसी साल यानी कि मार्च 2020 में तारा रेडे ने बाइडेन पर यह इल्जाम लगाया था कि उन्होंने साल 1993 में उनका रेप किया था और यह घटना उस समय घटी थी जब वह महिला उनके सीनेट ऑफिस में काम किया करती थी।
  • इसके अलावा उन पर नील कीनोक के भाषण चुराने का आरोप भी है बता दे कि नील एक ब्रिटिश लेबर पार्टी से जुड़े हुए सदस्य है।
  • बिडेन नहीं यह बात स्वीकारी थी कि उन्होंने अपने लॉ की पढ़ाई के दौरान प्रथम वर्ष में एक लेख चोरी किया था।

जो बिडेन का निजी जीवन – Personal Life of Joe Biden

जो बाइडेन ने अपने निजी जिंदगी में दो बार शादी की है। इनकी पहली पत्नी साल 1972 में क्रिसमस के एक हफ्ते पहले जब बाजार से क्रिसमस ट्री खरीदने निकली थी उनके साथ में उनके 3 बच्चे भी थे। उनका कार दुर्घटनाग्रस्त हो गया, जिसमें उनकी पत्नी और उनकी बेटी मारी गई थी। उनके दो बेटे ब्यू और हंटर गंभीर रूप से घायल हो गए थे। इस दौरान बाइडेन को काफी मानसिक आघात पहुंचा था।
फिर भी, अपने परिवार के प्रोत्साहन पर बिडेन ने सीनेट में डेलावेयर के लोगों का प्रतिनिधित्व करने के लिए अपनी प्रतिबद्धता का सम्मान करने का फैसला किया। और उन्होंने सीनेट की शपथ ली।उन्होंने वाशिंगटन में नए सीनेटर के लिए शपथ ग्रहण समारोह को समाप्त करने के बाद इसके बजाय अपने बेटों को अस्पताल के कमरे से पद की शपथ ली। अपने बेटों के साथ अधिक से अधिक समय बिताने के लिए, बिडेन वेलिंगटन, वाशिंगटन के बीच में ट्रेन से सफर करने लगे। माई 30, साल 2015 में उनके बेटे ब्यू (Beau) की मौत हो गई। उन्हें ब्रेन कैंसर था।

साल 2020 में वह पुनः राष्ट्रपति चुनाव में खड़े हैं। और इस बार वे राष्ट्रपति चुनाव जीतने की ओर आगे बढ़ रहे हैं। उन्होंने 11 अगस्त 2020 को यह घोषणा की कि एक महिला जो कि भारतीय मूल की है कमला हैरिस (Kamala Harris) उनके लिए उपराष्ट्रपति पद के लिए नामांकित की गई है। यह भारत जैसे देश के लिए सम्मान की बात है।

Leave a Reply