Database क्या होता है? types of Database in Hindi

0
2525

अगर आप इंटरनेट पर web browsing तथा अन्य internet services का इस्तेमाल करते हैं। तो आपने Database के बारे में कभी ना कभी तो सुना होगा।

लेकिन क्या कभी आपने सोचा है, Database क्या होता है? इंटरनेट पर इसका इस्तेमाल किस कार्य हेतु होता है।

उदाहरण:- internet पर मौजूद जितनी भी जानकारियां आपके पास internet के माध्यम से पहुंचती है। जैसे की- मान लीजिए कि आप Google search engine पर कोई विशेष topic पर आधारित data and information खोज रहे होते हैं। जैसे ही आप, उससे संबंधित keyword का इस्तेमाल Google search engine पर जानकारी प्रदर्शित कर देता है।

यह सारी की सारी जानकारी Database पर Store करके रखी हुई होती है। हमारे इस उदाहरण से आपको यह समझ में आ गया होगा, की Database क्या होता है? इंटरनेट पर हम इसका इस्तेमाल कैसे कर पाते हैं? लेकिन चलिए हम इसे विस्तार से जानते हैं।

Database क्या होता है? – What is Database in Hindi

किसी भी computer प्रणाली में संरक्षित या सुरक्षित data and information को database कहते हैं। आप यह कह सकते हैं कि database, जानकारी का संग्रहालय होता है। जहां बहुत सारी जानकारी Store, organised करके रखी जाती है।

Database , में बहुत सी जानकारियां रहती है, और उन सभी जानकारियों को organised and management किया जाता है। संक्षिप्त में समझे तो database में मौजूद जानकारी को सजा के रखा जाता है। जैसे कि आप अपने किताबों को table पर विषय अनुसार सजाकर रखते हो। इसका सबसे बड़ा उदाहरण है library जहां पर बहुत सारे किताबों की सूची किसी बड़े कंप्यूटर के database पर मौजूद रहती है। किताबों के प्रकार विषय अनुसार, किताबों की संख्या, किताबों किन किन व्यक्तियों को दी गई। यह सारी सूचनाएं database में ही मौजूद रहती है।

Database , का यह एक साधारण सा उदाहरण है। इसके अलावा भी डेटाबेस का इस्तेमाल हर क्षेत्र में जानकारी इकट्ठा करने के लिए किया जाता है। किसी ऑफिस में वहां मौजूद employee की जानकारी हो, या फिर employee की salary का विवरण, या फिर कर्मचारियों के छुट्टी लेने का विवरण, यह सारी चीजें किसी ऑफिस या कंपनी में MS Excel sheet पर किसी Database पर सुरक्षित या जमा करके रखा जाता है।

वहीं अगर हम banking sector की बात करें तो बैंक अपने प्रत्येक ग्राहक की जानकारियां जैसे कि name, address, phone number, account balance, account transaction इत्यादि जानकारियां भी database पर रखती है। Database पर रखी जानकारियों में हर दिन कई सारे modification परिवर्तन किए जा सकते हैं। इसके साथ ही, उन्हें अपने हो सकता अनुसार filter भी किया जा सकता है। ऐसी पूरी प्रक्रिया को तकनीकी भाषा में Database management कहा जाता है।

Database management system क्या है?

Database management system (DBMS) एक तरह का software system है, जिसके जरिए कोई भी user डेटाबेस को create, maintain, modify और control कर सकता है।

Database management कई सारे program से मिलकर बना होता है। जिससे कि user अपनी आवश्यकता अनुसार DBMS को maintain and control करने में सक्षम हो सके। यहां पर हमारा maintain से मतलब है डेटाबेस में बदलाव कर सके जैसे की:- edit, delete, modification, access, और update करना।

चलिए हम इसे एक उदाहरण से समझते हैं, मान लीजिए किसी school में 1000 विद्यार्थी है। जिन की विभिन्न जानकारी आपको इकट्ठे करनी है। जिसमें विद्यार्थी का नाम, विद्यार्थी का पता, विद्यार्थी के माता पिता का नाम, विद्यार्थी का जन्म तिथि इत्यादि। इसके लिए साधारण तौर पर कोई भी व्यक्ति register बनाएगा। जिसमें विभिन्न row and column बनाएगा। आगे किसी भी विद्यार्थी के बारे में जानकारी आसानी से मिल जाए इसके लिए रजिस्टर में row, column, table और serial number अनुसार उसमें यह सारी जानकारियां भरेगा। लेकिन इस जानकारी को फिर से निकालने, और परिवर्तित करने, या फिर अपडेट करने में काफी परेशानी होगी। इस चलते Database का मुख्य कार्य data management को आसान बनाना है।

