What is difference between Share Market and Stock Market – शेयर मार्केट और स्टॉक मार्केट के बीच अंतर

जो भी हम शेयर बाजार के बारे में बात करते हैं, तो हमारे मन में शेयर मार्केट और स्टॉक मार्केट दोनों का ख्याल आता है। लेकिन दोनों में कुछ अंतर होता है। आज का हमारा यह लेख इसी के ऊपर है। आज हम पहचानेंगे की शेयर मार्केट और स्टॉक मार्केट में क्या अंतर है? What is difference between Share Market and Stock Market – शेयर मार्केट और स्टॉक मार्केट के बीच अंतर

What is difference between Share Market and Stock Market – शेयर मार्केट और स्टॉक मार्केट के बीच अंतर

कंपनी अधिनियम, 2013 की धारा 61 के अनुसार, कंपनी अपने शेयरों को परिवर्तित कर सकती है। यानी सीधे शब्दों में कहे तो कोई भी कंपनी द्वारा शेयर को जारी किया जाता है। जो पूरी तरह से भुगतान किए जाते हैं, जिन्हें हम स्टॉक स्टॉक कह सकते हैं। ‘शेयर‘ सबसे छोटी इकाई है जिसमें कंपनी की पूंजी को विभाजित किया जाता है। कंपनी में शेयर धारक के स्वामित्व का प्रतिनिधित्व करता है।

‘ स्टॉक’ लोगों के शेयरों का संग्रह होता है, जिसे पूरी तरह से पूंजी बाजार में भुगतान किया जा सकता है। जब कोई व्यक्ति बाजार से शेयर खरीदता है तो वह शेयर धारक बन जाता है। इस तरह से वह संबंधित कंपनी के लाभांश और संबंधित कंपनी में शेयर के प्रतिशत के अनुसार मालिकाना हक रखता है।

सभी शेयर सामान्य रूप से अलग-अलग मूल्य वर्ग के होते हैं। जबकि स्टॉक का मूल्य अलग होता है। जब कोई शेयरों में निवेश करना चाहता है तो उसे शेयर के साथ साथ स्टॉक में क्या अंतर है इसके बारे में भी पता होना चाहिए।

शेयर और स्टॉक के बीच में अंतर

  • किसी भी कंपनी की पूंजी की छोटी इकाइयों में विभाजित होने पर उन्हें शेयर कहते हैं। वही किसी सदस्य के द्वारा उन शेयरों को खरीद करके इकट्ठा करने को स्टॉक कहा जाता है।
  • शेयर को आंशिक या पूरी तरह से भुगतान किया जा सकता है। स्टॉक केवल पूरी तरह से भुगतान किए जाते हैं।
  • शेयरों की संख्या एक निश्चित होती है जो कि किसी विशिष्ट कंपनी द्वारा जारी की जाती है। स्टॉक में कितनी संख्या नहीं होती।
  • शेयर का आंशिक हस्तांतरण संभव नहीं है। वही, स्टॉक का आंशिक हस्तांतरण किया जा सकता है।
  • शेयर हमेशा मूल रूप से जारी किया जाता है जबकि स्टॉक को मूल रूप से जारी नहीं किया जाता है।
  • किसी भी शेयर की एक निश्चित संख्या होती है, जिसे एक विशिष्ट संख्या के रूप में जाना जाता है जो इसे अन्य शेयरों से अलग करता है। लेकिन एक ही स्टॉक की संख्या सीमित नहीं होती।
  • शेयरों का नाम मात्र मूल्य होता है, लेकिन स्टॉक का कोई मूल्य नहीं होता है।
  • शेयर को आंशिक रूप से स्थानांतरण नहीं किया जा सकता, जबकि स्टॉक को किया जा सकता है।

शेयर की परिभाषा

एक शेयर किसी कंपनी की शेयर पूंजी की सबसे छोटे हिस्से के रूप में परिभाषित किया जाता है। जो कंपनी में शेयरधारकों के स्वामित्व के अनुपात का प्रतिनिधित्व करता है।

