What is Docker in Hindi

इनफॉरमेशन एंड टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में ‘Docker’ शब्द का इस्तेमाल काफी ज्यादा किया जाता है। हम में से ज्यादातर लोग जो इनफॉरमेशन एंड टेक्नोलॉजी के बारे में इतनी ज्यादा जानकारी नहीं रखते हैं। उन्हें इस बारे में थोड़ा समझना मुश्किल होता है कि आखिर Docker या Container क्या होता है? आज के हमारे इस लेख में हम इसी बारे में जानकारी देने वाले हैं। हम अपने इस लेख में यह कोशिश करेंगे कि आप लोगों को साधारण एवं सीधे शब्द में यह समझाया जा सके कि Docker क्या होता है? इंटरनेट और इंफॉर्मेशन एंड टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में इसका उपयोग किस तरह से किया जाता है? What is Docker in Hindi

What is Docker in Hindi – डॉकर क्या है?

डॉकर (Docker) एक सॉफ्टवेयर प्लेटफॉर्म है जो आपको एप्लीकेशन को जल्दी से बनाने परीक्षण करने और इनफॉरमेशन एंड टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में एप्लीकेशन की जांच करने में मदद करता है। आप डॉकर सॉफ्टवेयर को कंटेनर नामक माने कृतिगाई में पैकेज करता है जिसमें लाइब्रेरी, सिस्टम टूल, कोड और रनटाइम सहित सॉफ्टवेयर को चलाने के लिए जरूरत पड़ने वाली सब टूल मौजूद होती है।

आप इसका इस्तेमाल करके किसी भी वातावरण में एप्लीकेशन या सॉफ्टवेयर को जल्दी से इंटरनेट पर चलने लायक और स्केल कर सकते हैं और जान सकते हैं कि आपका कोड चल रहा है या नहीं।

दूसरे एवं आसान शब्दों में आप कह सकते हैं कि डॉकर, मोबी प्रोजेक्ट का एक सबसेट, सरवर और क्लाउड पर कंटेनर बनाने, चलाने और मैनेजमेंट करने के लिए एक सॉफ्टवेयर फ्रेमवर्क है। इसी वजह से इसे ‘docker’ कहा जाता है। इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में ‘Docker’ शब्द निम्नलिखित दो चीजों को संदर्भित करता है पहला कमांड और दूसरा टूल (daemon) जोकि dockerfile फॉर्मेट होता है।

पहले हमें किसी भी वेब एप्लीकेशन को चलाने के लिए एक सरवर स्थापित करना पड़ता था। जिसमें हम LAMP, LEMP stack इत्यादि चीजें जो किसी भी एप्लीकेशन को चलाने के लिए जरूरी होती है, को इंस्टॉल करते थे जिससे कि कोई भी एप्लीकेशन चलता था। यदि आपके वेबसाइट या वेब एप्लीकेशन पर काफी ज्यादा ट्रैफिक आ जाए तो आपको अपने वेब एप्लीकेशन के लिए दूसरे सरवर को बनाने की आवश्यकता होगी। लेकिन, जल्दी से दूसरा सरवर सेट अप करना इतना आसान भी नहीं होता है। Docker के जरिए आप दूसरा सरवर चुटकियों में बना सकते हैं और आप दोनों सरवर के बीच में Load balancer का इस्तेमाल करके अपने ट्राफिक को दोनों सरवर के बीच में बांट सकते हैं।

ऐसे ही कई सारे टूल आपको Docker पर मिल जाते हैं। यही वजह है कि वर्तमान समय में इसका इस्तेमाल इनफॉरमेशन एंड टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में काफी ज्यादा किया जा रहा है।

How Docker Works – डॉकर कैसे काम करता है?

डॉकर आपके कोड को चलाने के लिए एक मानक तरीका प्रदान करके काम करता है। कंटेनर के लिए एक यह ऑपरेटिंग सिस्टम की तरह होता है। जिस तरह वर्चुअल मशीन सरवर हार्डवेयर को वर्चुलाइज करती है ठीक उसी तरह कंटेनर सर्वर के ऑपरेटिंग सिस्टम का वर्चुलाइजेशन करते हैं। डॉकर प्रत्येक सर्वर पर स्थापित होता है, और सरल कमांड प्रदान करता है जिसका उपयोग आप कंटेनर बनाने शुरू करने या रोकने के लिए कर सकते हैं।

सीधे शब्दों में आप कह सकते हैं कि यह एक वर्चुअल ऑपरेटिंग सिस्टम है। जो कई सारे कंटेनर से जुड़ा हुआ होता है। कंटेनर तकनीकी ऑपरेटिंग सिस्टम के माध्यम से उपलब्ध होती है। एक कंटेनर एप्लीकेशन सेवा या फंक्शन को सभी लाइब्रेरी कंफीग्रेशन फाइल से जुड़ा हुआ होता है। और किसी भी तरह के कोड को चलाने के लिए जरूरत की चीजें उस लाइब्रेरी से मिल जाती है। जिससे कि प्रत्येक कंटेनर एक अंतर्निहित ऑपरेटिंग सिस्टम की सेवा एक दूसरे से साझा करता है। इसीलिए कंटेनर जो एक ही ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ डॉकर वातावरण के बीच चलते हैं बिना किसी बदलाव के अच्छी तरह से काम करते हैं।

