What is Internet Banking? इंटरनेट बैंकिंग क्या है?

What is Internet Banking? इंटरनेट बैंकिंग क्या है? पहले हमें पैसों का ट्रांजैक्शन एक अकाउंट से दूसरे अकाउंट पर करने के लिए बैंक के लंबी कतारों का सामना करना पड़ता था। लेकिन, इंटरनेट बैंकिंग के आ जाने के बाद और दूसरे डिजिटल ई प्रोडक्ट के आने के बाद बैंकिंग प्रणाली में काफी परिवर्तन आया है।

इंटरनेट बैंकिंग, डिजिटल वॉलेट, भीम यूपीआई, इत्यादि डिजिटल प्रणाली आने के बाद हर कोई व्यक्ति बड़ी आसानी से एक खाते से दूसरे खाते में अपने घर में बैठे हैं पैसों का हस्तांतरण कर सकने में सक्षम होता है। आज के हमारे इस लेख में हम जानेंगे कि What is Internet Banking? इंटरनेट बैंकिंग क्या है?

What is Internet Banking? इंटरनेट बैंकिंग क्या है?

इंटरनेट बैंकिंग वहां प्रणाली है जो ग्राहक को उसके नेट बैंकिंग अकाउंट से वित्तीय और गैर वित्तीय ट्रांजैक्शन करने की सुविधा प्रदान करती है। अपने खाते पर इंटरनेट बैंकिंग लेने के लिए आप अपने नजदीकी बैंक जहां पर आप का खाता हो से संपर्क कर सकते हैं।

बहुत सारे बैंक ऐसी भी सुविधा देते हैं कि जिससे आप उनके आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर के इंटरनेट बैंकिंग के लिए रजिस्टर्ड कर सकते हो। भरे गए फॉर्म के साथ आप नजदीकी बैंक में संपर्क कर सकते हैं। जहां से आपके खाते में इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा दे दी जाती है।

बैंक खाता धारक इंटरनेट पर जाकर के नेट बैंकिंग खाते से RTGS, NEFT, Bank account statement, इत्यादि चीजों को आसानी से घर बैठे कर सकता है। इसके अलावा आप अपने घर बैठे अपने खाते का बैलेंस भी देख सकते हैं। इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल करने के लिए आपके पास में कंप्यूटर, लैपटॉप या मोबाइल फोन होना आवश्यक होता है। जब भी आप इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल करें तो इस बात का ध्यान रखें कि कभी भी आप पब्लिक कंप्यूटर का इस्तेमाल ना करें। इससे आपकी जानकारी हैक हो सकती है।

इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा बैंकों के माध्यम से प्रदान की जाती है और ग्राहक को उसके लिए उपलब्ध सुविधा प्राप्त करने के लिए किसी भी बैंक में खाता धारक होना जरूरी होता है।

इंटरनेट बैंकिंग की क्या-क्या विशेषताएं हैं?

इंटरनेट बैंकिंग की बहुत सारी विशेषताएं हैं। जिसकी सहायता से कोई भी ग्राहक अपने घर बैठे हैं बहुत सारे कार्यों को कर सकने में सक्षम होता है। इंटरनेट बैंकिंग की सहायता से कोई भी ग्राहक ट्रांजैक्शन और गैर ट्रांजैक्शन संबंधी कार्य कर सकता है। जिसके चलते इसमें निम्नलिखित विशेषताएं है:-

  • इंटरनेट बैंकिंग की सहायता से कोई भी ग्राहक एक खाते से दूसरे खाते में पैसों का हस्तांतरण कर सकता है।
  • ग्राहक अपने खाते का बैलेंस देख सकता है। इसके अलावा वह एक निश्चित अवधि का Bank Statement निकाल एवं देख सकता है।
  • ग्राहक संबंधित बैंक द्वारा किसी निश्चित अवधि में हुए ट्रांजैक्शन की जानकारी ले सकता है।
  • इंटरनेट बैंकिंग की सहायता से आप विभिन्न प्रकार के बैंकिंग संबंधी फॉर्म, आवेदन पत्र इत्यादि डाउनलोड भी कर सकते हैं.
  • इंटरनेट बैंकिंग की सहायता से आप घर बैठे ही अपने पैसों को फिक्स्ड डिपॉजिट, रिकरिंग डिपॉजिट इत्यादि खाते खोल सकते हैं।
  • पैसों को एक खाते से दूसरे खाते में ट्रांसफर करने के अलावा आप इंटरनेट बैंकिंग की सहायता से मोबाइल, DTH, रिचार्ज भी कर सकते हैं।
  • इंटरनेट बैंकिंग सुविधा प्राप्त करने वाला ग्रहण बड़ी आसानी से ई-कॉमर्स वेबसाइट पर खरीद और बिक्री का कार्य भी कर सकता है।
  • ग्राहक व्यापार का निवेश और संचालन कर सकता है।
  • ग्राहक परिवहन, टूर एंड ट्रैवल पैकेज और मेडिकल पैकेज भी इंटरनेट बैंकिंग की सहायता से बुक कर सकता है।

इनके अलावा बैंक इंटरनेट बैंकिंग की सहायता से आप बहुत कुछ कर सकते हैं। इंटरनेट बैंकिंग से मिलने वाली सुविधाओं की लिस्ट बहुत लंबी है।

इंटरनेट बैंकिंग के लाभ

  • कोई भी ग्रहक कभी भी और कहीं भी उनके बैंक में स्थायी पहुंच प्राप्त होती है।
  • आप कभी भी किसी को भी पैसों का हस्तांतरण कर सकते हैं। यह हस्तांतरण एकदम सुरक्षित होता है।
  • आप तत्काल पैसों का ट्रांजैक्शन 24 * 7 कर सकने में सक्षम होते हैं।
  • इंटरनेट बैंकिंग आपको बैंक की लंबी कतार से बचाता है।

इंटरनेट बैंकिंग की सुरक्षा

कोई भी बैंक अपने ग्रह की वित्तीय जानकारी को सुरक्षित रखने के लिए तत्पर रहता है। यही कारण है कि ग्राहक वित्तीय संस्थानों पर भरोसा करते हैं। वित्तीय संस्थान इसे हमेशा प्राथमिकता देते हैं कि ग्रह के अकाउंट की सुरक्षा कभी भी किसी खतरे में ना हो। इसीलिए बैंक संस्थाएं बैंकिंग को सुरक्षित बनाए रखने के लिए दो तरह की सुरक्षा नीति का उपयोग करती है।

  • PIN/TANs/Pin पासवर्ड :- इंटरनेट बैंकिंग को सुरक्षित और विभिन्न प्रकार के इंटरनेट से जुड़ी खतरों से बचाने के लिए ग्रहक को पिन नंबर का इस्तेमाल करने के लिए कहा जाता है। इसके अलावा जब भी आप इंटरनेट बैंकिंग पर लॉगइन करते हैं, तब आप user login password के जरिए इंटरनेट बैंकिंग पर लॉगइन करते हैं। पैसों का हस्तांतरण करने के लिए आपको पिन नंबर का इस्तेमाल करना होता है। इसके अलावा भी जब अपने पैसों को आप इंटरनेट बैंकिंग की सहायता से एक खाते से दूसरे खाते में ट्रांसफर कर रहे होते हैं तो आपके मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी (OTP) आती है जिसे आपको पैसों का हस्तांतरण करते वक्त डालना होता है। तभी जाकर के आपके पैसे एक खाते से दूसरे खाते में ट्रांसफर होते हैं। इसके अलावा भी बहुत सारी बैंक TAN पासवर्ड का भी प्रयोग इंटरनेट बैंकिंग के लिए करवाते हैं। TAN एक वन टाइम पासवर्ड होता है। इंटरनेट उपयोगकर्ता के रजिस्टर्ड मोबाइल पर SMS द्वारा भेजा जाता है।
  • SSL (SECURE SOCKET LAYER) ब्राउज़र वेबसाइट का प्रयोग किया जाता है। जिससे कि इंटरनेट बैंकिंग के दौरान आपके द्वारा भरी जाने वाली जानकारी पूरी तरह से इंक्रिप्ट (encrypt) होती है। इसलिए इंक्रिप्शन एक महत्वपूर्ण मुद्दा नहीं है। या आधार के रूप में हस्ताक्षर वेरिफिकेशन का भी उपयोग करता है। किस पद्धति के जरिए, ग्राहक द्वारा किया गया ट्रांजैक्शन पर डिस्टर्ब रूप से हस्ताक्षर किए जाते हैं और इंक्रिप्ट किए जाते हैं। स्मार्ट कार्ड या किसी अन्य मेमोरी स्टरलिंक माध्यम का उपयोग हस्ताक्षर और इंक्रिप्शन स्टोर करने के लिए किया जाता है।

E-Banking क्या होता है?

बैंकों द्वारा अपने ग्राहकों को प्रदान की जाने वाली इंटरनेट संबंधी बैंकिंग सेवा E-Banking कहलाती है। यहां पर अंग्रेजी अल्फाबेट ‘E’ का तात्पर्य इलेक्ट्रॉनिक से होता है। ई बैंकिंग की सुविधा इंटरनेट को एक माध्यम के रूप में उपयोग करती है। इस सुविधा के तहत बैंक अपने ग्राहक को फंड ट्रांसफर, ब्लॉक का भुगतान, बैंक अकाउंट ऑनलाइन खोलना और इसके अलावा बहुत सारी सुविधाएं प्रदान करती है।

