What is Digilocker? डीजीलॉकर क्या है?

आपने कभी ना कभी डीजीलॉकर (Digilocker) के बारे में तो जरूर सुना होगा। आज हम अपने इस लेख में इस बारे में ही चर्चा करने वाले हैं कि आखिर, What is Digilocker? डीजीलॉकर क्या है? इसके फायदे क्या क्या है? हमें डीजी लॉकर का इस्तेमाल क्यों करना चाहिए?

हर जगह अपने साथ में दस्तावेज जैसे कि ड्राइविंग लाइसेंस, आधार कार्ड, पैन कार्ड आदि दस्तावेजों को लेकर के घूमना काफी मुश्किल भरा होता है। इसमें कई बार हमारे दस्तावेज को भी जाते हैं। अगर जरूरी दस्तावेज खो जाए तो हमें बहुत ही परेशानियों का सामना भी करना पड़ता है। ऐसे में आप डीजीलॉकर (Digilocker) की सुविधा का उपयोग करना चाहिए और आप अपने डीजी लॉकर को ऑनलाइन डिजिटल तरीके से सिक्योर भी कर सकते हैं। इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि आप हर जगह अपने डाक्यूमेंट्स फिजिकल रूप में ले करके आपको जाने की आवश्यकता भी नहीं होती है।

आज के हमारे इस लेख में हम इस बारे में बात करेंगे कि What is Digilocker? डीजीलॉकर क्या है? इसके क्या क्या फायदे हैं? और इसका इस्तेमाल आपको क्यों करना चाहिए?

What is Digilocker? डीजीलॉकर क्या है?

डिजिटल लॉकर या Digilocker या डिजिलॉकर एक वर्चुअल डिजिटल लॉकर है। इसमें आप अपने सभी जरूरी दस्तावेज जैसे कि पैन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, वोटर आईडी कार्ड, यहां तक कि आप अपनी 10वीं, 12वीं और स्नातक की डिग्री सर्टिफिकेट को भी यहां पर सुरक्षित रख सकते हैं।

डीजी लॉकर पर अकाउंट बनाना बहुत ही आसान होता है बस इसके लिए आपके पास में आपका आधार कार्ड होना जरूरी है। आप अपना आधार कार्ड नंबर एवं आप के आधार कार्ड से जुड़ा हुआ फोन नंबर आपके पास होना चाहिए। जब आप इसमें अकाउंट बनाते हैं तो एक वेरिफिकेशन OTP आपके मोबाइल पर आता है और आपको बस ओटीपी डालना है और आपका अकाउंट बन जाएगा।

डीजी लॉकर की सहायता से आप कई तरह के सरकारी प्रमाण पत्र आदि भी सुरक्षित करके इसमें निश्चित तौर पर रख सकते हैं। डीजी लॉकर ऐप को आप आसानी से एंड्रॉयड के गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करके अपने फोन में इंस्टॉल कर सकते हैं।

How to Upload Document in Digilocker? – डीजी लॉकर में अपने दस्तावेज कैसे अपलोड करें?

डिजी लॉकर में दस्तावेज अपलोड करना बहुत ही आसान होता है। आप सरकारी दस्तावेजों जैसे कि पैन कार्ड, आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस इत्यादि दस्तावेजों बड़ी आसानी से अपलोड कर सकते हैं। यदि आपका आधार कार्ड इन सारी चीजों से जुड़ा हुआ है तो। लेकिन फिर भी हम आपको नीचे स्टेप बाय स्टेप तरीका बता रहे हैं जिसकी सहायता से आप अपने डिजिलॉकर अकाउंट में आसानी से दस्तावेजों को अपलोड कर सकने में सक्षम होंगे।

