NIFTY क्या है? What is NIFTY in Hindi

NIFTY क्या है? आपने शेयर बाजार पर NIFTY के उतार-चढ़ाव के बारे में अखबारों में या समाचार पत्रों में जरूर पढ़ाया देखा सुना होगा। लेकिन क्या आपने कभी यह सोचा है NIFTY क्या है? जब भी शेयर बाजार की बात आती है तो nifty सूचकांक शब्दों का उपयोग अधिकतर किया जाता है। अक्सर न्यूज़ चैनल या अखबारों के माध्यम से NIFTY शब्द आपने जरूर सुना या पढ़ा होगा। लेकिन क्या आपने सोचा है कि आखिर NIFTY क्या है?

आज हमारे इस पोस्ट में हम या जानेंगे कि NIFTY क्या है? कैसे काम करती है? Nifty का इतिहास क्या है? इसकी शुरुआत कैसे हुई? इत्यादि जानकारी हम लोग यहां पर हिंदी भाषा में सरल शब्दों में देंगे।

NIFTY क्या है?

NIFTY का full form होता है, ‘National Stock Exchange fifty’ यह दो शब्दों से मिलकर बना हुआ है। इसे शेयर बाजार में NIFTY 50 के नाम से भी जाना जाता है और आमतौर पर ज्यादातर लोग इसे NIFTY के नाम से भी जानते हैं।

NIFTY , स्टॉक एक्सचेंज यानी कि NSE में listed भारत की सबसे बड़ी मार्केट कैप वाली 50 कंपनी का समूह होता है। यहां पर जिसकी सूचकांक को दर्शाया जाता है। Nifty में सूचीबद्ध कंपनियां के शेयरों में होने वाले उतार चढ़ाव या तेजी और मंदी को दर्शाता है। इसका आधार वर्ष साल 1995 है। इसकी गणना 3 नवंबर 1995 से की जाती है और इसका इंडेक्स आधार 1000 माना गया है। NIFTY में 50 प्रमुख शेयरों का इंडेक्स है या नहीं या 50 शेयरों पर आधारित सूचकांक होती है।

NIFTY दो शब्दों से मिलकर बना हुआ है पहला national और दूसरा Fifty इससे यह साफ है कि निफ़्टी एनएससी पर सूचीबद्ध 50 प्रमुख शेयर पर आधारित index है। यह बाजार की गतिविधियों को बेहतर तरीके से प्रतिनिधित्व करती है।

Nifty मेथी जी से उछाल सेहतमंद अर्थव्यवस्था की ओर संकेत करता है। वहीं अगर इसमें ज्यादा बिकवाली अर्थव्यवस्था में मंदी के संकेत देता है। Nifty index किसी भी बाजार की स्थिति को बेहतर तरीके से दर्शाने का एक पैमाना है। यानी यह एक मार्केट को रुझान दर्शाता है। इंडेक्स में सम्मिलित शेयरों में हलचल होने पर निफ़्टी इंडेक्स पर भी इसका असर होता है।एक इंटेक्स में हमेशा ऑफिस टोंक होते हैं जो काफी सक्रिय और ऊंची मार्केट cap वाली कंपनियां होती है। इंटेक्स की गणना में इन शेयरों को इनके मार्केट capitalisation की तुलना के मुताबिक महत्व दिया जाता है।

आप साफ-साफ समझ गए होंगे Nifty एक ऐसा सूचकांक है एक जिसमें 50 शेरों को लिस्टेड किया जाता है। उनके भाव में होने वाले तेजी या मंदी का भी ध्यान रखा जाता है और उनकी भी सूचना प्रदान करता है। निफ़्टी 50 भारत का सबसे प्रमुख और महत्वपूर्ण स्टॉक इंडेक्स है। आसान शब्दों में कह तो NIFTY एक तरह का stock index होती है जो कि भारत के 50 प्रमुख कंपनियों के स्टॉक को इंडेक्स करे हुए होता है।

NIFTY कैसे काम करती है?