शेयर ,शेयर धारकों और कंपनी के बीच में एक संबंध का काम करती है। शेयर की बिक्री के लिए शेयर को शेयर बाजार में पेश किया जाता है। शेयर तभी जारी किए जाते हैं, जब कोई कंपनी बाजार से पूंजी इकट्ठा करनी चाहती हो। शेयर चल संपत्ति है जो कंपनी के एसोसिएशन ऑफ आर्टिकल में निर्देश तरीके से स्थानांतरित किए जा सकते हैं।

शेयर को मुख्य तौर पर दो रूप में बांटा जा सकता है

  1. इक्विटी शेयर
  2. वरीयता शेयर

इक्विटी शेयर किसी भी कंपनी के सामान्य शेयर होते हैं जो वोटिंग अधिकार प्रदान करते हैं। जबकि वरीयता शेयर ऐसे शेयर होते हैं जो लाभांश के भुगतान के लिए अधिकृत होते हैं। यदि कोई कंपनी डूबती है तो सबसे पहले वरीयता शेयरधारकों को भुगतान किया जाता है।

स्टॉक की परिभाषा

किसी भी कंपनी द्वारा जारी किए गए शेयर को, एक स्टॉक के रूप में खरीदना स्टॉक स्टॉक कहलाता है। जब किसी सदस्य के शेयरों को एक फंड में परिवर्तित किया जाता है तो उसे स्टॉक के रूप में जाना जाता है।

शेयरों द्वारा सीमित एवं सार्वजनिक कंपनी अपने पूर्ण भुगतान वाले शेयर को स्टॉक में परिवर्तित कर सकती है। तो उसे स्टॉक के रूप में जाना जाता है। हालांकि स्टॉक का मूल मुद्दा संभव नहीं है। शेयर को स्टॉक में बदलने के लिए निम्नलिखित शर्त पूरी की जानी चाहिए।

  • एसोसिएशन द्वारा लेखों को इस तरह के रूपांतरण को निर्दिष्ट करना चाहिए।
  • कंपनी को कंपनी की वार्षिक आम बैठक में एक साधारण प्रस्ताव पारित करने के बाद ही शेयर को स्टॉक में परिवर्तित किया जा सकता है।
  • कंपनी निर्धारित समय के भीतर शेयरों में शेयरों के रूपांतरण के बारे में कंपनियों के रजिस्ट्रार को नोटिस भेज सकती है।

शेयरों को स्टॉक में बदलने के बाद, कंपनी के सदस्यों का रजिस्टर उनके द्वारा रखे गए शेयरों के स्थान पर प्रत्येक सदस्य द्वारा रखे गए स्टॉक को दिखाता है। हालांकि सदस्यों के मतदान के अधिकार में कोई बदलाव नहीं होता है। इसके अलावा शहर के हस्तांतरण पर भी कोई प्रभाव नहीं पड़ता। उन्हें अब अंश रूप से हस्तांतरित किया जा सकता है। जिसे हम फॉरवर्ड स्टॉक और कॉमन स्टॉक के नाम से जानते हैं।

निष्कर्ष

आज के हमारे इस लेख में हमने आप सभी लोगों को इस बारे में जानकारी दी है कि What is difference between Share Market and Stock Market – शेयर मार्केट और स्टॉक मार्केट के बीच अंतर । संक्षेप में कहा जा सकता है कि कंपनी की पूंजी का छोटा सा हिस्सा शेयर होता है। जबकि किसी सदस्य द्वारा रखे गए शेयर का संग्रह स्टॉक कहलाता है। भारतीय कंपनी अधिनियम, 2013 में शेयरों को स्टॉक में बदलने और इसके विपरीत एक समिति कंपनी की अधिकृत करने की क्षमता दी है। इसके अंतर्गत कुछ कानूनी औपचारिकताएं पूरी करना जरूरी होता है। आपको आज का मारा यह लेख कैसा लगा? हमें कमेंट बॉक्स पर कमेंट करके जरूर बताएं। इससे संबंधित अगर आपकी कुछ सवाल एवं सुझाव है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में बता सकते हैं।