List of Most Famous Indian Scientist – भारत के प्रसिद्ध वैज्ञानिक

भारत में से कई महान वैज्ञानिक पैदा हुए हैं, जिन्होंने पूरी दुनिया पर अपने अविष्कारों के चलते काफी चर्चा पाई है। वैज्ञानिक विश्व सुपर हीरो है जो मानव ज्ञान की सीमाओं को एक नए स्तर पर ले जाते हैं। जब भारतीय वैज्ञानिकों की बात आती है, तो हमारे मन में ऐसे कई सारे वैज्ञानिकों के नाम आते हैं, जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी एक अलग ही पहचान बनाई है। आइए एक नजर डालते हैं कि यह विज्ञानिक कौन है और उन्होंने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपने वैज्ञानिक शोध कार्यों के चलते काफी नाम कमाया है। List of Most Famous Indian Scientist – भारत के प्रसिद्ध वैज्ञानिक

आज के हमारे इस लेख में हमने भारत के उन वैज्ञानिकों को शामिल किया है जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी एक अलग ही पहचान बनाई है। हमारे इस लिस्ट में निम्नलिखित वैज्ञानिकों को हमने शामिल किया है

  • सत्येंद्र नाथ बोस
  • होमी जहांगीर भाभा
  • सीवी रमन

वैज्ञानिक वेज सुपर हीरो है जो मानव ज्ञान की सीमाओं को एक नए स्तर पर ले जाते हैं। भारतीय वैज्ञानिकों ने भारत में ही नहीं बल्कि पूरे दुनिया में अपने विज्ञान की खोज से सबको अचंभित और मानव कल्याण के लिए काम किया है।

List of Most Famous Indian Scientist – भारत के प्रसिद्ध वैज्ञानिक

सत्येंद्र नाथ बोस

महान विज्ञानिक सत्येंद्र नाथ बोस

सत्येंद्र नाथ बोस एक प्रसिद्ध सैद्धांतिक भौतिकी वैज्ञानिक है जो कोलकाता, पश्चिमी बंगाल के रहने वाले हैं। इनका जन्म 1 जनवरी 1894 को हुआ था। वह एक अशिक्षित विद्वान और बहुमुखी प्रतिभा के व्यक्ति है। उन्हें विज्ञान के अलावा भौतिकी, गणित, रसायन शास्त्र विज्ञान, जीव विज्ञान, खनिज विज्ञान, दर्शन कला साहित्य और संगीत मे भी काफी रूचि थी।

अग्नि बैचलर ऑफ साइंस की डिग्री लेने के बाद वे अपने शोध कार्य में कई सारे काम लगातार करते रहे। उन्होंने अनुप्रयुक्त गणित का अध्ययन करना भी जारी रखा। साल 1913 में अपनी कक्षा के टॉप विद्यार्थियों में से एक रहे। उन्होंने अनुप्रयुक्त गणित में मास्टर ऑफ साइंस की अपनी पढ़ाई पूरी की। उन्होंने मास्टर ऑफ साइंस के अंतिम साल में जो अंक प्राप्त किए हैं वह अभी भी एक रिकॉर्ड है जिसे कोलकाता विश्वविद्यालय में तोड़ा जाना बाकी है।

सत्येंद्र नाथ बोस ने साल 1918 से सैद्धांतिक भौतिकी और शुद्ध गणित पर कई सारे शोध पत्र प्रस्तुत किए। हालांकि एक विशेष पेपर प्लैंक क्वांटम रेडिएशन ला प्राप्त करने पर केंद्रित था, जिसमें उन्होंने समाधान की गणना करने के लिए एक नया तरीका इस्तेमाल किया था।

जब उन्होंने पहली बार पेपर प्रकाशित करने का प्रयास किया तो इसे अस्वीकार कर दिया गया था। इन सब के बावजूद सत्येंद्र नाथ बोस ने कभी हार नहीं मानी और अपने शोध पत्र के साथ वे अल्बर्ट आइंस्टाइन के अलावा किसी और को नहीं भेजा। अल्बर्ट आइंस्टाइन को उनका शोध पत्र प्राप्त हुआ आइंस्टाइन ने तुरंत इस लेख के महत्व को समझा और यह सुनिश्चित किया कि सत्येंद्र नाथ बोस का पत्र उनके जर्मन प्रकाशकों के बीच प्रकाशित हो।

मैडम क्यूरी, लुई डी ब्रोग्ली औरत अल्बर्ट आइंस्टाइन

इसने सत्येंद्र नाथ बोस को पूरे यूरोप में एक्स-रे और क्रिस्टलोग्राफी प्रयोगशाला में 2 साल तक काम करने में सक्षम बनाया। इस समय के दौरान वह मैडम क्यूरी, लुई डी ब्रोग्ली और खुद अल्बर्ट आइंस्टाइन के साथ काम करने का भी इन्हें मौका मिला।

