E – wallet क्या है? किस लिए इस्तेमाल किया जाता है?

0
375

आज के इंटरनेट के जमाने में हर चीज digital होती जा रही है। जहां पहले हम अपने पैसों को Bank या अपने घर में ही रखते थे। लेकिन जैसे-जैसे इंटरनेट की दुनिया में विकास होता गया वैसे वैसे हमारे द्वारा पैसे रखने और उनके इस्तेमाल के तरीके भी बदल गए हैं।

पहले हम नकद पैसे से ही लेनदेन किया करते थे। लेकिन आज के आधुनिक युग में e-wallet या digital wallet के माध्यम से बहुत सारी चीजों की खरीदारी या भुगतान करते हैं। आप में से बहुत सारे लोग digital e-wallet का इस्तेमाल तो जरूर करते होंगे। लेकिन शायद e- wallet क्या है? इसका इतिहास के बारे में, इसे क्यों बनाया गया? ऐसे ही सवालों के जवाब आज हम अपने इस लेख में देने वाले हैं।

आज digital wallet का इस्तेमाल आप इंटरनेट पर online shopping से लेकर के bill payment तक करने के लिए इस्तेमाल करते हैं। तो चलिए शुरू करते हैं और जानते हैं digital e wallet क्या होता है? इसका इस्तेमाल क्यों किया जाता है?

E-wallet क्या है? – What is digital E-wallet in Hindi

E-wallet को electronic wallet या digital wallet के नाम से भी जाना जाता है। यह एक तरह से electronic बटुआ होता है। ज्यादातर इसका इस्तेमाल electronic transaction के लिए किया जाता है। जैसे कि online ticket booking, online shopping, online recharge, online money transfer, online bill payment इत्यादि।

E-wallet का इस्तेमाल आप वैसे ही कर सकते हैं जैसे आप अपने पॉकेट में रखे नगद पैसों के द्वारा करते हैं। किसी भी वस्तु को खरीदने के लिए आप दुकान पर नगद पैसे देते हो। ठीक वैसे ही अगर आपको online किसी सामग्री को खरीदना है। तो इसकी payment के लिए आप credit card, debit card, या फिर digital wallet का विकल्प दिया जाता है। यह एक तरह से electronic transaction किया जाता है। आप इसके द्वारा कहीं पर भी online भुगतान कर सकते हैं।

आज internet पर बहुत सारे दिग्गज company ने अपने e-wallet (electronic wallet) उतार दिया है। जिनमें से प्रमुख है Google pay, Paytm, phonepe, oxigen wallet इत्यादि।

यही नहीं digital payment करने और उन्हें प्राप्त करने के लिए सरकार की तरफ से UPI payment सेवा की शुरुआत भी की गई है। जिसकी मदद से भी आप digital payment अपने खाते के द्वारा कर सकते हैं।

E-wallet कितनी तरह के होते हैं? – Types of E-wallet in Hindi

कुछ सालों में भारत में आए digital क्रांति के बाद भारत में लोगों के बीच में electronic wallet का इस्तेमाल तेजी से बढ़ा है। भारतीय market में ऐसे दर्जनों भर e-wallet services प्रदान करने वाली कंपनियों की संख्या बढ़ गई है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने इन electronic wallet सेवा प्रदान करने वाली कंपनियों को services और कार्य के आधार पर उन्हें विभिन्न श्रेणियों में बांट दिया है। Reserve Bank of India के आधार पर E- wallet को निम्नलिखित श्रेणियों में बांटा गया है।

  1. Closed E-wallets
  2. Open E-wallets
  3. Semi-closed-E-wallet
  4. Semi-open-E-wallets

भारत में ज्यादातर electronic wallet सेवाएं देने वाली कंपनियों को मुख्य तौर पर इन चार category में बांटा गया है। हम नीचे इनके बारे में विस्तार से जानेंगे।

