Share market क्या है? Share market kya hai in Hindi

Share market, पर हर कोई पूंजी या पैसा लगाने के लिए आपको जरूर सलाह देता होगा, या फिर कई बार आपने टीवी चैनल पर शेयर मार्केट के बारे में जरूर सुना होगा।
दोस्तों आज के हमारे इस पोस्ट में हम आपको what is Share market in Hindi. Share market क्या है? कैसे काम करती है? इन सारी चीजों के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे हैं। Share market kya hai
आज के जमाने में अगर आपके पास पैसे हैं तो, आप उसका निवेश कर सकते हैं। उन पैसों को व्यवसाय, या फिर share market पर invest कर सकते हैं। इससे आपकी अच्छी खासी कमाई भी हो जाती है। दुनिया में से पैसे कमाना कौन नहीं चाहता, ऐसा हर इंसान की जरूरत को पूरा करने के लिए बहुत ही जरूरी होती है।

अगर हर व्यक्ति यही सोचता है, उसके पास में अगर पैसे होते तो वह अपने हर सपनों को पूरा करने में सक्षम होता। इसलिए पैसे हर इंसान के लिए अहमियत रखती है। क्योंकि, अगर आपके पास पैसे है तो आपके पास इज्जत, दौलत, शोहरत, रिश्तेदार, दोस्त, और हर सुख सुविधा होती है।

ऐसे तो आप पैसे कई सारे तरीकों से कमा सकते हैं। इसके लिए कई लोग नौकरी करते हैं, तू कई लोग व्यापार business घर के पास ही कमाते हैं। तो कुछ लोग इस दुनिया में ऐसे भी है, जो अपने पैसों को दाव लगा कर के पैसों से पैसे बनाते हैं। अगर आप भी उन सारे लोगों में से एक है जो risk लेने के लिए हमेशा तत्पर रहते हैं। तो, आप अपने पैसे को Share market पर लगा सकते हैं। लेकिन हमारी यह साला रहेगी कि आप share market के बारे में जानकारी आवश्यक ले लीजिए। क्योंकि, शेयर मार्केट में सही तरीके से लगाया गया पैसा आपको लाभ और मुनाफा देता है। वहीं अगर आपने शेयर मार्केट में सही तरीके से पैसे नहीं लगाए तो आपको भारी जोखिम का सामना भी करना पड़ सकता है।

जहां आज के आधुनिक युग में नई पीढ़ी के युवा तेजी से अपनी पूंजी संपत्ति जमा करने के बारे में सोचते हैं। और किसी भी जोखिम को लेने से नहीं डरते हैं। और वे चाहते हैं कि जल्दी से जल्दी अमीर या ज्यादा से ज्यादा पैसे कमा सकें। इसके लिए वे अपने पैसों को Mutual fund, Share market, Stock exchange, bond, gold bond, इत्यादि चीजों पर लगाते हैं।

इनमें से कई सारे लोगों को इन सारी चीजों के बारे में सही से जानकारी भी नहीं होती है। जिसके चलते उन्हें हानि उठानी पड़ती है। तो, दोस्तों आज के हमारे इस पोस्ट में हम आप लोगों को Share market क्या है? What is share market in Hindi. Share market kya hai. Share bazar in Hindi. और Share market कैसे काम करता है? इसके बारे में विस्तार से जानकारी उपलब्ध करा रहे हैं।

Share market क्या है? Share bazar क्या है? What is share market in Hindi

आप में से बहुत सारे लोग “Share”शब्द का हिंदी अर्थ तो जरूर जानते होंगे। अगर आपको नहीं पता तो कोई बात नहीं, “Share”शब्द का हिंदी अर्थ “हिस्सा”होता है। वही Share market या stock market एक ऐसा बाजार है जहां पर बहुत सारी कंपनी के Share की खरीद बिक्री की जाती है।

