PE ratio in Hindi – PE ratio क्या होता है?

0
603

शेयर बाजार में आपकी शेयर पर निवेश करना चाहते हैं? इसके बारे में पता लगाने के लिए बहुत सारे निवेशक PE ratio का विश्लेषण करते हैं। यह जानने के लिए कि सबसे बढ़िया शेयर मार्केट में उस कंपनी की शेयर की स्थिति क्या है यह एक काम का ट्यूल है। आज हम आपको PE ratio के बारे में बताएंगे। PE (Price earning) ratio भी कहते हैं। इसे हिंदी में मूल्य आय अनुपात कहा जाता है। PE ratio in Hindi – PE ratio क्या है ?

इसकी सहायता से आप किसी भी शेयर का PE ratio जान करके बाजार के बढ़ने की संभावना का अंदाजा भी लगा सकते हैं। किसी एक उद्योग या वर्ग के शेयरों का PE ratio को देख कर के आप अंदाजा लगा सकते हैं कि उस उद्योग या वर्ग के शेयर पर आने वाले भविष्य में क्या असर पड़ने वाला है। शेयर बाजार पर शेयर की कीमत कैसी रहेगी?

देखा जाए तो, PE ratio केवल एक संकेत मात्र होते हैं और निवेश का फैसला करने में सहयोगी साबित होते हैं, लेकिन जब भी आप निवेश करें तो कंपनी,उसके उद्योग तथा बाजार के बारे में पूरी जानकारी लेना भी जरूरी होता है।

PE ratio in Hindi – PE ratio क्या होता है?

जैसा कि हमने ऊपर जिक्र किया है, PE का फुल फॉर्म Price earning ratio होता है। इसकी सहायता से आप किसी भी दो प्रकार के शेयरों, जो दो अलग-अलग उद्योग या दो अलग अलग देश या वर्गों में है उनकी आप तुलना कर सकते हो।

PE ratio को आप एक काम का tool मान सकते हैं।एक ही शेयर या उद्योग या बाजार की कीमतों की तुलना उनके ऐतिहासिक मूल्यों और अनुपात से की जाती है। इनके मूल्यों की तुलना करके आप या पता लगा सकते हैं कि कोई शेयर या बाजार पहले कितने मूल्य अनुपात तक बढ़ा या गिरा है। PE ratio in Hindi – PE ratio क्या होता है?

ज्यादातर शेयर बाजार में PE ratio का इस्तेमाल केवल लाभ देना है वाले शेयर की गणना करने के लिए की जाती है। जब आए ही नहीं हो तो मूल्य आए अनुपात नहीं निकाल सकते हैं। अगर संक्षेप में आसान भाषा में समझे तो PE ratio यह जानने का तरीका है कि कंपनी की आय का जो हिस्सा प्रति शेयर को प्राप्त होगा उसका अनुपात में शेयर बाजार की कीमत क्या है?

PE ratio की गणना आप इस प्रकार कर सकते हैं।

PE Ratio = Market price/ EPS

OR

मूल्य आय अनुपात = शेयर की बाजार में कीमत/प्रति शेयर आय

यानी कि मूल्य अनुपात जाने के लिए सबसे पहले गिनते हैं , शेयर की बाजार में कीमत और उसे प्रति शेयर आय से भाग दे दिया जाता है। इसके परिणाम स्वरूप जो अनुपात निकलता है उसे हम मूल्य आय अनुपात कहते हैं। PE ratio in Hindi – PE ratio क्या होता है?

चलिए अब इसे एक उदाहरण से समझते हैं, मान लीजिए कि कोई कंपनी xyz के एक लाख से ₹10 मूल्य के बाजार में उपलब्ध है। कंपनी की वार्षिक आय रुपयों में 200000 रुपए है। इस प्रकार कंपनी xyz के शेयर का EPS होगा,

EPS = 200000/100000 =₹2 प्रति शेयर

यदि अब xyz कंपनी के शेयर का बाजार मूल्य ₹20 प्रति शेयर है तो उस कंपनी का PE ratio आप इस प्रकार निकाल सकते हैं।

PE ratio = 20/2 = 10

तब यहां पर xyz कंपनी का PE ratio=10 होगा।

PE Ratio का उपयोग क्या क्या है?

लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह आता है कि आप PE ratio तो निकाल ले जान गए हैं। लेकिन इसका उपयोग आप कैसे करेंगे। इसके लिए आपको जैसे कि हमने ऊपर उदाहरण दिया था Company xyz के शेयर के मूल्य का विश्लेषण करना होगा। यहां पर आपको देखना होगा कि Company xyz का PE ratio कब अधिकतम रहा है?

इसके अलावा आपको यह भी विश्लेषण करना होगा कि Company xyz किस प्रकार के उद्योग से संबंधित है। और उस उद्योग बाजार का औसत PE ratio कितना है? इन सारी चीजों का विश्लेषण और तुलना करके आप या अंदाजा लगा सकते हैं कि कंपनी xyz की वर्तमान कीमत में बढ़ने या घटने की कितनी संभावना है।

हमें यहां पर आपको यह बताया कि आप PE ratio की गणना किस प्रकार करेंगे। इसके अलावा आप इसकी तुलना बाजार से कैसे कर सकते हैं? इसके अलावा भी उस उद्योग से संबंधित औसत बाजार मूल्य अनुपात जिसे Industry PE ratio भी कहा जाता है से तुलना कैसे करेंगे?

Industry PE ratio क्या होता है?

हमने इसके बारे में ऊपर जिक्र किया है, किसी एक उद्योग या इंडस्ट्री में शामिल कंपनियों के औसत मूल्य आय अनुपात को उद्योग आय अनुपात कहा जाता है। दूसरे शब्दों में कहें तो इसे ही Industry PE ratio कहते हैं।

किसी भी उद्योग के ग्रोथ की संभावनाओं के अनुसार उस उद्योग का PE ratio कम या अधिक हो सकता है। कंपनी के PE ratio को उसके उद्योग के PE ratioसे तुलना करके भी कंपनी के शेयर की कीमत के बढ़ने की संभावनाओं का अनुमान लगाया जा सकता है।

निष्कर्ष

यहां पर हमने आप लोगों को यह जानकारी दी है कि आप किस तरह से किसी भी कंपनी के PE ratio की गणना कर सकते हैं? इसके अलावा हमने आपको यह भी बताया है कि आप किस तरह से इसकी तुलना उसके औसत उद्योग मूल्य अनुपात से करके भविष्य में कंपनी के शेयर में होने वाले उतार-चढ़ाव की गणना भी कर सकते हैं। PE ratio in Hindi – PE ratio क्या होता है?

PE ratio किसी भी कंपनी के शेयर की स्थिति को समझने एवं उसका विश्लेषण करने के लिए केवल एक संकेत मात्र है। निवेश का फैसला करने में या आपको सहयोग करता है मगर जब भी निवेश करे तो कंपनी, उसके उद्योग और बाजार से संबंधित जानकारी लेना आवश्यक है। तभी जाकर के आप उस पर निवेश कर सकते हैं।

Leave a Reply