What is Index fund? इंडेक्स फंड क्या होता है?

What is Index fund? इंडेक्स फंड क्या होता है? इक्विटी पर निवेश की जब भी बात करते हैं तो आमतौर पर इसके कीमत में स्थिरता नहीं होती है। इस तरह के इक्विटी निवेश पर विश्लेषण के बाद ही बेहतर विकल्पों में निवेश की जरूरत होती है। जैसा कि आपको पहले से ही पता है कि म्यूच्यूअल फंड जोखिम के अधीन होती है। लेकिन, अगर आप जोखिम नहीं उठाएंगे तो आपको बड़ा फायदा भी नहीं होगा।

इसलिए आप कह सकते हैं कि equity market पर जोखिम ज्यादा होता है। लेकिन जोखिम लेना हर निवेशक को पसंद नहीं होता है। इसलिए Index fund ज्यादातर लोग इंडेक्स फंड पर निवेश करना पसंद करते हैं। क्योंकि, इसमें जोखिम कम होता है। इंडेक्स फंड एक जोखिम से मुक्त और कास्ट इन्वेस्टमेंट माना जाता है। यहां पर अत्यधिक जोखिम और ज्यादा प्रयास करने वाली समस्या नहीं होती है। इसीलिए निवेशक कम लागत पर आसानी से इक्विटी फंड पर निवेश कर सकते हैं। आज के हमारे इस लेख में हम यह बात करने वाले हैं कि What is Index fund? इंडेक्स फंड क्या होता है?

What is Index fund? इंडेक्स फंड क्या होता है?

Index fund को weighted-average कम अपोजिट इसको में गिना जाता है, जो स्टॉक मार्केट के प्रदर्शन को ट्रैक करती है। स्कोर कैलकुलेशन करने के लिए चुनिंदा शेयर के स्टॉक प्राइस का उपयोग करके किया जाता है जो किसी तरह से बाजार के रिप्रेजेंटेटिव होते हैं। जैसे कि बीएसई सेंसेक्स और निफ़्टी इसके उदाहरण है।

इंडेक्स फंड को इंडेक्स म्युचुअल फंड या इंडेक्स फंड की कैटेगरी में रखा जाता है जो कि एक तरह का म्यूच्यूअल फंड ही होता है। यह फंड उसी सिक्योरिटीज में निवेश करते हैं, जिससे इंडेक्स को आसानी से ट्रैक करते हैं। और इस तरह से यह मैनेज फंड भी होते हैं। क्योंकि फंड मैनेजर सिर्फ अंडर लाइन इंडेक्स के एसेट एलोकेशन की तर्ज पर पैसों का निवेश करते हैं इसीलिए फंड के द्वारा कोई निवेश की रणनीति नहीं होती है। बस इसकी एकमात्र शर्त यह है कि निवेश का कम से कम 95% की सिक्योरिटी होती है।

इंडेक्स फंड की खासियत – feature of Index fund

इक्विटी फंड मैं जहां आपको ज्यादा जोखिम उठाना पड़ता है। लेकिन इंडेक्स फंड में ऐसा नहीं होता। इंडेक्स फंड को मध्यम जोखिम के निवेश पर रखा जाता है। इक्विटी मैनेजमेंट द्वारा बाजार में बेहतर प्रदर्शन करने वाले रणनीति अपनाई जाती है। जिसकी पोर्टफोलियो में भी हाई रिस्क वाले निवेश शामिल होते हैं इसके विपरीत इंडेक्स फंड का रिटर्न उस अंडर लाइन इंडेक्स से जुड़ा होता है जिसे ट्रैक किया जा रहा होता है।

इंडेक्स फंड की एक और खासियत यह भी है कि इसमें एक्सपेंस रेशियो (expense ratio) कम होता है यानी कि आपने जो निवेश की लागत लगाई है वह भी काफी कम होती है। देखा जाए तो इंडेक्स फंड को सक्रिय रुप से मैनेज फंड की तुलना में कम खर्चीला विकल्प माना जाता है। सेबी (SEBI) के म्युचुअल फंड नियम रेगुलेशन के अनुसार, किसी भी इंडेक्स फंड के लिए एक्सपेंस रेशियो दिल्ली नेट ऐसेट के 1% से भी अधिक नहीं हो सकता है।

किसी भी स्टॉक एक्सचेंज पर इंडेक्स फंड का कारोबार नहीं होता है, इसीलिए नियमित फंड की तुलना में इंडेक्स फंड की लिक्विडिटी (liquidity) भी कम होती है। इंडेक्स फंड को open ended स्कीम के अंदर रखा जाता है। जिसका मतलब यह होता है कि आप कभी भी अपने म्यूच्यूअल फंड यूनिट्स को म्यूचुअल फंड में वापस ऐड बेच सकते हैं और अपने पैसे को कभी भी बुना सकते हो।

इंडेक्स फंड पर किस को निवेश करना चाहिए?