जब भी आप Share market से शेयर खरीदते हैं, तो इसका साफ-साफ मतलब यह है कि आप उस कंपनी में अपनी हिस्सेदारी खरीदते हैं। माना कि वर्तमान समय में किसी कंपनी के शेयर का मूल्य ₹10 (Face value) है, यह कंपनी अपने क्षेत्र में बहुत ही बढ़िया कर रही है।₹10 की दर से आपने उस कंपनी के 1000 शेयर खरीदे, यानी कि आपने उस कंपनी की हिस्सेदारी कर दी है। भविष्य में अगर यह कंपनी और बेहतर करता है, और इसके प्रति शेयर का मूल्य बाजार के आधीन ₹100 प्रति शेयर तक पहुंच जाता है। तो सीधे तौर पर आपको इससे मुनाफा पहुंचता है। जिससे आपको बहुत से फायदे होते हैं जैसे कि कंपनी आपको लाभांश का dividend भी अदा करती है। जिसके चलते आपको मुनाफा होता है।

यह एक साधारण सा उदाहरण है, लेकिन आप हमेशा इस बात का ध्यान रखें कि Share market जोखिमों के आधीन होती है। किसी भी कंपनी के शेयर को खरीदते वक्त उसका track record, profit report, उसके शेयर के दामों में उतार-चढ़ाव हमेशा से देखने को मिलते हैं। जिसके चलते आपको थोड़ी बहुत जानकारी उस कंपनी के शेयर खरीदते वक्त रखनी पड़ती है। अन्यथा, आपको घाटा पहुंच सकता है।

Share market kya hai?

शेयर बाजार क्या है? – What is Share market in Hindi

Share market को पूंजी बाजार या capital market के नाम से भी जाना जाता है। आप सभी को याद जरूर पता होगा Share market का हमारी अर्थव्यवस्था में अहम योगदान है। पूरी दुनिया में किसी भी देश की अर्थव्यवस्था की मजबूती उस देश की पूंजी व्यवस्था पूंजी मार्केट से आंकी जाती है। जैसा कि हमने ऊपर जिक्र किया है, Share market एक ऐसा बाजार है जहां पर किसी कंपनी की हिस्सेदारी की खरीद बिक्री की जाती है। लेकिन किसी भी Stock exchange, Share market पर शेयर की खरीद-फरोख्त आजकल digital तरीके से की जाती है।

यानी कि जहां पहले आप जब भी किसी कंपनी की हिस्सेदारी यानी कि शेयर खरीदते थे, तब आपको उस कंपनी के शेयर में हिस्सेदारी के बदले certificate प्रदान किया जाता था। जो यह प्रमाणित करता था कि आप उस कंपनी के हिस्सेदार हैं। लेकिन जैसे-जैसे आधुनिकतम चीजों ने हमारे जीवन में पांव पसारा है, वैसे वैसे बहुत सी चीजें computer आधारित, digital होती जा रही है।

यानी कि अब जब आप Share market से शेयर खरीदते हैं तो यहां पर सारी प्रक्रिया डिजिटल तरीके से की जाती है। पहले की तरह आपको बहुत से paper works करने की आवश्यकता नहीं पड़ती है। यानी कि बहुत सी चीजें को dematerialized कर दिया गया है। Capital market में निवेश करने के बहुत सारे तरीके अपनाए जाते हैं, जिसमें – share bond, Mutual fund और debenture इत्यादि निवेश securities या उपकरण है। लेकिन Share market में Share में किया गया निवेश लोगों के बीच में सबसे लोकप्रिय साधन है।

Share market कैसे काम करती है?

जैसा कि हमने ऊपर बताया है, शेयर मार्केट में होने वाले बहुत से कार्यों को dematerialized कर दिया गया है। जिसके चलते पहले की तरह आपको शेयर मार्केट से शेयर खरीदने के लिए बहुत से paperwork करने की आवश्यकता नहीं पड़ती है।

वही पुराने जमाने यानी कि 90 के दशक की बात करें तो share की खरीद-फरोख्त करने के लिए मौखिक बोली लगाई जाती थी। इसके बाद सारा लेन-देन Stock exchange के computer ise network के माध्यम से ऑटोमेटिक तरीके से किया जाना शुरू किया गया। अब ब्रोकर को “स्टॉक एक्सचेंज”जाने की आवश्यकता नहीं पड़ती, बल्कि वह अपने कंप्यूटर, मोबाइल फोन, स्मार्टफोन की सहायता से ही घर बैठे ही Share market से share खरीद सकता है। Share market kya hai

Share market से Share कैसे खरीदें?

शेयर मार्केट से शेयर खरीदने के लिए आपके पास दो तरीके हैं। जिसे हमने नीचे विस्तारपूर्वक सूचीबद्ध करके बताया है।

1. Share broker के माध्यम से

शेयर मार्केट में बड़ी-बड़ी कंपनियां निवेशक Stock exchange में सूचीबद्ध कंपनियां की शेयर की खरीदारी एवं बिकवाली share broker के माध्यम से ही की जाती है। ब्रोकर अपने ग्राहकों के लिए शेयर करता है और बेजता है, इसके बदले में ब्रोकर को brokerage यानी कि दलाली मिलती है। ब्रोकर किसी भी Stock exchange के रजिस्टर्ड मेंबर (registered member) होते हैं। यानी कि आप यस कह सकते हैं कि, broker किसी भी Stock exchange और ग्राहक शेयर बाजार में अहम कड़ी का काम करते हैं।

2. IPO (Initial public offering) के माध्यम से

यह वह तरीका है जिसमें आप सीधे कंपनी से शेयर खरीदते हैं। यहां पर कोई brokerage या broker नहीं होता है।
IPO वह तरीका है जब कोई कंपनी पहली बार आम निवेशकों के लिए share प्रस्तुत करती है। इसके जरिए कंपनी निवेशकों को निवेश करने का मौका देती है। आप Initial public offering के जरिए किसी कंपनी के शेयर खरीद सकते हैं। Share market kya hai

Stock broker कौन होते हैं?

जैसा कि हमने इसके बारे में ऊपर थोड़ी बहुत चर्चा की है। Stock broker, Stock exchange का registered member होता है, वह किसी भी कंपनी के शेयर को निवेशकों को बेचने खरीद-फरोख्त करने के लिए broker या दलाली करता है। इसके बदले में stock broker को brokerage मिलता है। सीधे शब्दों में समझे तो एक broker, Stock exchange और किसी भी ग्राहक (customer) के बीच अहम कड़ी होता है।

Broker वह होता है, जिसके पास निवेशक का डीमैट खाता (Demat account) और व्यापार करने के लिए Trading account खोला जाता है। अब आप साफ-साफ समझ गए होंगे, की ब्रोकर क्या होता है? Share market kya hai

अगर आप शेयर मार्केट से शेयर खरीदने के बारे में सोच रहे हैं, तो आपको ब्रोकर के माध्यम से ही डीमैट खाता और व्यापार करने के लिए ट्रेडिंग खाता खोलते हैं। SEBI के नियम अनुसार आप बिना Demat account खोलें स्टॉक एक्सचेंज से शेयर की खरीद-फरोख्त नहीं कर सकते हैं। तुमको यह समझ में आ ही गया है कि ब्रोकर किस तरह से अहम भूमिका निभाते हैं। share market in Hindi

Stock exchange क्या होती है? What is Stock exchange in Hindi

किसी भी कंपनी को अपने शेयर बेचने के लिए एक बाजार की आवश्यकता होती है। इसलिए वह अपने हिस्सेदारी या शेयर को किसी बाजार पर list करता है। जिसे हम साधारण शब्दों में शेयर बाजार कहते हैं। जिसे Stock exchange भी कहा जाता है। भारत में दो Stock exchange है :-

  • NSE – NATIONAL STOCK EXCHANGE
  • BSE – BOMBAY STOCK EXCHANGE
  • भारत में NSE और BSE दो प्रमुख securities exchange के रूप में जाने जाते हैं। जहां पर अधिकतर कंपनियों के शेयर listed होते हैं। Broker के साथ निवेशक अपना Demat account और trading account के माध्यम से शेयर की खरीद-फरोख्त करते हैं।

  • SEBI – Securities and Exchange Board of India

    Stock Exchange पर निगरानी एवं नियम कानून को बनाए रखने के लिए SEBI मार्केटिंग रेगुलेटरी (marketing regulatory body) के रूप में कार्य करती है। जिसका मुख्य काम broker या दलालों के ऊपर निगरानी रखना, शेयर बाजार की गतिविधि पर नजर बनाए रखना है।

