What is difference between SIP and Mutual Fund Hindi

हमें से ज्यादातर लोग जब भी शेयर मार्केट के बारे में बात करते हैं तो हम SIP या Mutual Fund पर अपने पैसों को निवेश करने के बारे में सोचते हैं। हमें से ज्यादातर लोग इस बारे में नहीं जानते हैं कि एसआईपी और म्युचुअल फंड के बीच में क्या अंतर है। क्या एसआईपी एक म्यूच्यूअल फंड है? ऐसे ही कुछ सवाल है जिन्हें ज्यादातर निवेशक को शेयर बाजार या फिर अपने लिए म्यूचुअल फंड या एसआईपी कराने से पहले जानने की जरूरत होती है। आज के हमारे इस लेख में हम जानकारी लेंगे की What is difference between SIP and Mutual Fund? – एसआईपी और म्युचुअल फंड के बीच अंतर

मुझे लगता है कि, SIP (Systematic Investment Plan) को म्यूट फंड के रूप में बाजार में इतनी अच्छी तरह से मार्केटिंग की गई है, कि जब भी हम अपनी म्यूच्यूअल फंड के बारे में बात करते हैं तो हमारे मन में पहले एसआईपी का ही नाम आता है। लेकिन ऐसा नहीं है, दोनों के बीच में कुछ अंतर है। यहां म्यूच्यूअल फंड कारोबार के लिए अच्छा साबित हो सकता है। लेकिन एक निवेशक के लिए नहीं। कुछ लोग सोचते हैं कि सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान यानी की एसआईपी सुरक्षित है, एसआईपी के जरिए किसी भी तरह का टैक्स नहीं लगता, एसआईपी सुरक्षित होने के साथ-साथ ज्यादा ब्याज देने वाला इंस्ट्रूमेंट है। आज के हमारे इस लेख में हम इसी बारे में जानकारी लेंगे की एसआईपी और म्युचुअल फंड के बीच में क्या अंतर है।

What is difference between SIP and Mutual Fund? – एसआईपी और म्युचुअल फंड के बीच अंतर

आगे बढ़ने से पहले हमें यह जानकारी लेना जरूरी है कि असल में एसआईपी क्या है? इसे के साथी हम यह भी जानकारी लेंगे की म्यूच्यूअल फंड क्या होती है? तभी हमें इन दोनों के बीच में अंतर का पता चलेगा।

What is SIP? एसआईपी क्या है?

SIP का फुल फॉर्म “Systematic Investment Plan” होता है। जैसा कि आप इस के नाम से ही देख सकते हैं कि यह म्यूच्यूअल फंड में पैसे लगाने का एक व्यवस्थित तरीका है। आप हर महीने एक निश्चित तारीख पर इसमें अपने पैसों का निवेश करते हैं। एसआईपी के जरिए आप अपने बचत बैंक खाते को इस से जोड़ते हैं और स्वचालित रूप से हर महीने आपके बचत बैंक खाते से पैसे कट कर एसआईपी में निवेश हो जाते हैं।

आपके बचत बैंक खाते से काटे गए पैसे से आपके द्वारा पसंदीदा म्यूच्यूअल फंड यूनिट खरीदे जाते हैं जो आपके डीमैट खाते में जमा हो जाती है। तो देखा जाए तो एसआईपी एक व्यवस्थित तरीका है, जिसकी मदद से आप म्यूचुअल फंड में हर महीने निवेश करते हैं।

What is Mutual Fund? म्यूच्यूअल फंड क्या है?

Mutual Fund , जैसा कि इसके नाम से ही पता चल रहा है कि यहां फंड में कई लोगों का पैसा लगा होता है। म्यूचुअल फंड में विभिन्न निवेशक से पैसा इकट्ठा किया जाता है और इस पैसे को शेयर और बॉन्ड मार्केट इत्यादि में निवेश किया जाता है। निवेशकों को उनके पैसों के लिए यूनिट आवंटित कर दिया जाता है। अब इस यूनिट के अनुपात में शेयर या बॉन्ड खरीदने बेचने पर होने वाले मुनाफे को म्यूच्यूअल फंड हाउस फंड निवेशकों के बीच में बांट देते हैं।

म्यूच्यूअल फंड धारक को डिविडेंड या लाभांश फंड पर होने वाले सभी खर्च जैसे ऐसेट मैनेजमेंट शुल्क, एडमिन खर्चे, एजेंट का कमीशन आदि निकाल कर दे दिया जाता है। आमतौर पर म्यूच्यूअल फंड को बाजार में एक ही स्कीम के तहत समय-समय पर लॉन्च किया जाता है। किसी भी म्यूच्यूअल फंड के लिए जरूरी है कि वह अपना नाम भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड यानी कि SEBI के अंतर्गत रजिस्ट्रेशन करवाएं।

Why SIP is better Option ? एसआईपी के जरिए निवेश करना बेहतर विकल्प क्यों है?