  • सबसे पहले आप अपने डिजिलॉकर अकाउंट में लॉगिन हो जाइए। यहां पर आपको पर्सनल अकाउंट में दोस्त सेक्शन मिलेंगे।
  • यहां पर आपको पहला ऑप्शन अपनी सरकारी एजेंसी द्वारा issue किए गए सर्टिफिकेट, उनके URL Link, उनके जारी होने की तारीख और इन्हें आप शेयर करने का ऑप्शन भी देख पाएंगे।
  • दूसरे विकल्प में आपको जो सर्टिफिकेट आपने अपलोड किया है उनकी डिटेल और शेयर के साथ साइन इन करने का विकल्प भी मिलेगा।
  • अगर आपको कोई सर्टिफिकेट अपलोड करना है तो आप माय सर्टिफिकेट पर क्लिक कर ले।
  • इसके बाद आपको अपलोड डॉक्यूमेंट पर क्लिक करना है और आप अपना सर्टिफिकेट चुने और इसे आप यहां पर अपलोड कर सकते हैं।
  • अब आप यहां मांगी गई सारी जानकारी भर सकते हैं इस तरह से आप अपने सारे डॉक्यूमेंट डिजिटल लॉकर में अपलोड कर सकते हैं।

How to create Account in Digilocker – डीजी लॉकर में अकाउंट कैसे बनाएं?

जैसा कि हमने आप सभी लोगों को पहले ही बताया है कि डीजी लॉकर में अकाउंट बनाना बेहद आसान है। डीजी लॉकर में अकाउंट बनाने के लिए आपके पास में आधार कार्ड होना बेहद जरूरी है। आपको इस बारे में भी जानकारी होनी चाहिए कि आप के आधार कार्ड के साथ में आपका कौन सा फोन नंबर जुड़ा हुआ है। क्योंकि आपके डिजिलॉकर पर अकाउंट बनाते वक्त उस पर एक ओटीपी जाता है। जिसका इस्तेमाल अकाउंट वेरीफिकेशन के लिए किया जाता है। हम नीचे स्टेप बाय स्टेप तरीका बता रहे हैं जिसकी सहायता से आप बड़ी आसानी से अपने लिए डीजी लॉकर पर अकाउंट बना सकते हो।

  1. सबसे पहले आपको सरकार की आधिकारिक वेबसाइट digilocker.gov.in पर जाना होगा। आप या लिख करके सीधे गूगल सर्च पर खोज सकते हैं।
  2. जैसे ही आपके सामने एक पेज खुलेगा तो आपको दाएं तरफ sign up का विकल्प दिखाई देगा, आपको इस पर क्लिक कर देना है।
  3. अब यहां पर आपको सारी जरूरी जानकारी जैसे कि आपका नाम, आप की जन्म तिथि, आपका ईमेल आईडी, पासवर्ड, यूजरनेम, आपका आधार कार्ड संख्या, इत्यादि जरूरी डिटेल डालते हुए आपको सबमिट करना होता है।
  4. जैसे ही आप सबमिट बटन पर क्लिक करते हैं तो आपके मोबाइल फोन पर एक OTP आएगा।
  5. इस OTP, आपको आप अपने मोबाइल नंबर वेरीफिकेशन के लिए डालना होता है।
  6. इसके बाद आपसे आपका यूजर नेम और पासवर्ड क्रिएट करने के लिए कहा जाता है।
  7. इस तरह से आप अपना पासवर्ड यूजर नेम और अकाउंट डीजी लॉकर में बड़ी आसानी से बना पाएंगे।

डीजीलॉकर के क्या-क्या फायदे हैं?

डीजीलॉकर या डिजिटल लॉकर एक तरह का वर्चुअल लॉकर है। जिसे जुलाई 2015 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लांच किया था। जिसके बारे में सरकार की यह दावा थी कि एक बार अगर आपने लॉकर में अपने सारे डॉक्यूमेंट अपलोड कर लिए तो उन्हें फिजिकल रूप में रखने की जरूरत नहीं पड़ेगी। यानी आपको कागजों पर इन्हें संभालना नहीं पड़ेगा।

सारी सरकारी दस्तावेजों को आप यहां पर अपलोड करके रख सकते हैं। एवं आवश्यकता पड़ने पर आप यहां से इस डॉक्यूमेंट को निकाल भी सकते हैं। तो चलिए जानते हैं कि डिजी लॉकर से कौन-कौन से फायदे आपको हो सकते हैं।