  • इसकी स्थापना 12 अप्रैल 1992 को सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया एक्ट के तहत किया गया था। इसका मुख्यालय बांद्रा कुर्ला कंपलेक्स के बिजनेस डिस्ट्रिक्ट में स्थित है। इसके अलावा नई दिल्ली, कोलकाता, चेन्नई और अहमदाबाद में भी उतरी, पूर्वी, दक्षिणी और पश्चिमी क्षेत्रीय कार्यालय में मौजूद है। SEBI को प्रबंधन भारत सरकार की केंद्रीय सरकार द्वारा नामांकित अध्यक्ष द्वारा किया जाता है, इसमें 2 सदस्य केंद्रीय वित्त मंत्रालय के अधिकारी होते हैं, भारतीय रिजर्व बैंक से एक सदस्य और 5 अन्य सदस्यों को भी भारत सरकार द्वारा नामांकित किया जाता है।

  • SEBI के कार्य

    SEBI के निम्नलिखित कार्य हैं:-
  • प्रतिभूतियां जारी करना
  • निवेशक और बाजार की बीच में मध्यस्था
  • SEBI का उद्देश निवेशकों के अधिकार और हितों की रक्षा करना है।इसकी प्रस्तावना बताती है कि सेबी को प्रतिभूतियों में निवेश की हितों की रक्षा करना और उनकी विकास को बढ़ावा देना, और प्रतिभूतियों बाजार को विनियमित करना और उनसे जुड़े मामलों के साथ यह वाह प्रसांगिक मामलों को नियंत्रित करना चाहिए। सेबी के मुख्य उद्देश्य निवेशकों के अधिकार और हितों की मार्गदर्शक, शिक्षित और संरक्षित करना है और स्टॉक एक्सचेंज और सिक्योरिटीज उद्योग को विस्थापित कामकाज को बढ़ावा देने के लिए उन्हें भी नियमित करना है।
  • SEBI दलाल, उप दलालों, ट्रांसफर एजेंट, मर्चेंट बैंक, और agent का पंजीकरण करता है।
  • SEBI के आदेशों और दिशानिर्देशों का उल्लंघन करने पर शुल्क, दंड और अन्य शुल्क लिया जाता है।
  • Stock Exchange का निरीक्षण और संचालन जांच और लेखा परीक्षा आयोजित करता है।
  • यहअनुसाधन के संचालन के लिए सभी बाजार सौभाग्य और उपयोगी जानकारी प्रकाशित करता है।
  • इंसाइडर ट्रेडिंग को रोकता है।
  • म्यूचुअल फंडों को रजिस्ट्रेशन और विनियमित करता है।
  • धोखाधड़ी और अनुचित व्यापार व्यवहार ऊपर रोक लगाता है।
  • BSE – BOMBAY STOCK EXCHANGE
  • भारत में NSE और BSE दो प्रमुख securities exchange के रूप में जाने जाते हैं। जहां पर अधिकतर कंपनियों के शेयर listed होते हैं। Broker के साथ निवेशक अपना Demat account और trading account के माध्यम से शेयर की खरीद-फरोख्त करते हैं।
  • SEBI – Securities and Exchange Board of India

    Stock Exchange पर निगरानी एवं नियम कानून को बनाए रखने के लिए SEBI मार्केटिंग रेगुलेटरी (marketing regulatory body) के रूप में कार्य करती है। जिसका मुख्य काम broker या दलालों के ऊपर निगरानी रखना, शेयर बाजार की गतिविधि पर नजर बनाए रखना है।

  • इसकी स्थापना 12 अप्रैल 1992 को सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया एक्ट के तहत किया गया था। इसका मुख्यालय बांद्रा कुर्ला कंपलेक्स के बिजनेस डिस्ट्रिक्ट में स्थित है। इसके अलावा नई दिल्ली, कोलकाता, चेन्नई और अहमदाबाद में भी उतरी, पूर्वी, दक्षिणी और पश्चिमी क्षेत्रीय कार्यालय में मौजूद है। SEBI को प्रबंधन भारत सरकार की केंद्रीय सरकार द्वारा नामांकित अध्यक्ष द्वारा किया जाता है, इसमें 2 सदस्य केंद्रीय वित्त मंत्रालय के अधिकारी होते हैं, भारतीय रिजर्व बैंक से एक सदस्य और 5 अन्य सदस्यों को भी भारत सरकार द्वारा नामांकित किया जाता है।
  • SEBI के कार्य