डॉकर एक ही ऑपरेटिंग सिस्टम पर कई कंटेनर चलाने के लिए OS kernel पर अलग-अलग संसाधन अलगाव का उपयोग करता है। यह वर्चुअल मशीन से अलग है, जो बहुत ही हार्ड वेयर संसाधनों की एक अमूर्त परत के शीर्ष पर निष्पादन योग्य कोड के साथ संपूर्ण ऑपरेटिंग सिस्टम को इन कैप्सूलएट करता है।

डॉकर को Linux प्लेटफार्म पर काम करने के लिए बनाया गया था। लेकिन, माइक्रोसॉफ्ट विंडोज और एप्पल ऑपरेटिंग सिस्टम सहित गैर लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए भी इसका इस्तेमाल किया जा सकता है। आप क्लाउड कंप्यूटिंग के दिग्गज AWS और Azure जैसे सेवा देने वाली कंपनी पर इनके संस्करण देख सकते हैं।

Docker Components and tools

Docker, Community संस्करण एक ओपन सोर्स है, जबकि डॉकर इंटरप्राइज संस्करण इंक द्वारा पेश किया गया है या एक व्यवसायिक संस्करण है। डॉकर मे अलग अलग घटक और उपकरण होते हैं जो कंटेनर को बनाने और उन्हें सत्यापित करने और उनका मैनेजमेंट करने में मदद करती है।

डॉकर इंजन अंतर्निहित तकनीक है जो कंटेनर आधारित अनुप्रयोगों के निर्माण में शामिल कार्यों और वर्कफ्लो को संभालती है। इंजन एक सर्वर साइड daemon प्रक्रिया बनाता है जो images, कंटेनर, नेटवर्क और स्टोरेज वॉल्यूम को पोस्ट करता है। Daemon उपयोगकर्ताओं को डॉकर एप्लीकेशन प्रोग्रामिंग इंटरफेस के माध्यम से daemon के साथ में इंटरेक्ट करने के लिए client-side कमांड लाइन इंटरफेस प्रदान करती है। Docker द्वारा बनाए गए फाइल को Dockerfiles कहते हैं। डॉकर कंपोज फाइलें डॉकर कंटेनर में घटकों की संरचना को परिभाषित करते हैं।

Docker hub, एक सेवा के रूप में सॉफ्टवेयर है जो उपयोगकर्ताओं को एक सामान्य लाइब्रेरी के माध्यम से कंटेनर आधारित अनुप्रयोगों को प्रकाशित और साझा करने में सक्षम होता है। जिसके अंतर्गत 100000 से भी अधिक स्वर जनिक रूप से उपलब्ध अनुप्रयोगों के साथ इसे चलाया जा सकता है।

डॉकर इंजन में Docker swarm mode का इस्तेमाल क्लस्टर के लोड बैलेंसर के रूप में किया जाता है। जिससे कि Docker पर चलाए जाने वाले एप्लीकेशन को संसाधनों का इस्तेमाल आसानी से किया जा सके।

यूनिवर्सल कंट्रोलर प्लान एक वेब आधारित एकीकृत क्लस्टर और एप्लीकेशन मैनेजमेंट इंटरफ़ेस होता है। कंपोज multi-container एप्लीकेशन सेवाओं को आसानी से कंफीग्र्ड करने, कंटेनर की स्थिति दिखाने, स्क्रीन लॉक आउटपुट और सिंगल इंस्टेंस प्रक्रियाओं को चलाने के लिए इस्तेमाल की जाती है।

इन सभी चीजों के अलावा भी आपको डॉकर पर कई सारे टूल और कंपोनेंट देखने को मिलते हैं, जिसकी सहायता से किसी भी वेब एप्लीकेशन या कोड को आसानी से इस पर चलाया जा सकता है।

निष्कर्ष

आज के हमारे इस लेख में हमने इस बारे में जानकारी दी है कि डॉकर क्या होता है? What is Docker in Hindi . Docker एक सेवा (PaaS) उत्पादों के रूप में प्लेटफ़ॉर्म का एक सेट है जो कंटेनर नामक पैकेज में सॉफ़्टवेयर वितरित करने के लिए OS-स्तरीय वर्चुअलाइजेशन का उपयोग करता है।  सेवा में मुफ्त और प्रीमियम दोनों स्तर हैं।  कंटेनरों को होस्ट करने वाले सॉफ़्टवेयर को डॉकर इंजन कहा जाता है। इसे पहली बार 2013 में शुरू किया गया था और इसे डॉकर, इंक. द्वारा विकसित किया गया है।

उम्मीद करता हूं कि आप को Docker के बारे में थोड़ी बहुत जानकारी तो मिल गई होगी। इससे संबंधित अगर आपकी कुछ सवाल एवं सुझाव है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं। लेख पसंद आया हो तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूले।