What is Negotiable Instrument Act – नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट एक्ट क्या है?

What is Negotiable Instrument Act – नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट एक्ट क्या है? पूरे भारत में वित्तीय संस्थाएं, उद्योग संगठन और यहां तक कि सामान्य लोग भी लेन देन के लिए चेक के माध्यम का उपयोग करते हैं। चेक के माध्यम से वित्तीय कारोबार में होने वाली सुविधाओं के साथ-साथ समस्या भी उत्पन्न होती है। चेक के माध्यम से होने वाले शिकायतों को दर्ज कराने की व्यवस्था Negotiable Instrument Act, 1881 के अंतर्गत ही आता है।

नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट एक्ट 1881, भारत का एक कानून है जो कि परक्राम्य लिखित ( प्रॉमिजरी नोट, बिल ऑफ एक्सचेंज तथा चेक आदि) से संबंधित है। नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट को एक लिखित हस्ताक्षरित दस्तावेज के रूप में परिभाषित किया गया है। जो एक निर्दिष्ट व्यक्ति या असाइनमेंट को भुगतान करने का वादा करता है।

आज के हमारे इस लेख में हम लोग What is Negotiable Instrument Act – नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट एक्ट क्या है? इसके साथ ही, इसके महत्वपूर्ण धाराओं के बारे में भी जानकारी लेने वाले हैं। एक ग्राहक होने के नाते आपको बैंकिंग संबंधी यह जानकारी होना भी काफी जरूरी है।

What is Negotiable Instrument Act – नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट एक्ट क्या है?

नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट अधिनियम 1881 (Negotiable Instrument Act, 1881) एक तरह का कानून है, जो बैंकिंग संबंधी ग्राहकों को प्रॉमिजरी नोट, बिल ऑफ एक्सचेंज तथा चेक आदि चीजों में अधिकार एवं इससे संबंधित शिकायत दर्ज करने के लिए अधिकार प्रदान करता है।

इसी अधिनियम की धारा 13 (i) के अंतर्गत इसे परिभाषित भी किया गया है। इसके अंतर्गत नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट एक ऐसा दस्तावेज है जो किसी निर्दिष्ट व्यक्ति को असाइनमेंट भुगतान करने का वादा करता है। उदाहरण जैसे कि आप पैसों का भुगतान करने के लिए चेक बुक का इस्तेमाल करते हुए किसी व्यक्ति को चेक देते हैं।

दूसरे शब्दों में हम इसे ऐसे भी समझ सकते हैं, IOU के एक औपचारिक प्रकार के रूप में जिसे हस्तांतरणीय , हस्ताक्षरित दस्तावेज जो भविष्य की तारी किया मांग पर धनराशि का भुगतान करने का वादा करता है।

इस तरह से हम नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट को परिभाषित कर सकते हैं – परक्राम्य (Negotiable Instrument) एक लिखित दस्तावेज है जिसमें एक अनुबंध होता है, जो या तो मांग पर, या निर्धारित समय पर, दस्तावेज पर भुगतान कर्ता के नाम के साथ किसी विशिष्ट राशि के भुगतान की गारंटी देती है। नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट एक्ट 1881, एक लिखित दस्तावेज है तो यह परिभाषित करता है जिसका अर्थ है कि यह एक वचन पत्र, विनिमय बिल या चेक आदेश अनुसार देय है या वाहक को देय है।

भारत में, नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट एक्ट को साल 1881, मे पारित किया गया था। इस अधिनियम के तहत 147 धाराएं हैं और 17 पाठ (17 Chapter) है। वर्ष 2002 में धाराएं 143 से 147 जोड़े गए हैं। यह अधिनियम पूरे भारतवर्ष में लागू है।

नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट के श्रेणियां – Categories of Negotiable Instruments

1. NI Act के तहत

  1. प्रॉमिससरी नोट (Promissory Note) जिसके अंतर्गत जमा प्रमाण पत्र और वाणिज्य पत्र शामिल है।
  2. विनिमय का बिल (Bill of Exchange)
  3. चेक (Cheque)
  4. डिमांड ड्राफ्ट (Demand Draft) आदि शामिल है।

2. हस्तांतरण अधिनियम (Transfer of Property Act) धारा 137 के अंतर्गत

ऐसे दस्तावेज जो माल के शीर्षक (Title to Goods) के अंतर्गत आते हैं, उन्हें नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट में शामिल किया गया है। इसके अलावा बिल ऑफ लैंडिंग, रेलवे रसीद, डाक वारंट, वेयरहाउस रसीद, इत्यादि चीजों को भी लेकर सुबह इंस्ट्रूमेंट में शामिल किया जाता है।

नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट को हम ऐसे भी समझ सकते हैं। इसे प्रकृति में एक transferable के रूप में समझा जा सकता है, जो किसी भी धारक को नकदी के रूप में धन लेने या लेनदेन के लिए उपयुक्त तरीके से या उनकी पसंद के अनुसार उपयोग करने की अनुमति प्रदान करती है।

इस नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट के दस्तावेज में सूचीबद्ध राशि में एक निश्चित अमाउंट के अनुसार एक नोटेशन शामिल है और इसे पूर्ण रूप से या तो मांग पर या निर्दिष्ट समय पर भुगतान किया जाना चाहिए।

नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट की एक विशेषता यह है कि इसे एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति को हस्तांतरित किया जा सकता है। एक बार जब instrument transfer हो जाती है तो धारक को इंस्ट्रूमेंट का एक पूर्ण legal title प्राप्त होता है।

इसके अतिरिक्त, कोई अन्य निर्देश या शर्तें लागू नहीं होती है। जो कि वह को करने के लिए निर्धारित किए जा सके। एक इंस्ट्रूमेंट के लिए Negotiable होने की स्थिति में या है कि, यह एक निर्माता या हस्ताक्षर के साथ हस्ताक्षरित होना चाहिए, नेगोशिएबल के maker द्वारा- the one issuing the draft. इस वित्तीय संस्थान को धन के drawer के रूप में संदर्भित किया जा सकता है।

नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट के प्रमुख धाराएं – Important Sections of Negotiable Instrument Act

1. Section 5 :- सेक्शन 5 के अंतर्गत बिल ऑफ एक्सचेंज (Bill of Exchange) के बारे में बताया गया है। बिल ऑफ एक्सचेंज रेट विनिमय पत्र एक लिखित आदेश पत्र है। जिसके द्वारा एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति को उसके द्वारा निर्देशित किसी व्यक्ति को एक निश्चित अवधि के पश्चात एक निश्चित भुगतान करने का आदेश देता है।

यह एक व्यक्ति द्वारा दूसरे व्यक्ति को, या फिर किसी तीसरे व्यक्ति को पैसे देने के लिए दिया गया आदेश होता है। इसके अंतर्गत 3 पक्ष होते हैं:-

  1. अहर्ता (Drawer) :- जो व्यक्ति/ पक्ष वी पत्र तैयार करता है उसे अहर्ता कहा जाता है यानी कि जो तीसरा पक्ष को धनराशि का भुगतान करने का आदेश देता है।
  2. स्वीकारकर्ता (Drawee):- यह एक व्यक्ति या एक पार्टी हो सकता है जिसे विपत्र दिया जाता है या नहीं जिसे भुगतान करने का आदेश दिया गया है।
  3. प्राप्तकर्ता (Payee) :- प्राप्तकर्ता वह व्यक्ति या पार्टी हो सकती है जिसके पक्ष में अंतिम रूप से बिल दिया गया हो।

2. Section 4 :- सेक्शन 4 के अंतर्गत प्रॉमिससरी नोट (Promissory Note) को शामिल किया गया है। प्रॉमिससरी नोट एक ऐसा इंस्ट्रूमेंट है जोकि निम्नलिखित हो सकता है :-

  • लिखित रूप में
  • एक बिना शर्त के उपक्रम या वादा (Containing an Unconditional undertaking)
  • एक निश्चित राशि का भुगतान करने के लिए
  • या किसी निश्चित व्यक्ति या साधन के वाहक के आदेश के लिए

3. Section 8 :- सेक्शन 8 के अंतर्गत होल्डर (Holder) के बारे में जानकारी दी गई है। धारा 8 के अनुसार एक धारक ऐसा व्यक्ति हो सकता है। जो अपने नाम पर उसके कब्जे का हकदार है ( अधिकार का कानूनी अधिकार प्राप्त करता है)। वास्तविक कब्जा आवश्यक नहीं है। एक व्यक्ति जिसका हक होता है। एक गलत साधन का कबजा कहते हैं अदा करता या एंडोर्सी धारक बने रहते हैं।

उस पर पार्टी से दे राशि प्राप्त करने या वसूल करने के लिए ( यानी एक वाहक या भुगतान करता या समर्थन करता या कानूनी उत्तराधिकारी जो उपकरणों को विरासत में मिला है) हो सकता है।

4. Section 9 :- सेक्शन 9 के अंतर्गत Holder in Due Course के बारे में बताया गया है। यह एक ऐसा विवेकी हो सकता है जो धारक नियत समय में एक व्यक्ति जिसके पास उपकरण होना चाहिए के बारे में बतलाता है। कबजा इसकी परिपक्वता के पहले बिल के मामले में मूल्यवान और वेद विचार के लिए प्राप्त करता है।

नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट के उदाहरण – Example of Negotiable Instrument

एक नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट के कई सारे उदाहरण हैं और अधिक सामान्य नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट में से एक व्यक्तिगत जांच होती है। यह मूल रूप से एक ड्राफ्ट के रूप में कार्य करता है। एक निश्चित राशि की रसीद पर वित्तीय संस्थान का उल्लेख करके दिया जाता है।

मनी ऑर्डर काफी हद तक एक चेक के रूप में ही कार्य करता है। लेकिन जरूर नहीं कि भुगतान करता कि वित्तीय संस्थान द्वारा जारी किया जाए। अक्सर मनी आर्डर जारी होने से पहले भुगतान करता से नकद प्राप्त किया जाना चाहिए। एक बार payee द्वारा मनी आर्डर प्राप्त करने के बाद इसे जारी करने वाली इकाई की नीतियों के अनुरूप नकद के लिए एक्सचेंज किया जा सकता है।

वही जब हम सामान्य चेक की तुलना Traveler’s Cheque से करते हैं तो यह थोड़ा अलग होती है, क्योंकि उन्हें पैसे के लेनदेन का पूरा करने के लिए दो हफ्ता अक्षरों की आवश्यकता होती है। तभी जाकर के इस तरह के चेक का सही समय पर भुगतान किया जाता है। एक बार भुगतान हो जाने पर या निर्धारित करते हैं कि वह किसके लिए भुगतान जारी करेगा, भुगतान की शर्त के रूप में एक काउंटर सिग्नेचर प्रदान करना अनिवार्य होता है।

Traveler’s Cheque का इस्तेमाल ज्यादातर मामलों में तब किया जाता है जब कोई भुगतानकर्ता किसी विदेशी यात्रा कर रहा होता है और वह पेमेंट मेथड की तलाश में होता है जो यात्रा करते समय चोरिया धोखाधड़ी के खिलाफ सुरक्षा का एक अतिरिक्त स्तर प्रदान करता है।

निष्कर्ष

आज के हमारे इस लेख में आपने क्या सीखा? आज के हमारे इस लेख में हमने आप लोगों को इस बारे में जानकारी उपलब्ध कराई है कि What is Negotiable Instrument Act – नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट एक्ट क्या है? इसके अलावा हमने आज के अपने इस लेख में नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट अधिनियम के महत्वपूर्ण धाराओं के बारे में भी आपको यहां पर जानकारी उपलब्ध कराने की कोशिश की है।

आज के हमारे इस लेख से संबंधित अगर आप के कुछ सवाल एवं सुझाव है तो आप हमें कमेंट बॉक्स पर कमेंट करके बता सकते हैं।