  • केंद्र सरकार की डिजिटल ब्लॉक कर स्कीम के जरिए आप अपने सभी शैक्षणिक दस्तावेज, पहचान और पते का प्रमाण पत्र, जाति प्रमाण पत्र इत्यादि चीजों को यहां पर सुरक्षित रख सकते हैं।
  • अगर आप इंटरव्यू देने जा रहे हैं तो आप वहां एक लिंक दे सकते हैं जिससे आपके दस्तावेज की जांच आसानी से हो जाएगी।
  • डीजी लॉकर का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसके लिए आपको कागजी रूप में डॉक्यूमेंट ले जाने की आवश्यकता नहीं है।
  • डीजी लॉकर का सबसे बड़ा फायदा यही है कि भौतिक रूप से दस्तावेज ले जाने की आवश्यकता नहीं पड़ती है। हमारे द्वारा यहां अपलोड दस्तावेजों की सत्यता संबंधित विभाग द्वारा प्रमाणित कर दी जाती है।
  • इनकी प्रमाणिकता बढ़ाने की सिग्नेचर भी कर सकते हैं। आप किसी रजिस्टर्ड रिक्वेस्ट के साथ यहां से लिंक भी शेयर कर सकते हैं।

डीजी लॉकर कितना सुरक्षित है?

IT Act 2000 के Rule 9A के तहत सरकार ने डीजी लॉकर के द्वारा जारी किए गए सारे दस्तावेजों को भी ओरिजिनल डॉक्यूमेंट के तहत मान्यता दी गई है। यहां पर आपके सारे डॉक्यूमेंट के लिए एक ऑनलाइन लोग कर बनाई गई है। यह लॉकर आपके आधार कार्ड, मोबाइल नंबर या यूजर आईडी और पासवर्ड सही लॉगिन हो सकता है।

इसमें लोगिन करने के लिए आपके मोबाइल नंबर या आपके आधार से जुड़े हुए मोबाइल नंबर पर OTP आता है इस ओटीपी के वेरिफिकेशन के बाद ही डीजी लॉकर को आप खोल सकते हैं।

यहां पर आप अपने डॉक्यूमेंट को देख सकते हैं। इसका मतलब यह है कि ऑनलाइन लॉकर आपके बैंक के लॉकर की तरह ही पूरी तरह से सुरक्षित है। इसलिए यह साधारण डॉक्यूमेंट की तुलना में जाता सुरक्षित मानी जाती है।

डीजीलॉकर का पासवर्ड कैसे रीसेट कर सकते हैं?

अगर आप डिजी लॉकर का यूजर नेम और पासवर्ड भूल जाते हैं तो आपको घबराने की कोई जरूरत नहीं है। आप बड़ी आसानी से डीजे लॉकर का पासवर्ड रिसेट कर सकते हैं।

आप डीजी लॉकर पर जाकर के forgot password पर की कर सकते हैं और यह विकल्प पर आप अपना मोबाइल नंबर और आधार कार्ड नंबर डाल करके सबमिट कर सकते हैं। आपके मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी आ जाएगी जिससे आप लॉग इन कर सकते हैं। इस तरह से आप अपना पासवर्ड रिसेट भी कर सकते हैं।

डीजीलॉकर में कितना स्टोरेज दिया जाता है?

डिजिलॉकर साल 2015 में शुरू की गई थी उस दौरान इसमें स्टोरेज काफी कम थी। लेकिन धीरे-धीरे इसकी स्टोरेज कैपेसिटी भी बढ़ाई गई है। ऑनलाइन डिजिटल लॉकर पर आपको डाक्यूमेंट्स को सुरक्षित रखने के लिए 1GB क्लाउड स्टोरेज दिया गया है।

इसमें आप बड़ी आसानी से 10, 20 एमबी के फाइल डॉक्यूमेंट अपलोड कर सकते हैं। डीजीलॉकर में आप .Pdf, .JPEG,.Jpg, और .PNG फाइल को ही अपलोड कर सकते हैं इसके अलावा किसी और प्रकार की फाइल को डीजे लॉकर सपोर्ट नहीं करता है।