वहीं अगर हम इन सारे विद्यार्थियों के बारे में जानकारी तकनीकी तौर पर किसी कंप्यूटर की मदद से टेबल, कॉलम, सारणी बना करके किसी file में computer पर Store करते हैं, तो वह database कहलाता है, इस तरह से किसी भी डाटा को लिखना tabular data कहते हैं। Computer पर database बनाने के लिए हम लोग DBMS software का इस्तेमाल करते हैं। इसके उपयोग से user को डाटाबेस में संरक्षित जानकारी को edit, update, access और modification कर पाने में सक्षम हो पाता है।

Database management (DBMS) के प्रकार – Types of database management in Hindi

DBMS को विभिन्न कार्य के लिए उनकी आवश्यकता अनुसार अलग-अलग category के लिए उपयोग में लिया जाता है। जैसे कि किसी भी वेबसाइट में मौजूद जानकारी भी डेटाबेस में मौजूद रहती है। लेकिन इस तरह के डेटाबेस को डाटा सर्वर डाटाबेस कहते हैं। तो चलिए डेटाबेस कितने प्रकार के होते हैं उससे पहले हम डेटाबेस के कुछ उदाहरण जान लेते हैं

1.My SQL database

यह एक प्रकार का object relational database management system है। इसका नाम co-founder Michael widenius की बेटी के नाम पर रखा गया है। यहां पर SQL का मतलब structured query language होता है। इस DBMS, सॉफ्टवेयर कंपनी का नाम my SQL lab है। जिसकी स्थापना साल 1995 में किया गया था। अब यह कंपनी Oracle corporation के अंतर्गत आती है।

2. Oracle

यह DBMS एक rational DBMS है, Oracle database को सामान्य रूप से Oracle RDBMS के नाम से भी जाना जाता है। इस डेटाबेस को Larry Ellison और उनके मित्र co-founder, Bob miner and Ad Ostad ने मिलकर के बनाया था जिसका नाम software development laboratories (SDL) रखा गया। इस तरह के डेटाबेस का इस्तेमाल ज्यादातर बड़ी कंपनियां करती है। यह डेटाबेस अपने आप में पहला डेटाबेस है जिसका इस्तेमाल enterprises grid computing के लिए भी design किया गया है।

3. Microsoft access

Computer technology की जानी मानी कंपनी Microsoft द्वारा इस डेटाबेस का प्रबंधन और संचालित किया जाता है। यह database, rational Microsoft Jet database engine को एक graphical user interference के साथ software development tool का इस्तेमाल करती है।

4. FoxPro

FoxPro वास्तव में एक text based proceedurally oriented programming language है। लेकिन इसके साथ ही FoxPro का इस्तेमाल database management system के रूप में भी किया जाता है।

यह एक object oriented programming language है। इस software का पहला संस्करण fox software ने public किया था। लेकिन बाद में Microsoft नहीं इसमें कुछ बदलाव किए और इसे MS – Dos, Windows and Unix version में इस्तेमाल करने के लिए develop किया था। अभी इसका नाम visual FoxPro है, लेकिन कुछ कारणों से साल 2007 में इसे बंद कर दिया गया।

5. D base

जितने भी database management system है। उन सब में से Dbase को सबसे पहले बनाया गया था। यह DBMS अपने जमाने में काफी प्रसिद्ध software हुआ करता था। इसमें यूजर को कई सारे features उपलब्ध कराए गए थे, जिनमें query system, database engine, form engine इत्यादि शामिल थे। इसमें एक साथ तीनों component को रन करने के लिए programming language का इस्तेमाल किया जा सकता था।

इस database management system को साल 1980 में ASHTON – TATE कंपनी ने बनाया था।

6. IBM DB2

इस database management system को साल 1983 में develop किया गया था। यह DBMS कई Windows, Unix and Linux system पर काम करती है। इस DBMS को लिखने के लिए निम्नलिखित भाषा assembly language, c, c++ का इस्तेमाल किया जाता है।

IBM DB2 का इस्तेमाल भी बड़ी-बड़ी कंपनियां एवं एंटरप्राइजेस करते हैं। इस DBMS की खास बात यह है कि इसे स्थापित करना काफी आसान होता है, और डाटा आसानी से सुलभ होते हैं, इसके साथ ही डाटा की मात्रा को कई bytes तक बचाने में सक्षम होता है।

यह कुछ प्रमुख database management सॉफ्टवेयरके प्रकार हैं। इनके अलावा भी कई सारे डेटाबेस मैनेजमेंट सॉफ्टवेयर है जिनकी सूची हम नीचे दे रहे हैं।

  1. Solar winds database performance analyser
  2. Altibase
  3. Microsoft access
  4. Tera data
  5. Filemaker
  6. PHP my admin
  7. SQL developer
  8. Orient DB
  9. Informix dynamic server
  10. Amazon RDS
  11. Redis
  12. SQLite
  13. Informix
  14. ADABAS
  15. CLOUDERA etc.