Closed E-wallets

इस तरह के ई वॉलेट का इस्तेमाल आप वस्तुओं और सेवाओं को खरीदने के लिए कर सकते हैं। Closed E- wallet में अगर आपने पैसे जमा किए, तो आप उसका नगद निकासी नहीं कर सकते हैं। इस चलते इससे closed E-wallets का नाम दिया गया है। साथ ही में आप इन पैसों को अपने bank account पर ट्रांसफर भी नहीं कर सकते हैं। Closed E-wallets के उदाहरण है :-Flipkart, Jabong, MakeMyTrip e-wallets इत्यादि। ज्यादातर यह खाते के रूप में कार्य करते हैं, जब आप किसी product को खरीदते हैं और बाद में उसे cancel कर देते हैं। तब या राशि आपके App account पर जमा हो जाती है।

जिसे आप पुनः अपने बैंक खाते पर transfer नहीं कर सकते हैं। लेकिन इसकी मदद से आप फिर से कोई दूसरा product खरीद सकते हैं। इस तरह की service देने वाली E-wallet company को closed E-wallets company किस श्रेणी में रखा जाता है।

Open E-wallets

इस तरह की सेवा देने वाली E-wallets कंपनी आपको नकद निकासी withdrawal करने की सुविधा देती है। इस तरह के ज्यादातर E-wallet कंपनियां आपको ऑनलाइन transfer करने की भी सुविधा उपलब्ध कराती है।

यह e-wallet सीधे आपके बैंक अकाउंट से जुड़े हुए होते हैं। ज्यादातर इस तरह के wallet, बैंक द्वारा ही जारी किए जाते हैं। ऐसे में कुछ wallet ऐसे भी हैं जिन्हें banking licence दिया गया है। इनके जरिए आप online shopping transaction, bill payment, इत्यादि चीजें कर सकते हैं। Open E-wallet के उदाहरण है Airtel money, Bank app E-wallet इत्यादि।

Semi-closed-E-wallet

इस तरह के ई वॉलेट को आप closed E-wallets का दूसरा रूप कह सकते हैं। हम यह आपको एक उदाहरण के द्वारा समझाना चाहते हैं। मान लिया कि Flipkart closed E-wallets के माध्यम से आपने अपने लिए product ऑर्डर किया। किन्ही कारणों से आपको वाह product पसंद नहीं आई और आपने उसे cancel कर दिया।

आपके द्वारा transaction किया गया रकम Flipkart के e wallet पर जमा हो जाएगी। पर आप उसे नगद निकासी (cash withdrawal) या bank account में transfer नहीं कर सकते हैं। बल्कि आपको Flipkart से ही कोई दूसरा product खरीद करके उसे खर्च करने पड़ते हैं।

लेकिन Semi-closed-E-wallet में आपको और एक विकल्प मिलता है। जिसमें आप किसी दूसरे website जो कि उस से जुड़ा हुआ है। उसमें जाकर के product खरीद सकते हैं। लेकिन यहां पर भी आप नकद राशि (cash withdrawal) या bank account amount transfer करने की सुविधा नहीं मिलती है।

Semi-open-E-wallets

इस तरह के E-wallet के द्वारा आप online खरीदारी कर सकते हैं। इसके साथ ही आप online transaction भी कर सकते हैं। इन wallets को बहुत सारी जगहों पर online transaction के लिए स्वीकार भी किया जाता है। इस चलते आप इनका उपयोग कर सकते हैं।

लेकिन इसमें भी आप नकद राशि (cash withdrawal) नहीं कर सकते हैं।Semi-open-E-wallets के उदाहरण है Google pay, Paytm, phonepe इत्यादि।