ज्यादातर लोग आपको इस बारे में बताते भी दिखेंगे की एसआईपी में निवेश करना आपके लिए बेहतर है। क्योंकि, आप एक प्रकार से म्यूच्यूअल फंड में व्यवस्थित तरीके से निवेश कर रहे होते हैं। यह सच नहीं है, एसआईपी ऐसे लोगों के लिए अच्छा है जो हर महीने नियमित आय प्राप्त करते हैं। उदाहरण के तौर पर नौकरी पेशा व्यक्तियों के लिए। वह लंबे समय के लिए एसआईपी के जरिए इसमें निवेश कर सकते हैं। और हर महीने व्यवस्थित तरीके से म्यूचुअल फंड में निवेश करते हैं।

लेकिन, उन लोगों का क्या? जिनकी इनकम अनियमित है यानी कि ऐसे व्यक्ति या लोग जिन्हें हर महीने एक निश्चित रकम प्राप्त नहीं होती। उनके लिए एसआईपी में निवेश करना जोखिम भरा हो सकता है। कहने का मतलब यह है कि अनियमित आए वाले व्यक्ति हर महीने एक निश्चित राशि एसआईपी के जरिए जमा करने में सक्षम नहीं होते हैं। ऐसे व्यक्तियों के लिए एक ही उपाय है वह सीधे म्यूचुअल फंड में एकमुश्त राशि निवेश कर सकते हैं। जहां नियमित आय वाले व्यक्ति हर महीने कुछ राशि एसआईपी के जरिए म्यूचुअल फंड में निवेश करते हैं। तो अनियमित आए वाले व्यक्ति लम सम अमाउंट में एक ही बार में म्यूचुअल फंड में निवेश कर सकते हैं।

क्या एसआईपी एक म्यूच्यूअल फंड है?

नहीं, बिल्कुल भी नहीं। SIP एक व्यवस्थित तरीका है जिससे कि आप हर महीने म्यूचुअल फंड में कुछ रकम जमा करते हो और जिसके बदले में आपको यूनिट प्राप्त होते हैं। कोई एसआईपी म्यूचुअल फंड नहीं है। म्यूच्यूअल फंड एक निवेश का साधन है जहां पैसा निवेश किया जाता है और रिटर्न प्राप्त होता है। हालांकि एसआईपी म्यूचुअल फंड में पैसे निवेश करने का एक व्यवस्थित तरीका है।

म्यूच्यूअल फंड कई प्रकार के हो सकते हैं जो इस पर निर्भर करता है कि वह किस में निवेश करते हैं। म्यूच्यूअल फंड इक्विटी आधारित हो सकती है यदि वे अपने अधिकांश पैसों का निवेश शेयर बाजार में करते हैं तो यह डेट फंड कहलायेगा, यदि वे अपने अधिकांश पैसों को डेट इंस्ट्रूमेंट पर निवेश करते हैं तो यह एक अलग म्यूच्यूअल फंड का प्रकार होता है। किसी प्रकार अगर गोल्ड बॉन्ड, सरकारी प्रतिभूतियों, इत्यादि चीजों पर निवेश किया जाता है तो यह एक अलग तरह का म्यूच्यूअल फंड होता है।

SIP पर, आपको इस बारे में चिंता करने की जरूरत नहीं होती क्योंकि यहां पर आपके पैसों को व्यवस्थित कोई ऐसेट मैनेजमेंट कंपनी करती है। जो अपने पैसों को अपने हिसाब से अलग-अलग प्रतिभूतियों पर निवेश करती है। एक निश्चित समय के बाद इस में होने वाले लाभ को समान रूप से बांट दिया जाता है।

क्या एसआईपी निवेश का साधन है?

हां, SIP एक निवेश का साधन है जिसकी मदद से आप एक व्यवस्थित तरीके से म्यूच्यूअल फंड के अंदर इनडायरेक्टली निवेश करते हैं। लेकिन एसआईपी अपने आप में एक निवेश नहीं है। एसआईपी एक इंस्ट्रूमेंट है या एक तरीका है जिसकी मदद से आप म्यूच्यूअल फंड पर निवेश करते हैं।

यह निवेश के तरीकों में से एक है जिसमें आप चयनित म्युचुअल फंड योजना में पूर्व निर्धारित अवधि के लिए एक निश्चित राशि का निवेश कर सकते हैं। वास्तविक निवेश वह म्यूच्यूअल फंड योजना है जिसमें आप निवेश कर रहे होते हैं। जिसे आपकी ऐसेट मैनेजमेंट कंपनी द्वारा चयनित किया जाता है। कुछ लोग सोचते हैं कि म्यूच्यूअल फंड के फंड के अलग-अलग संस्करण होते हैं एक एसआईपी के लिए और दूसरा एक मुश्त के लिए। लेकिन ऐसा नहीं है। बस एसआईपी एक तरीका है जिससे कि आप म्यूच्यूअल फंड पर निवेश करते हैं।