Types of DBMS in Hindi – डीबीएमएस के प्रकार

Database management system कई प्रकार के होते हैं। इन्हें इनके कार्य क्षमता अनुसार विभिन्न भागों में विभाजित किया गया है जैसे कि data base में data logically कैसे Store, organise and manipulate किया जा सकता है। इसी तरीके से DBMS को विभिन्न कैटेगरी में बांटा गया है।

  1. Relational database
  2. Network database
  3. Object oriented database
  4. Document database
  5. Hierarchical database

Relational Databases

इस तरह के डेटाबेस में कई तरह के data set को जोड़ा जाता है। जिसमें table, record , row and column द्वारा प्रदर्शित किया जाता है। इस तरह के डेटाबेस में tabular form की मदद से प्रत्येक Column एक attribute को प्रत्येक row, record को प्रत्येक field, data of value को represent करते हैं।

relational database model

Relational database में data को विभिन्न Row and column, table के रूप में संरक्षित एवं व्यवस्थित करता है । इस तरह के पंक्तियों को record या tuples भी कहा जाता है।

Network database

Network database एक ऐसा database है जो multiple records या tuples को एक साथ एक जगह link करने की अनुमति प्रदान करता है। इस तरह के मॉडल को आप एक उल्टे पेड़ structure की तरह भी देख सकते हैं। Network database संस्थाओं के बीच में connection बनाने के लिए network structure का उपयोग करता है। इसका ज्यादातर उपयोग digital computer पर किया जाता है।

database network model

Network database model का अविष्कार Charles Bachman नए साल 1969 में किया था।

Object oriented database

ODBMS object oriented database के लिए एक संक्षिप्त नाम है। यह एक ऐसा data model है, जिसमें data को object के रूप में संग्रहित किया जाता है। ODBMS में object को वास्तविक दुनिया की इकाई और class को वस्तुओं का एक collection कहा जाता है। जोकि object oriented programming के मूल सिद्धांतों का पालन करती है।

Object oriented data model के 3 भाग होते हैं, जिनमें है,

  1. Object structure
  2. Object class
  3. Object identification

Document Database

Document oriented database, या document Store एक कंप्यूटर प्रोग्रामिंग है, जिसका इस्तेमाल document oriented information को संग्रहित करने, पुनः प्राप्त करने, maintain करने और design करने के लिए किया जाता है। Document database को semi structured data के नाम से भी जाना जाता है।

Document database ,NoSQL डेटाबेस की एक प्रमुख श्रेणी है। लेकिन ज्यादातर लोग इसे document database के नाम से ही जानते हैं। XML database, डॉक्यूमेंट डाटाबेस कि एक subclass होती है।

Hierarchical Database

Hierarchical Database model में data को tree structure के रूप में represent किया जाता है। इसमें हर एक रिकॉर्ड के लिए single parent और उसमें कई child हो सकते हैं।

Hierarchical Database model को एक उदाहरण से समझते हैं। किसी भी बच्चे के रिकॉर्ड में केवल एक माता-पिता होते हैं। जबकि प्रत्येक माता-पिता के रिकॉर्ड में एक या एक से अधिक बच्चे के रिकॉर्ड हो सकते हैं। एक Hierarchical डेटाबेस से डाटा प्राप्त करने के लिए पूरे पेड़ को root node से शुरू करने की आवश्यकता होती है।

इस मॉडल को 1960 के दशक में IBM द्वारा बनाया गया पहला डाटा बेस मॉडल में से एक में गिना जाता है।

निष्कर्ष

दोस्तों आज के हमारे इस लेख में हमने आपको यह बताने की कोशिश की है कि डेटाबेस क्या है? – What is database in Hindi। आशा करता हूं कि आपको हमारे इस लेख से कुछ ना कुछ नया सीखने को जरूर मिला होगा। हमने अपने लेख में database model in Hindi के बारे में भी जानकारी उपलब्ध कराने की कोशिश की है। इसके साथ ही आपको database के बारे में जानकारी देने के लिए विभिन्न उदाहरण दिया है।

उम्मीद है कि आपको हमारा या लेख पसंद आया होगा,अगर आपको हमारा या लेख पसंद आया है तो आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बता सकते हैं। इससे संबंधित अगर आपकी कुछ सलाह है , या फिर हमारे इस लेख को संशोधन की जरूरत है तो आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं। साथ में इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना मत भूलिए।

Leave a Reply