अगर आप लंबे समय पर अच्छा रिटर्न चाहते हैं तो हमारी यह सलाह रहेगी कि आप इंडेक्स फंड में जरूर निवेश करें। इंडेक्स फंड में लंबे समय तक निवेश करने से आपको अच्छी खासी रिटर्न प्राप्त होती है।

इंडेक्स फंड में खासतौर पर उन लोगों को निवेश करना चाहिए जिन्हें स्टॉक मार्केट या शेयर मार्केट के बारे में अधिक जानकारी नहीं है। जिन्हें ऐसा लगता है कि उसको मार्केट या शेयर मार्केट पर अगर वे अपने पैसे लगाते हैं तो उसमें रिस्क ज्यादा है।

अगर आप इंडेक्स म्युचुअल फंड में कम से कम लंबे समय के लिए यानी कि 30 से 40 साल तक अगर थोड़े थोड़े पैसे यानी हर माह ₹500 भी लगाते हैं तो वह आने वाले 30 से 40 सालों में करोड़ रुपए बन जाते हैं। अगर आप 30 से 40 सालों बाद अच्छा रिटर्न कमाने के बारे में सोच रहे हैं तो हमारी यह सलाह रहेगी कि कम से कम ₹500 आप हर महीने एसआईपी (SIP) के माध्यम से इंडेक्स फंड में अवश्य ही लगाएं।

अगर हम SENSEX और NIFTY के पिछले 30 से 35 सालों का रिकॉर्ड देखें तो इसने लगभग 17 से 20% के आसपास का CAGR लाभ अपने निवेशकों को दिया है। अगर इस हिसाब से गणना की जाए तो आप बिना कोई जोखिम उठाए ही 30 से 35 सालों में करोड़ों रुपए बना सकते हो।

इंडेक्स फंड में निवेश से क्या फायदे हैं – Benefit of investment in Index fund

इंडेक्स फंड में निवेश किए कई सारे फायदे हैं जिनके बारे में हम नीचे एक सूची बद्ध तरीके से आप लोगों को बता रहे हैं। इंडेक्स फंड में निवेश करके आप एक तरीके से अर्थव्यवस्था पर निवेश कर रहे हैं। इस तरह के फंड में स्टॉक सिलेक्ट करने के लिए किसी फंड मैनेजर की आवश्यकता नहीं होती है। इसके अलावा भी इंडेक्स फंड के कई सारे फायदे हैं।

1. इंडेक्स फंड के द्वारा अर्थव्यवस्था में निवेश :- किसी भी देश का शेयर बाजार या स्टॉक मार्केट केवल वह उस स्टॉक मार्केट को प्रदर्शित नहीं करता बल्कि वह उस देश की अर्थव्यवस्था को भी प्रदर्शित करता है। इस तरह से देखा जाए तो अगर आप इंडेक्स फंड पर निवेश करते हैं तो आप एक तरह से अर्थव्यवस्था पर निवेश कर रहे होते हैं। जैसा कि हमने इस बारे में ऊपर बताया है कि जब भी आप इंडेक्स फंड पर निवेश करते हो तो यह मध्यम जोखिम पर रखा जाता है। अगर आप इस पर लंबी अवधि के लिए निवेश करते हैं तो कोई भी अर्थव्यवस्था लंबी अवधि पर अच्छा काम करती है। जिसके चलते इंडेक्स फंड पर किए गए निवेश से आपको अच्छा रिटर्न भी प्राप्त होता है।

2. Index fund एक passive managed fund होता है। जब भी हम बीच गर्लफ्रेंड को मैनेज करने की बात करते हैं तो देखा जाए तो म्यूच्यूअल फंड को दो तरह से मैनेज किया जाता है। पहला Active managed fund जिस पर फंड मैनेजर द्वारा लगातार स्टॉक मार्केट का विश्लेषण करके खरीद और बिक्री का कार्य होता है। वहीं दूसरी तरफ म्यूच्यूअल फंड में इंडेक्स फंड ऐसा है जिसमें किसी भी तरह की लगातार स्टॉक मार्केट के विश्लेषण की आवश्यकता नहीं होती। इस तरह के फंड का पैसा इंडेक्स में शामिल कंपनियों में ही निवेश होता है।

3. इंडेक्स फंड में फंड मैनेजर की भूमिका नहीं होती – दूसरे में म्यूच्यूअल फंड की तुलना में इंडेक्स फंड में किसी भी तरह के फंड मैनेजर की जरूरत नहीं होती है और इस तरह हम किसी फंड मैनेजर द्वारा गलती से बच जाते हैं। इंडेक्स फंड का स्टेप अप और प्रोसेस शुरू हो जाने पर यह लगातार चलता रहता है।

निवेशक को या पहले से ही पता होता है कि उसका पैसा केवल इंडेक्स कंपनियों पर ही लगाई जाएगी और इस तरह से निवेश की बात के लिए वह निश्चित हो सकता है। उसका पैसा केवल सबसे ज्यादा अच्छा कर रही कंपनियों के इंडेक्स पर ही लगाया जाएगा।