E-wallet की विशेषताएं

  1. यह मुफ्त उपलब्ध एक सेवा है।
  2. यह तेजी और आसानी से भुगतान प्राप्त और भुगतान देने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।
  3. डिजिटल वॉलेट सुविधाजनक होते हैं क्योंकि आप इससे प्राप्त राशि और भुगतान किए गए राशि के लिए आपको बार-बार बैंक जाना नहीं पड़ता है।
  4. यह सुरक्षित और भरोसेमंद होती है। क्योंकि आपको यहां पर किसी को अपने sensitive जानकारियां जैसे कि debit card एवं credit card की जानकारी देनी नहीं होती।
  5. आपके द्वारा किए गए ट्रांजैक्शन का यह रिकॉर्ड भी रखती है। जिसे आप जब चाहे तब देख सकते हैं।
  6. अगर आप एक दुकानदार हैं तो यह आपके लिए फायदेमंद भी हो सकता है क्योंकि इसमें आपको चिल्लर से निजात मिलती है।
  7. इसकी मदद से आप दुनिया भर में कहीं भी transaction कर सकते हैं। कुछ e-wallet आपको यह सुविधा virtual debit card के रूप में देती है।

E-wallet का इस्तेमाल आप कहां-कहां कर सकते हैं?

  1. जैसा कि हमने बताया electronic wallet या E-wallet का इस्तेमाल आप online shopping करने के लिए कर सकते हैं।
  2. इसके अलावा आप अपने mobile phone recharge, DTH recharge आदि भी करवा सकते हैं।
  3. कुछ E-wallet आपको bill payment जैसे कि electricity bill, water bill, gas bill इत्यादि चीजों का भुगतान करने की सुविधा प्रदान करती है।
  4. इसके अलावा आप online railway ticket, online movie ticket, online air ticket, bus and uber book, इत्यादि चीजों की घर बैठे ही booking कर सकते हो।
  5. E-wallet के माध्यम से आप विभिन्न bank account पर जरूरत पड़ने पर पैसे transfer कर सकते हैं।
  6. अगर आप एक दुकानदार है तो आप अपने ग्रहण से पैसों का भुगतान प्राप्त कर सकते हैं। आजकल भारत में Paytm और phonepe भुगतान प्राप्त करने के लिए बेहतर e-wallet माने जाते हैं।

E-wallet कैसे काम करता है? – How does E-wallet works in Hindi

E-wallet ग्राहक और विक्रेता के बीच में mediator का काम करता है। किसी भी चीज की लेनदेन (पैसे) के ट्रांजैक्शन के लिए दो चीजों की जरूरत होती है। पहला application या software, दूसरा information.

Application या software से हमारा यह मतलब है कि अगर आप transaction करने के लिए आपके पास में e-wallet app या software होना जरूरी है।

Information से हमारा मतलब यह है कि इसमें आपकी निजी जानकारी भुगतान प्राप्त करने के लिए होती है। जब आप digital wallet के माध्यम से पेमेंट करते हैं, तो merchant कि पहले से save जानकारी आपके सामने आ जाती है। बस आपको security pin डाल कर के transaction payment पूरा करना होता है।

Digital e wallet एक virtual storage wallet होता है। इसकी मदद से आप एक क्लिक में पैसों के भुगतान एवं भुगतान प्राप्ति कर सकते हैं। एक user के रूप में जब आप E-wallet में पैसे load या add करते हो। तो इसका मतलब यह होता है कि आप E-wallet services देने वाली कंपनी के ऊपर भरोसा कर रहे हैं। क्योंकि तब तक आपके credit card या debit card से पैसे कट चुके होते हैं। और इस पर आपका नियंत्रण नहीं है। आपके E-wallet account पर जो पैसा दिखाया ज्यादा है। वह आपके द्वारा जमा किए गए पैसों का digital प्रतिनिधित्व करता है।

संक्षेप में समझे तो E-wallet account में दिखाए जाने वाला पैसा एक प्रकार से virtual पैसे होते हैं। वास्तविक पैसा E-wallet company के पास ही होता है। जब भी आपको कोई transaction करते हैं तो आपके behalf में ई वॉलेट सेवा देने वाली कंपनी भुगतान करती है। इसके एवज में 0.25 % से लेकर 0.5% commission प्राप्त करती है।

इसे और भी आसानी से समझने के लिए हम एक उदाहरण देते हैं। मान लीजिए A और B दोनों ही एक ही ई वॉलेट सेवा प्रदान करने वाली कंपनी का ही वॉलेट का इस्तेमाल करते हैं। A ने debit card के माध्यम से अपने e wallet account पर ₹500 जमा किए। जो वह B को देना चाहता है। जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया था की e wallet account पर दिखने वाला पैसा virtual money होता है। Real money ई वॉलेट सेवा देने वाली कंपनी के खाते में ही होती है। यहां virtual money debit वह करके B के अकाउंट में show होता है।