    SEBI के निम्नलिखित कार्य हैं:-

  •  
  • प्रतिभूतियां जारी करना
  • निवेशक और बाजार की बीच में मध्यस्था
  • SEBI का उद्देश निवेशकों के अधिकार और हितों की रक्षा करना है।इसकी प्रस्तावना बताती है कि सेबी को प्रतिभूतियों में निवेश की हितों की रक्षा करना और उनकी विकास को बढ़ावा देना, और प्रतिभूतियों बाजार को विनियमित करना और उनसे जुड़े मामलों के साथ यह वाह प्रसांगिक मामलों को नियंत्रित करना चाहिए। सेबी के मुख्य उद्देश्य निवेशकों के अधिकार और हितों की मार्गदर्शक, शिक्षित और संरक्षित करना है और स्टॉक एक्सचेंज और सिक्योरिटीज उद्योग को विस्थापित कामकाज को बढ़ावा देने के लिए उन्हें भी नियमित करना है।
  • SEBI दलाल, उप दलालों, ट्रांसफर एजेंट, मर्चेंट बैंक, और agent का पंजीकरण करता है।
  • SEBI के आदेशों और दिशानिर्देशों का उल्लंघन करने पर शुल्क, दंड और अन्य शुल्क लिया जाता है।
  • Stock Exchange का निरीक्षण और संचालन जांच और लेखा परीक्षा आयोजित करता है।
  • यहअनुसाधन के संचालन के लिए सभी बाजार सौभाग्य और उपयोगी जानकारी प्रकाशित करता है।
  • इंसाइडर ट्रेडिंग को रोकता है।
  • म्यूचुअल फंडों को रजिस्ट्रेशन और विनियमित करता है।
  • धोखाधड़ी और अनुचित व्यापार व्यवहार ऊपर रोक लगाता है।
Demat account और Trading account क्या होता है?

Demat account एक तरह से बैंक अकाउंट की तरह ही कार्य करता है। लेकिन इस पर आप पैसों के बदले डिस्टल तौर पर share जमा करके रखते हैं। यानी कि आप इसमें securities यानी प्रतिभूतियों जैसे कि Share, share bond, Mutual fund और debenture जैसे उपकरणों को डिजिटल रूप से सजाकर रखते हैं। share market in Hindi. Share market kya hai
Trading account का उपयोग securities या प्रतिभूतियों की खरीद बिक्री के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इसे आप किसी भी Stock broker या Merchant Bank पर जाकर के खुलवा सकते हैं। बिना ट्रेडिंग अकाउंट के एप शेयर या प्रतिभूतियों की खरीद फरोख्त नहीं कर सकते हैं।

निष्कर्ष

दोस्तों आज के हमारे इस लेख में आपने सीखा की Share market क्या है? शेयर मार्केट में पैसे कैसे लगाए जाते हैं? भारत में सिक्योरिटीज की देखरेख कौन करता है? Stock Exchange क्या होती है? Stock exchange kaise karya karta hai. What is share market in Hindi. Share market kya hai
उम्मीद करता हूं कि आपको आज के हमारे इस पोस्ट से जरूर कुछ नया सीखने को मिला होगा, अगर आपको हमारा यह पोस्ट पसंद आया है तो आप इसे अपने दोस्तों, कलीग्स, रिश्तेदारों के साथ में social media पर शेयर भी कर सकते हैं। इससे संबंधित अगर आपकी कुछ सवाल एवं सुझाव है तो आप हमें कमेंट बॉक्स पर कमेंट करके बता सकते हैं।

About the author: Sids Dodrai

दोस्तों मैं इस ब्लॉक का संस्थापक हूं, मुझे इंटरनेट से जुड़ी और नई नई जानकारियां काफी पसंद है, इसलिए मैं ब्लॉगिंग के माध्यम से आप सभी को अच्छी से अच्छी जानकारी उपलब्ध कराने की कोशिश करता हूं।,??

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DMCA.com Protection Status