NIFTY में भारत के 50 बड़ी कंपनियां जिनका मार्केट कैपिटल बहुत बड़ा होता है, उन्हें निफ्टी में सूचीबद्ध किया जाता है। जैसा कि हमने ऊपर बताया इन बड़ी कंपनियों के शेयर पर तेजी या मंदी भारतीय अर्थव्यवस्था को भी दर्शाती है।यह 50 कंपनियां अपने क्षेत्र की दिग्गज कंपनियों में से एक होती है। इनका market capitalisation पूरे शेयर मार्केट का 60% होता है। इनकी गणना भी ठीक उसी तरह से की जाती है जिस तरह से SENSEX की गणना floating capitalisation के method से किया जाता है।

Note:- Floating capitalisation एक प्रकार का तरीका है। जोकि किसी भी कंपनी के कैपिटल का वह भाग होता है जिसे पब्लिक के ट्रेडिंग के लिए मार्केट में उपलब्ध कराया जाता है।

Note:- Market capitalisation किसी भी कंपनी का मार्केट capitalisation निकालने के लिए हम उसके कुल शेयर को उसके बाजार में मौजूद शेयर के भाव से गुणा करते हैं। उदाहरण के तौर पर अगर किसी कंपनी के कुल शेयरों की संख्या दस 10,000 है, और उस कंपनी के बाजार पर मौजूद share की संख्या 4000 है। और प्रत्येक शेयर की कीमत रु 100 है। तो, उस कंपनी का market capitalisation निकालने के लिए हम कुल शेयरों को उसके वर्तमान कीमत से गुणा करते हैं। हमारे इस उदाहरण की स्थिति में 10,000×100= ₹10,00,000 होता है। What is NIFTY in Hindi

NIFTY की गणना किस तरह से की जाती है?

Nifty कि गणना के लिए कुछ मापदंड तैयार किए गए हैं। जिसके आधार पर ही निफ्टी की गणना की जाती है। जैसे कि

  • निफ़्टी की गणना के लिए आधार वर्ष 1995 है।
  • इसका आधार अंक 1000 होता है।
  • निफ्टी की गणना NSE में सूचीबद्ध सबसे सक्रिय कारोबार करने वाले 50 कंपनियों का share के आधार पर की जाती है।
  • 24 शीर्ष क्षेत्रों में से 50 शीर्ष स्टॉक चुने जाते हैं।
  • निफ़्टी में 50 शेयरों का चयन इस मापदंड पर किया जाता है जिस तरह से मुंबई स्टॉक एक्सचेंज द्वारा अपनाई गई पद्धति के ठीक समान होती है।

NIFTY और SENSEX में क्या अंतर है?

निफ्टी और सेंसेक्स दोनों का इस्तेमाल भारतीय बाजार पर मंदी या तेजी किस तिथि को दर्शाता है। लेकिन इसके बावजूद भी दोनों में कुछ अंतर है। जिसे हमने सूचीबद्ध तरीके से आप लोगों को बताने की कोशिश की है।

  • निफ़्टी नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का संवेदी सूचकांक या इंडेक्स होती है। जबकि sensex मुंबई स्टॉक एक्सचेंज का संवेदी सूचकांक या इंडेक्स होता है।
  • जहां sensex पर 30 शेयरों को सम्मिलित किया जाता है। वही nifty पर 50 शेयरों को सम्मिलित किया जाता है।
  • Sensex का आधार अंक 100 होता है और इससे आधार वर्ष 1979 के आधार पर आका जाता है। वही NIFTY का आधार अंक 1000 होता है। और इसका आधार वर्ष साल 1995 से गणना की जाती है।

एक नजर में देखा जाए तो, निफ्टी और सेंसेक्स दोनों ही एक ही तरह से काम करती है। दोनों का वास्तविक मकसद शेयर बाजार की स्थिति और उसका हाल-चाल बताना या दर्शना होता है। What is NIFTY in Hindi

NIFTY का हमारे अर्थव्यवस्था पर प्रभाव

आप में से बहुत सारे लोग यह सोच रहे होंगे भला Nifty का हमारे अर्थव्यवस्था पर क्या प्रभाव होगा।लेकिन मैं आपको यह साफ-साफ बता देना चाहता हूं कि निफ्टी का हमारे अर्थव्यवस्था पर एक गहरा प्रभाव होता है। जैसे कि हमने अपने ऊपर के लेख पर यह बताया है। NIFTY, 50 कंपनियों के ऐसे सूचकांक को दर्शाता है जो भारत की सबसे बड़ी कंपनियों में गिनी जाती है। जो कि पूरे NSE (National Stock Exchange) पर मौजूद कुल लिस्टेड कंपनियों का 60% मार्केट शेयर होता है। What is NIFTY in Hindi