वहीं अगर आप e wallet से बैंक अकाउंट पर पैसे ट्रांसफर करते हैं। तब e wallet service देने वाली कंपनी के खाते से पैसे debit होकर आपके खाते में आते हैं।

E-wallet का इस्तेमाल करने के लिए आपको किन किन चीजों की जरूरत पड़ेगी?

E-walletका इस्तेमाल करने के लिए आपको निम्नलिखित चीजों की आवश्यकता पड़ सकती है जिसे हमने नीचे सूचीबद्ध किया है।

  1. Android phone/कोई भी स्मार्टफोन
  2. Internet connection मौजूद हो। अच्छा होगा अगर इसमें 3G या 4G इंटरनेट सेवाएं हो।
  3. E-wallet सेवा देने वाली company का App आपके स्मार्ट फोन पर install होना चाहिए।
  4. आपके पास debit card या credit card या internet banking होनी चाहिए। ताकि आप E-wallet पर पैसे load कर सके।
  5. इसके अलावा आपको थोड़ी सी तकनीकी ज्ञान एवं डिजिटल साक्षरता की आवश्यकता होती है।

अगर आपके पास में यह सारी चीजें है तो आप अपने लिए E-wallet account आसानी से बना सकते हैं। बस आपको App install करके e-wallet के लिए रजिस्ट्रेशन करना होगा। अपने e-wallet पर पैसे लोड कीजिए और सेवा का आनंद लीजिए।

E-wallet का इस्तेमाल करते हुए आपको इन बातों की सावधानी रखनी होती है?

  1. अपने e wallet का security pin किसी को ना दें या किसी को भी ना बताएं।
  2. आजकल सुरक्षा के दृष्टिकोण से e wallet service देने वाली कंपनियां OTP (one time password) का भी इस्तेमाल करते हैं। किसी को भी अपना OTP ना दे।
  3. E wallet का इस्तेमाल आप सुरक्षित एवं विश्वसनीय जगह पर ही करने की कोशिश करें।
  4. किसी भी अनजान व्यक्ति द्वारा e wallet से संबंधित जानकारी फोन पर आपसे पूछे तो जरा आप सावधान रहिए। आजकल इस तरह के call fraud का जरिया बन रहे हैं।
  5. अपने बैंक में जाकर के अपने बैंक अकाउंट पर SMS banking या SMS alert की सुविधा आवश्यक ले। इससे आपके खाते में होने वाले debit या credit की जानकारी आपको SMS के द्वारा मिलती रहेगी।
  6. समय-समय पर username, password इत्यादि चीजों को बदलते रहे।

Top Mobile E-wallets service provider in India list

  1. Airtel money
  2. Jio money
  3. Google pay
  4. Paytm
  5. Phonepe
  6. Citrus pay
  7. Free recharge
  8. MobiKwik
  9. Oxigen wallet
  10. PayUmoney
  11. PayPal
  12. Bhim upi
  13. Amazon pay
  14. Yes pay
  15. Just pay
  16. HDFC pay Zapp
  17. ICICI pockets
  18. SBI buddy
  19. IOB e wallet
  20. Ola money etc.

निष्कर्ष

उम्मीद करता हूं कि आपको आज के हमारे इस लेख से कुछ नया जरूर सीखने को मिला होगा। आज के हमारे इस लेख में हमने आप लोगों को यह बताया है कि E-wallet क्या होता है? किस लिए इस्तेमाल किया जाता है? E-wallet कितने प्रकार के होते हैं? What is E-wallet in Hindi.

अगर आपको हमारा यह लेख पसंद आया है तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ social media पर भी share कर सकते हैं। अगर आप हमें कुछ सुझाव देना चाहते हैं तो आप हमें comment box में लिख करके बता सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here