ग्राहकों को ई बैंकिंग देने के लिए मुख्य रूप से दो तरीके होते हैं :-

  • इलेक्ट्रॉनिक ट्रांजैक्शन सेवा देने वाली होती उपस्थिति बैंक
  • ट्रांजैक्शन सेवा प्रदान करने वाले वर्चुअल बैंक

इस तरह की सुविधाएं देने वाले बैंक ज्यादातर भौतिक उपस्थिति रखते हैं और ऑनलाइन बैंकिंग सुविधा प्रदान करते हैं। लेकिन, वर्तमान समय में कुछ ऐसे भी बैंक हैं जिनकी कहीं भी कोई भी बौद्धिक उपस्थिति नहीं है। एक लेकिन वह इंटरनेट पर एक अधिकारिक वेबसाइट के जरिए बैंकिंग सुविधाएं वर्चुअल रूप से प्रदान करते हैं।

ई बैंकिंग की क्या विशेषताएं हैं?

अगर आप अपने पास में एटीएम कार्ड रखते हैं, और आप एटीएम के जरिए अक्सर पैसे निकालते हैं। तो आप कहीं ना कहीं बैंक द्वारा प्रदान की जाने वाली E-BANKING की सुविधा ले रहे होते हैं। वास्तव में एटीएम एक इलेक्ट्रॉनिक टर्मिनल होता है जो बैंक ग्राहक को कभी भी पैसे निकालने की सुविधा प्रदान करती है।

एटीएम मशीन एटीएम से इनपुट लेती है जो बैंक अपने ग्राहक को प्रदान करती है। एटीएम का उपयोग करने के लिए ग्राहक के पास में एक पासवर्ड होना चाहिए। इसके अलावा बैंक द्वारा दिया गया एटीएम कार्ड होना चाहिए। तभी जाकर के कोई भी व्यक्ति एटीएम का इस्तेमाल कर सकने में सक्षम होता है।

डिपॉजिट और विड्रोल (डायरेक्ट) – ई बैंकिंग के तहत या सेवा ग्राहक को खाते में नियमित रूप से भुगतान करने की सुविधा प्रदान करता है। ग्राहक को बैंक अपने बिलों का भुगतान करने, किसी भी प्रकार की किस्तों, बीमा भुगतान और कई अन्य से पैसे निकालने का अधिकार दे सकता है।

फोन के द्वारा भुगतान – यह सेवा ग्रह को किसी भी बिल भुगतान के लिए अनुरोध करने या किसी अन्य खाते पर धन का हस्तांतरण करने के लिए बैंक से संपर्क करने की अनुमति देता है।

पॉइंट ऑफ सेल ट्रांसफर टर्मिनल – या सेवा ग्राहक को तुरंत डेबिट/ क्रेडिट कार्ड के माध्यम से खरीदारी एवं भुगतान करने की अनुमति देती है।

E-BANKING के कितने प्रकार होते हैं?

भारत जैसे देश में ई बैंकिंग के मुख्यतः तीन प्रकार हैं :-

  1. इंटरनेट बैंकिंग – ग्राहक इंटरनेट का उपयोग करके पैसों का हस्तांतरण एक खाते से दूसरे खाते में कर सकने में सक्षम होता है। इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल करने के लिए ग्रहक के पास में स्मार्टफोन, लैपटॉप, कंप्यूटर और टेबलेट होना जरूरी होता है।
  2. इलेक्ट्रॉनिक चेक :- यह एक तरह का आभासी चेक होता है जिसका इस्तेमाल आप इंटरनेट पर पैसों को ट्रांसफर करने के लिए करते हैं। इस माध्यम का इस्तेमाल करने के लिए PayPal जैसे प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  3. ATM मशीन – ग्राहक एटीएम का उपयोग करके और नकद राशि निकाल सकते हैं, नकद राशि जमा कर सकते हैं। इसके अलावा एटीएम का इस्तेमाल करके पैसों का हस्तांतरण एक एटीएम से दूसरे एटीएम धारक को भी कर सकते हैं।

निष्कर्ष

आज के हमारे इस लेख में आपने यह सीखा कि E-Banking, What is Internet Banking? इंटरनेट बैंकिंग क्या है? इसके अलावा हमने आपको इससे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी भी दी है। इससे संबंधित अगर आपकी कुछ सवाल एवं सुझाव है तो आप हमें कमेंट बॉक्स पर कमेंट करके पूछ सकते हैं।

इंटरनेट बैंकिंग के आज आने के बाद हमारे दिन प्रतिदिन के बैंकिंग संबंधी कार्य और भी अधिक सरल हो गए हैं। बैंकिंग कार्यों के लिए अब हमें लंबी-लंबी बैंकों के कतारों में खड़े होने की आवश्यकता नहीं पड़ती है। हम 24 * 7 कभी भी किसी को भी पैसे भेजने में सक्षम हो गए हैं।