NSE में मौजूदा समय में 6000 से भी ज्यादा कंपनियां मौजूद एवं लिस्टेड है। अगर मान लिया जाए कि इनमें से कोई कंपनी का सूचकांक बढ़ता है, तो जाहिर है कि वह कंपनी बेहतर एवं अच्छा प्रदर्शन कर रही होती है। जिसके चलते उसका मुनाफा भी बढ़ता है। इससे साफ झलकता है कि देश में मौजूद अर्थव्यवस्था भी अच्छी तरह से काम कर रही होती है। क्योंकि जितना ज्यादा भारतीय कंपनियां लाभ कम आएगी। इतना ज्यादा ही टैक्स आदि भारत की अर्थव्यवस्था पर जोड़ा जाएगा जो कि भारत की अर्थव्यवस्था को कहीं ना कहीं मजबूत करने की दिशा में कार्य करती है।

इसके अलावा nifty शेयर बाजार में होने वाली हलचल यानी कि तेजी और मंदी की जानकारी भी उपलब्ध कराता है। इससे हमें एक दृष्टांत में यह समझने में आसानी होती है कि भारत में मौजूद कंपनियां किस तरह से काम कर रही है। और साथ ही में शेयर बाजार का हाल क्या है? यह जानने में भी काफी मददगार साबित होती है। What is NIFTY in Hindi

NIFTY से क्या फायदे हैं?

NIFTY के कई सारे फायदे हैं। लेकिन हम यहां पर इनमें से कुछ प्रमुख फायदे के बारे में ही जानकारी उपलब्ध करा रहे हैं। जो कि इस प्रकार है:-

  1. NIFTY की सहायता से हम यह आसानी से जानकारी ले सकते हैं कि हमारा शेयर बाजार किस तरह से performance कर रही है।
  2. National Stock Exchange (NSE) पर उतार चढ़ाव या तेजी या मंदी के बारे में हम जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।
  3. NIFTY के माध्यम से उस में होने वाले तेजी या मंदी की सहायता से हम यह जानकारी एकत्रित कर सकते हैं कि हमारी अर्थव्यवस्था किस तरह से चल रही है।
  4. यदि NIFTY पर सूचकांक तेजी से ऊपर चढ़ता है, तो हम यह अंदाजा लगा सकते हैं कि हमारी अर्थव्यवस्था पर भी तेजी छाई हुई है। यानी की अर्थव्यवस्था ऊपर की ओर जा रही है। What is NIFTY in Hindi
  5. NIFTY के सूचकांक पर मंदी यानी कि वह नीचे की तरफ गिरता है तो यह भी दर्शाता है कि हमारी अर्थव्यवस्था नीचे की ओर जा रही है।

निष्कर्ष

तो दोस्तों आज के हमारे इस लेख में आपको कुछ नया जरूर सीखने को मिला होगा, हमने अपने इस पोस्ट पर Nifty के बारे में जानकारी उपलब्ध कराई है। NIFTY क्या है? What is NIFTY in Hindi के बारे में जानकारी उपलब्ध कराई है। इसके अलावा NIFTY कैसे काम करता है? इसका हमारे अर्थव्यवस्था पर क्या-क्या प्रभाव रहता है? इसके अलावा NIFTY सूचकांक क्या क्या दर्शाता है? इत्यादि चीजों के बारे में जानकारी उपलब्ध कराई है।दोस्तों उम्मीद करता हूं कि आपको हमारे द्वारा दी गई है जानकारी पसंद आई होगी। अगर आपको हमारे द्वारा दी गई है जानकारी पसंद आई है तो आप इसे social media पर अपने दोस्तों, सगे संबंधी, कलीग्स के साथ में इसे जरूर शेयर करें।

About the author: Sids Dodrai

दोस्तों मैं इस ब्लॉक का संस्थापक हूं, मुझे इंटरनेट से जुड़ी और नई नई जानकारियां काफी पसंद है, इसलिए मैं ब्लॉगिंग के माध्यम से आप सभी को अच्छी से अच्छी जानकारी उपलब्ध कराने की कोशिश करता हूं।,??

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DMCA.com Protection Status