होमी जहांगीर भाभा

होमी जहांगीर भाभा

होमी जहांगीर भाभा को आमतौर पर भारतीय परमाणु कार्यक्रम के जनक के रूप में जाना जाता है। डॉक्टर होमी जहांगीर भाभा का जन्म 30 अक्टूबर, 1909 को एक प्रतिष्ठित परिवार में हुआ था। वह प्रसिद्ध उद्योगपति दोराबजी टाटा से संबंधित थे जो उनके चाचा थे और टाटा समूह के विस्तार और विकास में मदद करने वाले एक महत्वपूर्ण व्यक्ति भी है।

दोराबाजी टाटा

डॉक्टर होमी जहांगीर भाभा ने अपनी आरंभिक शिक्षा मुंबई के कैथेड्रल एंड जॉन कॉनन स्कूल और फिर एलीफेंटइन कॉलेज से पूरी की है। उन्होंने मात्र 15 साल की उम्र में अपनी माध्यमिक परीक्षा कैंब्रिज से पूरी कर ली थी। उन्होंने अपनी माध्यमिक कैंब्रिज परीक्षा प्रतिष्ठा के साथ पूरी की और साल 1927 में मुंबई में रॉयल इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस में भर्ती हो गए।

खाना की उनके पिता और चाचा दोराबजी टाटा ने उन्हें कैंब्रिज विश्वविद्यालय, इंग्लैंड के कयास कॉलेज में मेडिकल इंजीनियरिंग करने के लिए मजबूर किया। ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि वह चाहते थे कि वह टाटा स्टील में मेटालर्जिस्ट के रूप में या जमशेदपुर में टाटा स्टील मिल्स में मेटालर्जिस्ट के रूप में उनके साथ काम करें।

उनके पिता गणित का अध्ययन करने के लिए होमी जहांगीर के पादरा को समझते थे और यदि होमी जहांगीर मैकेनिकल इंजीनियरिंग की परीक्षा में प्रथम श्रेणी अंक प्राप्त करने में सक्षम थे तो गणित में अपनी शिक्षा को वित्त पोषित करने के इच्छुक थे। कैंब्रिज विश्वविद्यालय में ट्रीपोस परीक्षा एक ऐसी परीक्षा है जो एक छात्र को स्नातक की डिग्री के लिए अहर्ता प्राप्त कर आती है। साथ ही इस समय के दौरान न्यूक्लियर फिजिक्स दुनिया भर के महानतम दिग्गजों को अपनी ओर आकर्षित कर रहा था।

पहले सही डॉक्टर होमी जहांगीर भाभा को भौतिकी में काफी रूचि थी। क्योंकि उन्हें उच्च मात्रा में विक्रम छोड़ने वाले कणों का अध्ययन करने का आजीवन जुनून था। ने गणित से परमाणु विज्ञान के क्षेत्र में स्विच करने के लिए प्रेरित किया गया था।

साल 1933 में उन्होंने, ‘द अब्जॉर्प्शन ऑफ कॉस्मिक रेडिएशन’ शीर्षक से एक पेपर प्रकाशित करने के बाद परमाणु भौतिकी में डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की। उस प्रकाशन के बाद, उन्होंने कैंब्रिज विश्वविद्यालय में शोध पर काम करने और नील्स बोर के साथ सहयोग करने के बीच अपना समय विभाजित किया। जिन्होंने क्वांटम सिद्धांत और परमाणु संरचना में मूलभूत योगदान दिया है। अल्बर्ट आइंस्टीन के सापेक्षता के सिद्धांत के प्रायोगिक सत्यापन में भाभा होमी जहांगीर का अत्यधिक महत्वपूर्ण योगदान रहा है।

सितंबर 1939 में, होमी जहांगीर कुछ समय के लिए भारत चले आए, जब दूसरे विश्व युद्ध की शुरुआत हो रही थी। इसी दौरान उन्होंने इंग्लैंड वापस नहीं लौटने का फैसला किया। उन्होंने भारतीय विज्ञान संस्थान के भौतिकी विभाग में एक पाठक के रूप में एक भूमिका निभाई, जिसके प्रमुख उस समय प्रसिद्ध सीवी रमन थे।

उन्होंने सर धोरबा टाटा ट्रस्ट से एक व्यक्तिगत शोध अनुदान प्राप्त हुआ, जिसका इस्तेमाल उन्होंने संस्थान में कॉस्मिक रे रिसर्च यूनिट की स्थापना के लिए किया। बाद में 20 मार्च, 1941 को होमी जहांगीर को रॉयल सोसायटी लंदन का फेलो चुना गया। जेआरडी टाटा की मदद से, मैंने मुंबई में टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च किया स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उनकी मृत्यु के बाद 3 जनवरी 1954 को स्थापित परमाणु अनुसंधान केंद्र का नाम उनके सम्मान में भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र रखा गया।

सीवी रमन

सर चंद्रशेखर वेंकटरमन

सर चंद्रशेखर वेंकटरमन का जन्म 7 नवंबर 1888 को भारत के मद्रास प्रांत में हुआ था, जिसे वर्तमान समय में तमिलनाडु के नाम से जाना जाता है। उनकी पिता विशाखापट्टनम के एक कॉलेज में गणित और भौतिकी के व्याख्याता थे।

उन्होंने 13 साल की उम्र में हायर सेकेंडरी स्कूल पास की बाद में उन्होंने मद्रास विश्वविद्यालय में कला स्नातक की उपाधि प्राप्त की, जहां भी अपने क्लास में सबसे ऊपर थे, और उन्होंने भौतिकी में स्वर्ण पदक भी जीता था। साल 1960 में उन्होंने मद्रास विश्वविद्यालय में उच्चतम अंक प्राप्त करके मास्टर ऑफ साइंस की डिग्री हासिल की। इसके बाद वह प्रशासनिक सेवाओं के लिए सरकार में शामिल हो गए थे।

वर्ष 1917 में, सर चंद्रशेखर वेंकटरमन ने सरकारी पद से इस्तीफा दे दिया और कोलकाता विश्वविद्यालय में भौतिकी के प्रोफेसर होने का काम संभाला। साथ ही, वह इंडियन एसोसिएशन फॉर द कल्चर ऑफ साइंस से जुड़ गए और शोध कार्यों में लग गए। उन्होंने इंडियन जर्नल आफ फिजिक्स की स्थापना की और इसके पहले संस्थापक थे।

वर्ष 1930 के नोबेल पुरस्कार वितरण में सीवी रमन

वर्ष 1928 में, सी वी रमन ने अपने अनुभव के आधार पर पता लगाया कि जब प्रकाश किसी पदार्थ से होकर गुजरता है तो एक वर्णय प्रकाश का प्रकीर्णन होता है। इस प्रकाश में आवृत्ति के अतिरिक्त आवृत्ति अभी होती है। इससे रमन इफेक्ट या रमन प्रभाव के नाम से भी जाना जाता है। उन्होंने वर्ष 1930 में रमन प्रभाव के लिए भौतिकी में नोबेल पुरस्कार भी सम्मानित किया गया था।

हालांकि उनके नोबेल पुरस्कार पर सवाल उठाया गया था, क्योंकि रूसी वैज्ञानिक लैडसबर्ग और मंडेलस्टम मैं क्रिस्टल में सामान प्रभाव साबित किया था। परिणाम स्वरूप पुरस्कार को उनके और सर सी वी रमन के बीच साझा करना पड़ा। इससे बहुत कि समुदाय में एक महत्वपूर्ण विवाद पैदा हो गया। हालांकि, भौतिकी नोबेल समिति द्वारा निम्नलिखित कारणों से अपील को अस्वीकार कर दिया गया था जैसे कि भौतिकी नोबेल समिति ने कहा था :-

  • रूसी वैज्ञानिकों ने अपनी खोज की स्वतंत्र व्याख्या नहीं की, क्योंकि उन्होंने रमन के लेख का हवाला दिया।
  • उन्होंने केवल क्रिस्टल में प्रभाव देखा जबकि रमन और केएस कृष्णन जो कि उनके सहायक शोधकर्ता थे ने इस प्रभाव को ठोस, तरल और गैसों में देखा। डाटा की उस व्यापक श्रेणी के साथ, उन्होंने प्रभाव की सार्वभौमिक प्रकृति को साबित किया।
  • पिछले वर्षों के दौरान रमन और इंफ्रारेड लाइनों की तीव्रता की व्याख्या से संबंधित अनिश्चितता को पिछले वर्ष के दौरान समझाया जा सकता है।
  • आणविक भौतिकी के विभिन्न क्षेत्रों में रमन पद्धति को बड़ी सफलता के साथ लागू किया गया है।
  • रमन प्रभाव ने अणुओं के समरूपता गुणों की वास्तविक समस्याओं की जांच करने में प्रभावी रूप से मदद की है, इसलिए परमाणु भौतिकी में परमाणु स्पिन से संबंधित मुद्दे। नोबेल समिति ने वर्ष 1930 के नोबेल पुरस्कार के लिए रमन का नाम स्वीडस नेशनल एकेडमी ऑफ साइंस, मैं प्रस्तावित किया है।

सर सी वी रमन का काम संगीत वाद्य यंत्रों के ध्वनि तक भी विस्तार हुआ। तबला या मृद गम जैसे भारतीय ड्रम के हारमोनिक्स का विश्लेषण करने वाले पहले व्यक्ति थे। ऐसी कई और प्रख्यात भारतीय विज्ञानिक वह है जो मूल विज्ञानिक विचार और अनुसंधान के लिए भारत को सबसे आगे रखने की बात करते हैं, जो देश का गौरव और आनंद बना रहता है। ऐसी महान वैज्ञानिकों की सूची में श्रीनिवास रामानुजन, आर्यभट्ट, डॉ एपीजे अब्दुल कलाम और भी कई सारे वैज्ञानिक शामिल है।